Ultimate magazine theme for WordPress.

रात के समय प्रेग्नेंट महिला को दही क्यों नहीं खानी चाहिए

0

गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला को खाने में पोषक तत्वों से भरपूर चीजों को शामिल करने की सलाह दी जाती है। ऐसे में उन चीजों को केवल अपनी डाइट में शामिल ही नहीं करना होता है बल्कि उन चीजों का सेवन कितना और कब करना चाहिए यह जानना भी बहुत जरुरी होता है। क्योंकि यदि आप जरुरत से ज्यादा या गलत समय पर किसी चीज का सेवन करते हैं तो इसके कारण गर्भवती महिला के साथ शिशु को भी दिक्कत हो सकती है। जैसे की आज हम आपको प्रेगनेंसी के दौरान दही के सेवन से जुडी कुछ बातें बताने जा रहे हैं।

प्रेगनेंसी में दही खाना सही या गलत

कैल्शियम, प्रोटीन, जैसे बहुत से पोषक तत्वों से युक्त दही का सेवन गर्भवती महिला प्रेगनेंसी के दौरान कर सकती है। क्योंकि इसमें मौजूद पोषक तत्व न केवल प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिला को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं, बल्कि यह पोषक तत्व गर्भ में पल रहे शिशु के विकास में भी मदद करते हैं। इसीलिए नियमित रूप से एक कटोरी दही को अपनी डाइट में शामिल करने की सलाह डॉक्टर द्वारा भी दी जाती है। इसीलिए प्रेगनेंसी के दौरान दही का सेवन गर्भवती महिला को जरूर करना चाहिए।

प्रेग्नेंट महिला को रात में दही का सेवन क्यों नहीं करना चाहिए

गर्भावस्था के दौरान दही का सेवन यदि गर्भवती महिला दिन के समय करती है तो यह महिला के लिए बहुत फायदेमंद होती है। लेकिन गर्भवती महिला को रात के समय दही का सेवन करने से बचना चाहिए। क्योंकि गर्भवती महिला यदि रात को सोते समय सही का सेवन करती है तो इसके कारण गर्भवती महिला को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। तो आइये अब विस्तार से जानते हैं की प्रेगनेंसी में रात के समय दही का सेवन करने से कौन कौन से नुकसान हो सकते हैं।

खांसी व् जुखाम

दही की तासीर ठंडी होती है जिसके कारण गर्भवती महिला यदि रात के समय दही का सेवन करती है तो महिला को ठण्ड लगने के कारण परेशान होना पड़ सकता है। और ठण्ड लगने के कारण गर्भवती महिला को खांसी जुखाम की समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

कफ

रात के समय खाने के दही का सेवन करने से गर्भवती महिला को गले में खराश, कफ जमना यानी बलगम आना जैसी समस्या भी हो सकती है। और कफ का बढ़ना गर्भवती महिला को गले में दर्द जैसी समस्या से भी परेशान कर सकता है। ऐसे में प्रेग्नेंट महिला को रात में दही का सेवन करने से बचना चाहिए।

पाचन क्रिया से सम्बन्धी समस्या

दिन के आहार में दही लेने से जहां दही भोजन को आसानी से पचाने में मदद करती है वहीँ रात के भोजन में दही को पचाने में गर्भवती महिला को दिक्कत हो सकती है। क्योंकि रात के भोजन के बाद शारीरिक श्रम कम होता है और आप आराम से सो जाते हैं जिसके कारण दही को पचाने में परेशानी हो सकती है। जिसके कारण महिला को गैस, अपच जैसी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

सूजन

जिन गर्भवती महिलाओं को सूजन की समस्या रहती है उन्हें दही का सेवन अधिक नहीं करना चाहिए। खासकर रात को सोते समय दही का सेवन करने से गर्भवती महिला की सूजन की परेशानी बढ़ सकती है।

जोड़ो में दर्द

प्रेगनेंसी के दौरान बॉडी में होने वाले हार्मोनल बदलाव और मांसपेशियों में खिंचाव के कारण वैसे ही गर्भवती महिला बॉडी में दर्द की समस्या से परेशान हो सकती है। ऐसे में गर्भवती महिला यदि रात के समय दही का सेवन करती है तो इसके कारण महिला को जोड़ो में दर्द की समस्या के कारण परेशान होना पड़ सकता है।

तो यह हैं कुछ नुकसान जो रात में दही का सेवन करने के कारण गर्भवती महिला को हो सकते हैं। ऐसे में प्रेग्नेंट महिला को इन सभी परेशानियों से बचने के लिए रात में दही के सेवन से बचना चाहिए। और साथ ही बरसात के मौसम में दही का सेवन भी गर्भवती महिला को परेशान कर सकता है। इसके अलावा प्रेग्नेंट महिला को दूध और दही का सेवन भी एक साथ नहीं करना चाहिए क्योंकि इसके कारण भी महिला को स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या का सामना करना पड़ सकता है।