Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

गर्भावस्था के चौथे महीने में शिशु का विकास और गर्भवती महिला के शरीर में बदलाव

0

चौथे महीने में शिशु का विकास, गर्भ में शिशु का विकास, चौथे महीने में गर्भवती महिला में बदलाव, गर्भावस्था का चौथा महीना, प्रेग्नेंसी के चौथे महीने में चैंजेस, Changes in Fourth Month of Pregnancy, Baby Development in Fourth Month, Changes in Pregnant Women after Four month pregnancy, Fourth Month, Four Month Baby Developement


गर्भावस्था का हरेक महीना गर्भवती महिला के लिए बहुत खास होता है। हर महीने महिला गर्भ में अपने शिशु से जुड़े नए-नए अनुभवों को महसूस करती हैं। चौथा महीना शुरू होते ही माँ का शिशु से भावनात्मक लगाव शुरू हो जाता है। माँ हर पल सिर्फ अपने आने वाले शिशु के बारे में ही सोचती रहती हैं। वो ये सोचती है शिशु क्या कर रहा होगा, कैसा दिखता होगा, लड़का है या लड़की है? इस तरह से उनके मन में कई सारे विचार आने लगते हैं। और यह चौथे महीने से ही शुरू हो जाता है।

आज हम आपको बता रहे हैं गर्भधारण के चौथे महीने में गर्भ के भीतर शिशु का विकास किस तरह होता है और चौथे महीने गर्भवती महिला के शरीर में क्या-क्या बदलाव होते हैं?

गर्भावस्था का चौथा महीना और शिशु में विकास

गर्भधारण के चौथे महीने से शिशु गर्भनाल के द्वारा साँस लेना शुरू कर देता है। इस महीने तक पता चल जाता ही की गर्भ में पल रहा शिशु लड़का है या लड़की। चौथे महीने से शिशु की मूवमेंट थोड़ी बढ़ जाती है लेकिन अभी भी आप उसकी मूवमेंट को महसूस नहीं कर पाएंगी। आपको ये मूवमेंट आने वाले महीने में महसूस होगी।

चौथे महीने तक शिशु की बाहरी संरचनाओं का निर्माण पूरा हो जाता है और अंदरूनी अंगों का विकास होने लगता है। चौथे महीने से शिशु के मस्तिष्क का विकास तेजी से होने लगता है। इस महीने से शिशु के चेहरे की मांसपेशियां और किडनी काम करना शुरू कर देती है।

चौथे महीने में शिशु की खोपड़ी का आकार बनने लगता है। इस महीने में शिशु के हाथ, पैर और कान का पूरा विकास हो जाता है। इस समय शिशु की हड्डियां मजबूत होने लगती है पर अभी भी शिशु की पलके पूरी तरह आँखों से चिपकी रहती है जो आने वाले महीने में खुल जाएगी।

गर्भावस्था के चौथे महीने में गर्भवती महिला के शरीर में बदलाव

गर्भावस्था के चौथे महीने में गर्भवती महिला के शरीर में भी तेजी से बदलाव होने लगते हैं। इस महीने से गर्भवती महिला का पेट बढ़ने लगता है जिसे देखकर आसानी से पता चल जाता है की महिला गर्भवती है। चौथे महीने से गर्भवती महिला के शरीर में एस्ट्रोजन हॉर्मोन का स्तर बढ़ जाता है जिसके कारण त्वचा पर झाइयां और मुहांसे की समस्या होने लगती है।

चौथे महीने में गर्भवती महिला के नाक पर सूजन आ सकती है पर ऐसा जरुरी नहीं की यह सभी के साथ हो। चौथे महीने से गर्भवती महिला को शिशु की हलकी मूवमेंट महसूस होने लगती है, शरीर में कमजोरी आ जाती है, भूख बढ़ जाती है, मूड स्विंग्स बहुत ज्यादा होते हैं, पैरों में दर्द और सूजन बढ़ सकती है, हाई ब्लड प्रेशर या डायबिटीज की समस्या हो सकती है और प्राइवेट पार्ट से हल्का स्त्राव हो सकता है।

प्रेग्नेंसी के चौथे महीने से गर्भवती महिला को अपना खास केयर करना शुरू कर देना चाहिए, क्यूंकि इस महीने से शिशु के अंदरूनी अंगों का विकास होना शुरू हो जाता है और शिशु के समुचित विकास के लिए शरीर में सभी नुट्रिएंट्स का सही मात्रा में होना जरुरी होता है। इसके लिए आप सही समय पर सही आहार लें और अगर कुछ समस्या हो तो तुरंत जाँच करवाएं। ताकि आने वाले महीनों में कोई परेशानी ना हो और शिशु का विकास भी सही तरीके से हो सके।

यूट्यूब विडिओ –

गर्भावस्था का चौथा महीना शिशु में विकास और गर्भवती महिला में बदलाव
Leave a comment