प्रेगनेंसी में जब मुँह कड़वा और फीका लगे तो क्या करें?

प्रेगनेंसी एक ऐसा समय होता है जहां महिला को बॉडी में बहुत से बदलाव महसूस होते हैं, बहुत सी शारीरिक परेशानियां होती है, महिला बहुत से नए अनुभवों को महसूस करती है, आदि। और ऐसा ही एक बदलाव गर्भवती महिला के मुँह के स्वाद में भी महसूस होता है जैसे की कुछ महिलाओं के खाने के स्वाद में परिवर्तन आता है तो कुछ महिलाओं को मुँह का स्वाद कड़वा व् फीका होता है। तो आज इस आर्टिकल में हम आपको प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिला के मुँह का स्वाद कड़वा व् फीका क्यों होता है इस बारे में बताने जा रहे हैं।

प्रेग्नेंट महिला के मुँह का स्वाद फीका व् कड़वा होने के कारण

  • गर्भावस्था के दौरान बॉडी में होने वाले हार्मोनल बदलाव के कारण ऐसा होता है।
  • गर्भवती महिला प्रेगनेंसी के दौरान बहुत सी दवाइयों का सेवन करती है जिसकी वजह से भी गर्भवती महिला के मुँह का स्वाद बिगड़ जाता है।
  • यदि प्रेग्नेंट महिला मुँह की साफ सफाई अच्छे से नहीं करती है, महिला को दांतों से जुडी कोई समस्या होती है, तो भी गर्भवती महिला के मुँह का स्वाद कड़वा व् फीका होता है, साथ ही महिला को अपने मुँह से बदबू भी महसूस होती है।
  • प्रेग्नेंट महिला का मुँह यदि सूखा रहता है तो इस कारण भी महिला को नूह का स्वाद कड़वा व् फीका महसूस होता है।
  • पाचन क्रिया से जुडी समस्या होने की वजह से भी महिला के मुँह में कड़वाहट महसूस होती है।

मुँह के फीकेपन और कड़वेपन को दूर करने के लिए अपनाएँ यह टिप्स

गर्भावस्था के दौरान यदि महिला को मुँह का स्वाद बिगड़ा हुआ महसूस होता है तो कुछ आसान टिप्स का ध्यान रखने से गर्भवती महिला को इस परेशानी से बचे रहने में मदद मिल सकती है। तो आइये अब जानते हैं की प्रेग्नेंट महिला मुँह के कड़वेपन और फीकेपन को दूर करने के लिए क्या कर सकती है।

मुँह व् दांतों की साफ़ सफाई

प्रेग्नेंट महिला को मुँह, जीभ व् दांतों की साफ सफाई अच्छे से करनी चाहिए। जैसे की सुबह उठते ही और रात को सोने से पहले ब्रश कर लें। गुनगुने पानी से कुल्ला करें, ऐसा करने से मुँह में जमे बैक्टेरिया को खत्म करने में मदद मिलती है। जिससे प्रेग्नेंट महिला को मुँह के फीकेपन, कड़वेपन व् मुँह से आने वाली स्मैल की समस्या से निजात पाने में मदद मिलती है। और मुँह में जमे बैक्टेरिया के कारण होने वाली परेशानी से माँ व् बच्चे दोनों को बचे रहने में मदद मिलती है।

खट्टे फलों का सेवन

खट्टे फल जैसे की संतरा, निम्बू, आंवला, मौसमी आदि का सेवन करने से भी भी गर्भवती महिला को इस समस्या से बचे रहने में मदद मिलती है। क्योंकि इन फलों को खाने से मुँह में लार बनने लगती है जिससे मुँह का सूखापन दूर होता है। और मुँह के कड़वापन व् फीकेपन को दूर करने के साथ मुँह का स्वाद भी सही होता है।

तरल पदार्थ

पेय पदार्थ जैसे की पानी, जूस, नारियल पानी, निम्बू पानी, आदि का भरपूर सेवन प्रेग्नेंट महिला को करना चाहिए। इससे शरीर को हाइड्रेट रहने और मुँह में नमी को बरकरार रहने में मदद मिलती है। जिससे गर्भवती महिला को मुँह के कड़वेपन व् फीकेपन को दूर करने में मदद मिलती है।

फाइबर युक्त आहार

प्रेग्नेंट महिला को पेट सम्बन्धी समस्या जैसे की कब्ज़ आदि के कारण खट्टे डकार, सीने में जलन जैसी परेशानी हो सकती है। जिसके कारण भी मुँह के स्वाद में फ़र्क़ आ जाता है। लेकिन फाइबर युक्त आहार का सेवन करने से पाचन क्रिया को दुरुस्त रहने में मदद मिलती है जिससे महिला को इस परेशानी से निजात मिलता है।

कुछ अपनी पसंद का खाएं

प्रेगनेंसी के दौरान बॉडी में होने वाले हार्मोनल बदलाव की वजह से महिला के खाने की इच्छा में कमी आती है क्योंकि महिला के मुँह का स्वाद बिगड़ जाता है। लेकिन यदि प्रेग्नेंट महिला अपनी इच्छा से कुछ हेल्दी और चटपटा बनाकर खाती है तो इससे प्रेग्नेंट महिला के मुँह के स्वाद को सही करने में मदद मिलती है।

सेब का सिरका

थोड़े से पानी में सेब का सिरका मिलाकर दिन में दो बारे उससे कुल्ला करें इससे मुँह में जमे बैक्टेरिया को मुँह से बाहर निकालने में मदद मिलती है जिससे महिला के मुँह का स्वाद सही होता है।

तो यह हैं कुछ आसान टिप्स जिन्हे ट्राई करने से गर्भवती महिला को प्रेगनेंसी के दौरान मुँह के कड़वेपन और फीकेपन को दूर करने में मदद मिलती है। यदि आपको भी प्रेगनेंसी के दौरान मुँह के स्वाद में गड़बड़ी महसूस होती है तो आपको भी ऊपर दिए गए टिप्स का ध्यान रखना चाहिए।