प्रेगनेंसी में काजू खाने के फायदे और नुकसान

प्रेगनेंसी में काजू खाने के फायदे और नुकसान

प्रेगनेंसी में ड्राई फ्रूट

गर्भावस्था बहुत ही नाजुक समय होता है ऐसे में गर्भवती महिला क्या खाती है, क्या करती है, क्या सोचती है इन सब चीजों से फर्क पड़ता है। क्योंकि महिला द्वारा की गई थोड़ी सी लापरवाही केवल गर्भवती महिला को नहीं बल्कि गर्भ में पल रहे शिशु को भी नुकसान पहुंचा सकती है। ऐसे में महिला को प्रेगनेंसी के दौरान अपनी केयर बेहतर तरीके से करने की सलाह दी जाती है। लेकिन कई बार महिला का कुछ अलग खाने की इच्छा हो सकती है, जैसे की ड्राई फ्रूट्स (काजू, बादाम, पिस्ता, आदि), ऐसे में गर्भवती महिला के मन में सवाल आ सकता है की प्रेगनेंसी के दौरान काजू, बादाम आदि खाना सेफ है या नहीं। तो आप यदि प्रेगनेंसी में ड्राई फ्रूट खाना चाहती हैं तो खा सकती है, क्योंकि यह पूरी तरह से सेफ होता है, लेकिन पर्याप्त मात्रा में ही इसका सेवन करना चाहिए।

प्रेगनेंसी में काजू खाने के फायदे

गर्भवती महिला प्रेगनेंसी के दौरान ड्राई फ्रूट में शामिल काजू का सेवन कर सकती है, क्योंकि इसमें मौजूद पोषक तत्व गर्भवती महिला के लिए बहुत फायदेमंद होते है। साथ ही इनके सेवन से गर्भ में पल रहे शिशु को भी फायदा मिलता है। तो आइये अब विस्तार से जानते हैं की प्रेगनेंसी में काजू खाने से कौन कौन से फायदे मिलते हैं।

एंटीबैक्टेरियल गुण

काजू में मौजूद एंटीबैक्टेरियल गुण गर्भवती महिला और गर्भ में पल रहे शिशु को संक्रमण से सुरक्षित रखने में मदद करते हैं। ऐसे में प्रेग्नेंट महिला को काजू को अपनी डाइट में जरूर शामिल करना चाहिए ताकि गर्भ में पल रहे शिशु और गर्भवती महिला को संक्रमण से सुरक्षित रहने में मदद मिल सके।

फाइबर

बहुत सी गर्भवती महिलाएं प्रेगनेंसी के दौरान कब्ज़ की समस्या से परेशान रहती हैं। ऐसे में काजू का सेवन करने से उसमे मौजूद फाइबर प्रेग्नेंट महिला की समस्या का समाधान करने में मदद करता है।

कैल्शियम

काजू में कैल्शियम भी भरपूर मात्रा में शामिल होता है, जो की प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिला की हड्डियों को मजबूती देने में मदद करता हैं जिससे कमजोरी व् थकान जैसी परेशानी को कम करने में मदद मिलती है। साथ ही इससे गर्भ में पल रहे शिशु की हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद मिलती है और प्रेग्नेंट महिला के दांतों को भी स्वस्थ रखने में मदद मिलती है।

मैग्नीशियम

प्रेगनेंसी के दौरान शरीर में अंगो में दर्द रहना, मांसपेशियों में ऐंठन की समस्या होना, थकावट महसूस होना, ब्लड प्रैशर से जुडी परेशानी का होना, आदि बहुत ही आम बात होती है। ऐसे में काजू का सेवन करने काजू में मौजूद मैग्नीशियम गर्भवती महिला को इन सभी परेशानियों से निजात दिलाने में मदद करता है।

विटामिन के

डिलीवरी के दौरान गर्भवती महिला के शरीर से अधिक रक्तस्त्राव होता है जिसके कारण महिला का शरीर बहुत ज्यादा कमजोर हो सकता है। लेकिन काजू का सेवन करने से उसमे मौजूद विटामिन के डिलीवरी के दौरान होने वाली इस परेशानी को कम करने में मदद करता है।

आयरन

आयरन की कमी होने के कारण गर्भवती महिला को शारीरिक परेशानियों का सामना करने के साथ डिलीवरी के दौरान दिक्कत, एनीमिया जैसी परेशानी, शिशु के विकास में कमी आदि परेशानियां भी हो सकती है। लेकिन काजू का सेवन करने से बॉडी में आयरन की कमी को पूरा करने में मदद मिलती है जिससे गर्भवती महिला को इन सभी परेशानियों से निजात पाने में मदद मिलती है।

शिशु का विकास

काजू में मौजूद कॉपर गर्भ में पल रहे शिशु की कोशिकाओं के बेहतर विकास में मदद मिलती है, जिससे शिशु का शारीरिक विकास बेहतर तरीके से होता है इसके लिए गर्भवती महिला को काजू का सेवन जरूर करना चाहिए। साथ ही इसमें मौजूद फोलिक एसिड गर्भ में पल रहे शिशु को जन्म के समय होने वाली परेशानियों से बचाने में भी मदद करता है।

प्रोटीन व् वसा

कुछ गर्भवती महिलाएं प्रेगनेंसी के दौरान अपने या गर्भ में पल रहे शिशु के कम वजन को लेकर परेशान रहती है। ऐसे में काजू का सेवन करने से उसमे मौजूद प्रोटीन व् वसा कम वजन की समस्या से गर्भवती महिला और गर्भ में पल रहे शिशु को निजात पाने में मदद मिलती है।

डाइबिटीज़

काजू का सेवन करने से रक्त में शर्करा की मात्रा को पर्याप्त मात्रा में बनाएं रखने में मदद मिलती है, जिससे गर्भवती महिला के शुगर को कण्ट्रोल करने में मदद मिलने के साथ गर्भवती महिला को गेस्टेशनल डाइबिटीज़ की समस्या से बचे रहने में मदद मिलती है।

प्रेगनेंसी में काजू खाने के नुकसान

यदि प्रेगनेंसी में काजू खाने का आपका मन करता है और आप इसका सेवन करते हैं तो यह आपके लिए फायदेमंद होता है, लेकिन यदि जरुरत से ज्यादा आप इसका सेवन करते हैं तो इसके कारण आपको नुकसान भी पहुँच सकता है। तो लीजिये अब जानते हैं की प्रेगनेंसी में काजू का सेवन करने से कौन से नुकसान हो सकते हैं।

वजन: काजू में कैलोरी की मात्रा बहुत अधिक होती है ऐसे में प्रेगनेंसी के दौरान इसका अधिक सेवन करने से महिला का वजन बढ़ने का खतरा रहता है। और प्रेगनेंसी के दौरान अधिक वजन का बढ़ना गर्भवती महिला के साथ गर्भ में पल रहे शिशु को भी नुकसान पहुंचा सकता है।

खुजली: यदि प्रेग्नेंट महिला अधिक काजू का सेवन करती है तो इसके कारण महिला को स्किन पर चकत्ते या खुजली जैसी परेशानी हो सकती है।

अनिंद्रा: काजू का अधिक सेवन करने से प्रेग्नेंट महिला को नींद में कमी जैसी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

सोडियम: जीभ के स्वाद के कारण हो सकता है गर्भवती महिला की नमकीन काजू खाने इच्छा हो, लेकिन इसका सेवन अधिक मात्र में नहीं करना चाहिए। क्योंकि सोडियम की अधिक मात्रा लेने के कारण प्रेग्नेंट महिला को ब्लड प्रैशर, सूजन जैसी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

तो यह हैं कुछ फायदे और नुकसान जो गर्भवती महिला को काजू का सेवन प्रेगनेंसी के दौरान करने से होते हैं। ऐसे में गर्भवती महिला को काजू का सेवन पर्याप्त मात्रा में ही करना चाहिए ताकि इसके कारण गर्भवती महिला को किसी भी तरह का नुकसान न हो, बल्कि फायदा ही मिलें। इसके अलावा काजू का सेवन करने के लिए आप इसे खीर, सभी मेवों के साथ मिलाकर, फ्राई करके, योगर्ट या शेक आदि में मिक्स करके भी कर सकती है।

Leave a Comment