Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

प्रदूषण का गर्भ (शिशु) पर प्रभाव और बचाव

0

प्रदूषण का गर्भ (शिशु) पर प्रभाव और बचाव, गर्भवती महिला और भ्रूण पर प्रदूषण का प्रभाव, गर्भ में पल रहे शिशु पर प्रदूषण का प्रभाव, गर्भवती महिला को प्रदूषण से बचाव के लिए क्या करना चाहिए

प्रेगनेंसी के दौरान महिला को गर्भ में शिशु के बेहतर विकास के लिए अपना बहुत अच्छे से ध्यान रखना पड़ता है, ताकि शिशु को किसी भी तरह की परेशानी न हो। क्योंकि महिला द्वारा प्रेगनेंसी में की गई थोड़ी सी लापरवाही शिशु के शारीरिक के साथ मानसिक विकास पर भी बुरा असर डाल सकती है। और प्रदूषण भी गर्भवती महिला के साथ साथ शिशु के लिए भी नुकसानदायक होता है। एक रिसर्च के अनुसार यदि गर्भवती महिला प्रदूषित वातावरण के संपर्क में आती है तो इसके कारण शिशु के मानसिक विकास में अवरोध उत्पन्न हो जाता है। तो आइये अब जानते हैं की गर्भ में पल रहे शिशु पर प्रदूषण का क्या असर पड़ता है, और आप किस तरह से इससे बच सकते हैं।

मानसिक विकास पर असर पड़ता है

जब भी आप कहीं बाहर प्रदूषित वातावरण में सांस लेते हैं, तो हवा में मौजूद विषैले कण आपके शरीर में प्रवेश कर जाते हैं। जो की न केवल प्रेगनेंसी के दौरान महिला को परेशान करते हैं बल्कि गर्भनाल के माध्यम से शिशु तक भी पहुँच जाते हैं। ऐसे में वो शिशु के मस्तिष्क को प्रभावित करते हैं, जिससे शिशु के मानसिक विकास में कमी आ सकती है।

इन्फेक्शन हो सकता है

जब प्रदूषण के कण ब्लड में मिक्स हो जाते है, तो इसके कारण ब्लड इन्फेक्शन, स्किन इन्फेक्शन, या एलर्जी होने के चांस बढ़ जाते है, और इससे गर्भवती महिला के साथ शिशु के सेहत पर भी बुरा असर पड़ता है, साथ ही जन्म के बाद शिशु को भी इन्फेक्शन होने चांस होते हैं।

विकलांगता हो सकती है

भीड़भाड़, प्रदूषण वाली जगह पर, ज्यादा शोर आदि में रहने पर शिशु के अंगो के विकास पर असर पड़ता है, यहां तक की शिशु की सुनने की क्षमता पर भी बुरा असर पड़ता है। ऐसे में शिशु के अंगो के सही विकास के लिए जितना हो सके प्रेगनेंसी के दौरान आपको इन सभी से परहेज करना चाहिए।

प्रदूषण से बचाव के लिए अपनाएँ यह टिप्स

  • प्रदूषण से बचाव के लिए सबसे पहले तो आप कहीं भी जाएँ आपको मास्क का इस्तेमाल करना चाहिए।
  • प्रेगनेंसी का पूरा समय आपको किसी भी ऐसी जगह पर नहीं जाना चाहिए जहां पर बहुत अधिक भीड़भाड़ हो।
  • शाम की बजाय सुबह घूमने या वॉक करने जाएँ, क्योंकि सुबह एयर फ्रैश होती है।
  • प्रेगनेंसी के समय आपको ज्यादा शोर वाली जगह पर जाने से भी परहेज करना चाहिए।

तो यह हैं कुछ परेशानियां जो प्रदूषण के कारण गर्भ में पल रहे शिशु के साथ हो सकती है, ऐसे में यदि आप चाहती है की आपका शिशु स्वस्थ, हष्ट पुष्ट, और तेज दिमाग वाला हो तो प्रेगनेंसी में आपको प्रदूषण वाली जगह पर जाने से परहेज करना चाहिए।

Leave a comment