Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

मलेरिया के बुखार से बचने के घरेलू इलाज

0

मलेरिया एक संक्रामक रोग है, जो की मादा मच्छर एनोफिलेज़ के प्रोटोज़ोआ परजीवी के द्वारा फैलता है, इसका कारण होता है जब यह मादा मच्छर आपको काटता है तो मलेरिया के परजीवी आपकी लाल रक्त कोशिकाओं में प्रवेश करके बढ़ने लगते है, और आपको बुखार आने लगता है, इसके साथ थकान, सर्दी, उबकाई, जुखाम आदि का अहसास भी होने लगता है, इस समय रोगी के शरीर का तापमान 101 से 105 डिग्री तक होने लगता है, और सांस फूलने, चक्कर आने भी शुरू हो जाते है।

fever

यदि आपको ऐसा एक भी लक्षण अपने अंदर महसूस हो और थकान का अनुभव होने लगे तो आपको एक बार डॉक्टर के पास जाकर अपने खून की जांच जरूर करवानी चाहिए, क्योंकि यदि यह आपके शरीर को पूरी तरह जकड लेता है, तो यह आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक सिद्ध हो सकता है, डॉक्टरी सलाह के अलावा आइये आज हम आपको मलेरिया से राहत के लिए कुछ घरेलू उपाय बताने जा रहे है जो आपको मलेरिया के बुखार से बचाने में मदद करते है, लेकिन इसके साथ आपको डॉक्टरी दवाइयों का भी इस्तेमाल करना चाहिए ताकि आप जल्दी ठीक हो सकें।

मलेरिया के लक्षण क्या होते है:-

  • इसके कारण आपको सबसे पहले ठण्ड लगने लगती है।
  • सर दर्द, चक्कर, शरीर के सभी हिस्सों में दर्द का अनुभव होने लगता है।
  • थकावट महसूस होने लगती है, शरीर में कमजोरी आ जाती है।
  • भूख नहीं लगती है।
  • सास फूलने लगती है, तेज चलने लगती है, सांस लेने में तकलीफ का अनुभव होता है।
  • ठण्ड के साथ बुखार भी तेजी से बढ़ता है।
  • घबराहट होने लगती है, जी मचलाने लगता है।
  • मलेरिया होने पर आपकी आँखे भी थका हुआ महसूस करती है जिसके कारण आपको कम दिखाई देता है।
  • शरीर में खून की कमी होने लगती है।

तुलसी का प्रयोग करें:-

tulsi

तुलसी को एक आयुर्वेदिक औषधि माना जाता है, साथ ही इसका इस्तेमाल बहुत सी दवाइयों को बनाने में भी किया जाता है, मलेरिया के उपचार में भी तुलसी आपकी बहुत मदद करती है, इसके इस्तेमाल के लिए आप दस ग्राम तुलसी के पत्ते को सात आठ काली मिर्च के साथ पीस कर, साथ में थोड़ा पानी भी मिलाएं, एक मिक्सचर तैयार करें, आप चाहे तो इसमें शहद भी मिला सकते हैं, सुबह शाम इसका सेवन करने से आपको मलेरिया से राहत पाने में मदद मिलती है।

अदरक का इस्तेमाल करें:-

अदरक का इस्तेमाल करने से न केवल आपकी सब्ज़ी और चाय का जायका बढ़ता है, बल्कि मलेरिया से निजात दिलाने में भी अदरक का इस्तेमाल काफी फायदेमंद होता है, इसके इस्तेमाल के लिए आप थोड़ी सी अदरक लेकर उसमे दो तीन चम्मच किसमिश डालकर एक गिलास पानी में अच्छे से उबालें, और जब तक उबालते रहें जब तक की पानी आधा न रह जाएँ, और इसके थोड़ा ठंडा होने पर दिन में कम से कम दो बार इसका सेवन करें, आपको फायदा मिलेगा, इसके अलावा हरसिंगार के पत्ते के साथ अदरक का रस और शक्कर मिलाकर सेवन करने से भी आपको मलेरिया से आराम मिलता है।

नीम का इस्तेमाल करें:-

नीम भी एंटी बैक्टेरियल गुणों से भरपूर होता है, और आप इसे वायरस रोधी पेड़ भी कह सकते है, नीम के पेड़ की छाल का काढ़ा पीने से आपको मलेरिया बुखार से राहत पाने में मदद मिलती है, इसके अलावा आप नीम के थोड़े से हरे पत्तों को चार या पांच काली मिर्च के साथ पीस कर अच्छे से पानी में उबाल लें, और उसके बाद छानकर इस पानी का सेवन करें, या आप नीम के तेल में नारियल या सरसों का तेल मिलाकर हल्का गरम करके अपनी मसाज करें, ऐसा करने से भी आपको मलेरिया से राहत पाने में मदद मिलती है।

गिलोय से करें हर तरह के बुखार को दूर:-

giloy

गिलोय की बेल भी किसी भी तरह के बुखार से निजात पाने और इनके वायरस से लड़ने में मदद करती है, इसके इस्तेमाल के लिए आप गिलोय की बेल की डंडियों मको पानी में उबाल लें, और अच्छे से इसे उबालने के बाद इसमें शहद मिलाकर चालीस से सत्तर मिलीमीटर पानी का नियमित सेवन करने से आपको मलेरिया से बचाव करने में मदद मिलती है, इसके अलावा आप मिट्टी के के छोटे बतरन में चालीस ग्राम गिलोय को पीस कर पानी के साथ मिलाकर रात भर के लिए ढक कर रख दें, और अगले दिन इसे छानकर दिन में तीन से चार बार इसका सेवन करें, आपको मलेरिया से राहत पाने में मदद मिलेगी।

अमरुद का सेवन करवाएं:-

अमरुद के सेवन से मलेरिया को दूर भगाने में बहुत मदद मिलती है, यदि किसी को मलेरिया हो जाएँ तो दिन में तीन से चार बार अमरुद का सेवन जरूर करना चाहिए, साथ ही अमरुद का बाहरी हिस्सा जरूर खिलाएं क्योंकि इसमें विटामिन सी बहुत अधिक मात्रा में होता है, जो आपको मलेरिया से बचाव करने में मदद करता है।

दालचीनी का इस्तेमाल करें:-

दालचीनी भी मलेरिया की समस्या से निजात पाने में आपकी मदद करती है, इसके इस्तेमाल के लिए आप एक छोटा चम्मच दालचीनी पाउडर को एक गिलास पानी में अच्छे से उबालें, और उसके बाद इसमें एक चुटकी कालीमिर्च और थोड़ा सा शहद मिलाएं, गुनगुना रहने पर इस पानी का सेवन करें, इसे भी दिन में कम से कम दो बार पीने से आपको मलेरिया से राहत पाने में मदद मिलती है।

धतूरे का इस्तेमाल करें:-

dhatura

भारतीय परम्परा में धतूरे का इस्तेमाल वैसे तो शिव पूजा के लिए किया जाता है, लेकिन यह मलेरिया से निजात पाने के लिए भी एक उत्तम उपाय है, इसके इस्तेमाल से आपके शरीर से मलेरिया के वायरस को खत्म करके आपको इससे निजात दिलाने में मदद मिलती है, इसके इस्तेमाल के लिए आप दो धतूरे के पत्ते लेकर उनका रस निकाल लें, फिर इस रस में थोड़ा गुड़ मिलाएं जिससे की इसकी छोटी छोटी गोलियां तैयार हो जाएँ, और नियमित सुबह उठकर इनका सेवन करें, ऐसा करने से आपको मलेरिया से राहत पाने में मदद मिलेगी।

पीपल के पत्तो का इस्तेमाल करें:-

मलेरिया से बचाव के लिए पीपल के पत्तो का इस्तेमाल करने से भी बहुत फायदा मिलता है, इसके इस्तेमाल के लिए आप पीपल के पत्तो को पीस कर उसमे शहद मिलाकर या फिर पीपल के पत्तों का पाउडर लेकर उसमे शहद मिलाकर एक चम्मच यदि रोगी को खिलाते हैं, तो ऐसा करने से भी मलेरिया से राहत पाने में रोगी को मदद मिलती है।

निम्बू का इस्तेमाल करें:-

निम्बू में मौजूद एंटी ऑक्सीडेंट भी आपको मलेरिया में आने वाले तेज बुखार को कम करने में मदद करते है, इसके इस्तेमाल के लिए आप एक कप गुनगुने पानी में आधा निम्बू निचोड़ कर दिन में दो से तीन बार इसका सेवन करके आपको इससे फायदा मिलेगा, साथ ही जल्दी ही आपको बुखार से राहत पाने में मदद मिलेगी।

तो ये कुछ घरेलू नुस्खे हैं जिनका इस्तेमाल करके आप मलेरिया से राहत पा सकते है, और साथ ही आपको तरल पदार्थो का सेवन भरपूर मात्रा में करना चाहिए, जैसे की समस्या पर तजा फलों का जूस, उबला हुआ पानी, निम्बू पानी आदि का सेवन करते रहने चाहिए, ताकि आपके शरीर में पानी की कमी न हो, और आपको स्वस्थ रहने में मदद मिल सकें, साथ ही डॉक्टर से राय और दवाइयों का सेवन भी करते रहना चाहिए।

Leave a comment