गर्भावस्था में ठण्डा पानी पीने से गर्भ में शिशु को कैसा महसूस होता है?

प्रेगनेंसी महिला के लिए एक बहुत ही सुखद अहसास होता है और इस अहसास को महसूस करते हुए प्रेगनेंसी के दौरान महिला बहुत से नए अनुभव भी महसूस करती है। साथ ही गर्भ में पल रहा बच्चा भी पूरी तरह से अपनी माँ पर भी निर्भर करता है। इसके अलावा महिला जो भी करती है, सोचती है, बोलती है, खाती है, पीती है आदि उन सभी चीजों का असर गर्भ में शिशु पर पड़ता है।

और कई बार तो शिशु इस पर अपनी प्रतिक्रिया भी देते हैं, जी नहीं, बच्चा गर्भ में बोलता नहीं है। बल्कि अपनी हलचल के माध्यम से बच्चा अपनी प्रतिक्रिया देता है। तो आइये आज इस आर्टिकल में हम आपको गर्भावस्था में ठण्डा पानी पीने से गर्भ में शिशु को कैसा महसूस होता है इस बारे में बताने जा रहे हैं।

तापमान में बदलाव होने के कारण बढ़ सकती है शिशु की हलचल

जब प्रेग्नेंट महिला ठंडा पानी पीती है तो अचानक से बॉडी के बाहर नहीं लेकिन अंदर ठंडक सी महसूस होती है। और उस ठंडक का अहसास गर्भ में शिशु को भी होता है। ऐसे में तापमान में अचानक से बदलाव होना शिशु को अच्छा भी महसूस करवा सकता है और शिशु को हो सकता है यह अच्छा न भी लगे। लेकिन यह सच है की तापमान में बदलाव होने के कारण आपको बच्चे की हलचल महसूस हो सकती है।

गर्मी में मिल सकती है ठंडक

वैसे प्रेग्नेंट महिला को ठंडा पानी नहीं पीना चाहिए क्योंकि इसके कारण महिला की शारीरिक परेशानी जैसे की सूजन, बॉडी पेन आदि बढ़ सकती है। लेकिन ठंडा पानी पीने से जैसे प्रेग्नेंट महिला को गर्मी से राहत मिल जाती है। हो सकता है वैसे ही ठंडा पानी पीने से गर्भ में ठंडक का अहसास हो सके।

तो यह है गर्भावस्था में ठण्डा पानी पीने से गर्भ में शिशु को कैसा महसूस होता है उससे जुड़े कुछ टिप्स, लेकिन ध्यान रखें की प्रेगनेंसी के दौरान ठंडा पानी पीने से जितना हो सके प्रेग्नेंट महिला को बचना चाहिए। क्योंकि ठंडा पानी पीने के कारण प्रेग्नेंट महिला की दिक्कतें बढ़ सकती है।