Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

पेल्विक एरिया में दर्द से बचने के उपाय

0

पेल्विक एरिया पेट का निचला हिस्सा होता है जिसे पेडू भी कहा जाता है। प्रेगनेंसी के दौरान अधिकतर महिलाएं इस दर्द से परेशान हो सकती है। क्योंकि गर्भाशय का आकार बढ़ने के कारण पेट के निचले हिस्से की मांसपेशियों में खिंचाव का अनुभव हो सकता है। इसके आलावा और भी कई कारण हो सकते हैं जिसके कारण गर्भवती महिला को पेल्विक एरिया में दर्द हो सकता है। पेल्विक एरिया में थोड़े बहुत दर्द का अनुभव होना आम बात होती है। लेकिन यदि दर्द बढ़ जाए तो इसे अनदेखा न करते हुए जल्दी से जल्दी डॉक्टर से राय लेनी चाहिए। तो आइये आज इस आर्टिकल में विस्तार से जानते हैं की प्रेगनेंसी में पेल्विक एरिया में दर्द के क्या कारण हो सकते हैं। और इस दर्द से बचने के लिए प्रेग्नेंट महिला क्या कर सकती है।

पेल्विक एरिया में दर्द होने के कारण

  • गर्भाशय का आकार बढ़ने के कारण।
  • पेट के निचले हिस्से की मांसपेशियों में खिंचाव होने के कारण।
  • शिशु का गर्भ में वजन बढ़ने के कारण पेट के निचले हिस्से पर जोर पड़ने के कारण दर्द का अनुभव हो सकता है।
  • यदि प्रेग्नेंट महिला को यूरिन इन्फेक्शन या प्राइवेट पार्ट में किसी तरह का इन्फेक्शन है तो भी पेल्विक एरिया में दर्द महसूस हो सकता है।
  • प्रेग्नेंट महिला के अंडाशय में गाँठ होने के कारण भी पेल्विक एरिया में दर्द का अनुभव ज्यादा हो सकता है।
  • गर्भवती महिला को कब्ज़, दस्त जैसी परेशानी के अधिक होने पर भी पेल्विक एरिया में प्रेग्नेंट महिला को दर्द अनुभव हो सकता है।
  • जिन महिलाओं को एक्टोपिक प्रेगनेंसी होती है उन्हें भी इस दर्द का अनुभव हो सकता है।
  • समय पूर्व प्रसव होने का एक लक्षण पेट के निचले हिस्से में दर्द का अधिक महसूस होना हो सकता है।
  • प्रेगनेंसी के शुरूआती समय में पेट के निचले हिस्से में तेजी से दर्द का होना गर्भपात का संकेत हो सकता है।

पेल्विक एरिया में दर्द से बचने के टिप्स

यदि गर्भवती महिला प्रेगनेंसी के दौरान पेट के निचले हिस्से में दर्द होने के कारण परेशान रहती है। तो कुछ आसान टिप्स का इस्तेमाल करके प्रेग्नेंट महिला इस समस्या से निजात पा सकती है। तो आइये अब जानते हैं की प्रेगनेंसी में पेल्विक एरिया के दर्द से निजात पाने के लिए प्रेग्नेंट महिला क्या कर सकती है।

मैटरनिटी बेल्ट

  • प्रेगनेंसी के दौरान पेट के निचले हिस्से के दर्द से आराम के लिए मैटरनिटी बेल्ट का इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • क्योंकि यह बेल्ट पेट व् रीढ़ की हड्डी को स्पोर्ट करती है।
  • जिससे पेट का भार को नीचे की तरफ ज्यादा महसूस नहीं होता है।
  • और पेट के निचले हिस्से में दर्द से राहत पाने में मदद मिलती है।

फाइबर युक्त आहार

  • गर्भावस्था के दौरान कब्ज़ की समस्या होने के कारण भी पेट के निचले हिस्से में दर्द महसूस हो सकता है।
  • ऐसे में कब्ज़ की समस्या से निजात के लिए प्रेग्नेंट महिला को अपनी डाइट में फाइबर युक्त आहार को शामिल करना चाहिए।
  • जिससे कब्ज़ की समस्या से बचे रहने में मदद मिलने के साथ पेल्विक एरिया के दर्द से आराम पाने में मदद मिल सके।
  • साथ ही प्रेग्नेंट महिला को फाइबर युक्त आहार का जरुरत से ज्यादा सेवन भी नहीं करना चाहिए क्योंकि दस्त के कारण भी पेल्विक एरिया में दर्द की समस्या हो सकती है।

डॉक्टर से मिलें

  • यदि पेट के निचले हिस्से में प्रेग्नेंट महिला को बहुत अधिक दर्द रहता है तो इसे अनदेखा न करते हुए डॉक्टर से मिलें।
  • ताकि डॉक्टर आपकी जांच कर सकें और पेल्विक एरिया में होने वाले दर्द का कारण पता करके उसका इलाज कर सके।
  • जिससे प्रेगनेंसी में आने वाली हर परेशानी से बचे रहने में मदद मिल सके।

तो यह हैं कुछ खास टिप्स जिनका इस्तेमाल प्रेगनेंसी के दौरान करने से गर्भवती महिला को पेडू यानी पेल्विक एरिया के दर्द से निजात पाने में मदद मिलती है। तो यदि आप भी प्रेग्नेंट हैं और पेडू के दर्द से परेशान हैं तो आप भी इन टिप्स का इस्तेमाल कर सकती है।

Leave a comment