प्रेगनेंसी के दौरान मास्क लगाना कितना नुकसानदायक है?

गर्भावस्था के दौरान महिला को स्वस्थ रहने के लिए अपना अच्छे से ध्यान रखने की सलाह दी जाती है। और आजकल जब हर जगह संक्रमण का खतरा फैला हुआ है तो सभी को घर में रहने की सलाह दी गई है। और यदि आप बाहर भी जाते हैं तो आपको मास्क लगाने की सलाह दी गई है। लेकिन छोटे बच्चों और गर्भवती महिलाओं को तो बिल्कुल घर से न निकलने के लिए कहा गया है।

क्योंकि उन्हें संक्रमण जल्दी होने का खतरा है। ऐसे में गर्भवती महिला के लिए जरुरी है की वो फिट रहने के लिए इस दौरान अपना अच्छे से ध्यान रखें। लेकिन इसका मतलब यह बिल्कुल नहीं है की घर में भी प्रेग्नेंट महिला मास्क पहनकर ही रखें। क्योंकि पूरा दिन मास्क लगाना या थोड़े लम्बे समय के लिए भी मास्क लगाना गर्भवती महिला और बच्चे दोनों के लिए नुकसानदायक हो सकता है।

प्रेग्नेंट महिला के लिए मास्क लगाना क्यों हैं नुकसानदायक?

प्रेग्नेंट महिला यदि मास्क का इस्तेमाल करती है तो मास्क लगाने के बाद महिला का मुँह, नाक ढक जाता है। जिसके कारण महिला जब सांस लेती है तो उतने अच्छे से ऑक्सीजन शरीर में नहीं जाती है। क्योंकि चारों तरफ से जब आपका मुँह और नाक ढका हुआ है तो आपको फ्रेश ऑक्सीजन कहाँ से मिलेगी और मास्क में से कार्बन डाई ऑक्साइड अच्छे से नहीं निकल पाएगी।

ऐसे में महिला को सांस लेने में दिक्कत महसूस हो सकती है। और जब महिला अच्छे से सांस नहीं ले पाती है तो इसका असर गर्भ में पल रहे बच्चे पर भी पड़ता है। क्योंकि बच्चे तक भी ऑक्सीजन सही से नहीं पहुंचती है जिसके कारण महिला और बच्चे दोनों को दिक्कत हो सकती है। तो आइये अब जानते हैं की और कौन सी दिक्कतें गर्भवती महिला व् बच्चे को मास्क लगाने के कारण हो सकती है।

गलत मास्क का इस्तेमाल करने के कारण परेशानी

आप जब मास्क लेने के लिए मार्किट में जाएंगी तो आपको एक तरह का नहीं बल्कि अलग अलग दाम में अलग अलग तरीके के मास्क मिल जायेंगे। लेकिन आपके लिए कौन सा मास्क सही है इसके बारे यदि महिला को जानकारी नहीं होगी और महिला गलती से गलत मास्क ले आएगी। तो संक्रमण से बचाव होगा या नहीं, लेकिन गलत मास्क लगाने के कारन महिला को परेशानी जरूर होगी। ऐसे में प्रेग्नेंट महिला के लिए सबसे बेहतर मास्क घर में कॉटन के कपडे का मास्क बनाकर इस्तेमाल करना ही बेहतर विकल्प है।

सांस लेने में होती है दिक्कत

मास्क लगाने के कारण मुँह व् नाक ढक जाता है जिसके कारण महिला मास्क के अंदर ही सांस लेती रहती है और पांच से दस मिनट बाद जब महिला को फ्रैश ऑक्सीजन नहीं मिलती है। तो इसकी वजह से महिला की सांस फूलने लगती है सांस फूलने के कारण माँ और बच्चा दोनों को परेशानी हो सकती है।

घुटन महसूस हो सकती है

प्रेग्नेंट महिला जब मास्क लगाती है तो बाहर की ऑक्सीजन नहीं मिल पाती है और कार्बन डाई ऑक्साइड भी मास्क से अच्छे से बाहर नहीं निकलती है। ऐसे में जब महिला मास्क में ही सांस लेती रहती है तो थोड़ी देर बाद महिला को मास्क लगाए रहने पर घुटन महसूस हो सकती है। जिसके कारण घबराहट, उल्टी आने का मन होना जैसी परेशानियां भी हो सकती है।

गर्भावस्था में स्वस्थ रहने और मास्क लगाने से पहले इन बातों का ध्यान रखें

  • ध्यान रखें की जो मास्क आप लगा रहे हैं वो कितनी लेयर का है, वो मास्क अच्छी क़्वालिटी का है या नहीं, मास्क आप सही तरीके से लगा रही हैं या नहीं, आदि।
  • घर में पूरा दिन आपको मास्क लगाकर घूमने की जरुरत नहीं है लेकिन इस बात का ध्यान जरूर रखें की जब घर में भी बैठें तो सबसे थोड़ा दूरी बनाकर बैठें।
  • जब तक बहुत ज्यादा जरुरी न हो तब तक गलती से भी घर से न निकलें।
  • घर में बाहर के ज्यादा लोगो को न आमंत्रित करें, साथ ही किसी भी सार्वजनिक या किसी शादी आदि के प्रोग्राम में जाने से बचें, क्योंकि भीड़भाड़ से आपको ज्यादा खतरा हो सकता है।
  • हॉस्पिटल में जाएँ तो मास्क जरूर लगाएं और हॉस्पिटल में कहीं भी बैठने या किसी सामान को छूने से बचें।

तो यह हैं कुछ टिप्स जिनका ध्यान मास्क लगाने से पहले प्रेग्नेंट महिला को रखना चाहिए। यदि महिला इन बातों का ध्यान रखती है तो इससे गर्भवती महिला को मास्क लगाने के कारण होने वाली परेशानी से बचने के साथ संक्रमण से बचे रहने में भी मदद मिलती है।