Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

सबसे सेफ तरीका गर्भधारण नहीं होने का

गर्भधारण नहीं होने के उपाय, जानिए प्रेग्नेंट नहीं होने का सबसे सेफ तरीका क्या होता है, अनवांटेड प्रेग्नेंसी को रोकने का सही तरीका क्या है?

अनचाहा गर्भ (प्रेगनेंसी) रोकने के तरीके, बिना गोली और कं-डोम के प्रेगनेंसी रोकने के तरीके, अनचाहे गर्भ से बचने के उपाय, प्रेगनेंसी रोकने के लिए टेबलेट, प्रेगनेंसी को रोकने के लिए मेडिसिन, गर्भवती न होने के तरीके, Tips to Avoid Unwanted Pregnancy, How to avoid Pregnancy, Unwanted Pregnancy tablet name

-- Advertisement --

गर्भवती होना हर स्त्री के जीवन का सबसे सुखद अनुभव होता है लेकिन जब यही गर्भ बिना किसी प्लानिंग के ठहर जाए तो ये आपके लिए परेशानी का कारण बन सकता है। ऐसे तो गर्भधारण और प्रेग्नेंसी को रोकने के कई तरीके है लेकिन कहीं ना कहीं किसी उपाय का साइड इफेक्ट हो जाता है।

गर्भधारण से बचने के आम उपाय

प्रेगनेंसी रोकने के लिए कं-डोम या कंट्रासेप्टिक पिल्स को सबसे बेहतर उपाय माना जाता है, लेकिन बहुत से लोग कं-डोम का इस्तेमाल नहीं करना चाहते, जबकि बहुत सी महिलाएं गोली नहीं खाना चाहती। इसलिए आज हम आपको उन तरीकों के बारे में बता रहे हैं जिनकी मदद से बिना कं-डोम के संबंध बनाने से भी गर्भधारण नहीं होगा।

गर्भधारण से बचने का सबसे सेफ तरीका

कॉपर-टी 

प्रेगनेंसी से बचने के लिए कॉपर-टी का इस्तेमाल बहुत लाभकारी होता है। इसके इस्तेमाल से काफी हद तक प्रेगनेंसी को रोका जा सकता है, एक बार इस्तेमाल से कई सालों तक गर्भधारण नहीं होता। कॉपर-टी, टी आकार की एक प्लास्टिक की छड़ होती है जिसे महिला के गर्भाशय में लगाया जाता है। इस छड़ के अंतिम छोर पर एक धागा बंधा होता है जो महिला के प्राइवेट पार्ट से बाहर रहता है। यह को अंडे से मिलने से रोकती है जिससे गर्भधारण की संभावना खत्म हो जाती है।

गर्भ निरोधक रिंग

प्रेगनेंसी को रोकने का यह सबसे सरल तरीका माना जाता है। यह रिंग बहुत छोटी और लचीली होती है जिसे महिला के प्राइवेट पार्ट के अंदर डाल दिया जाता है। शरीर में प्रवेश करके यह विशेष हॉर्मोन रिलीज़ करती है जिससे गर्भधारण नहीं होता। यदि गर्भनिरोधक रिंग का सही तरह का इस्तेमाल किया जाए तो 98% तक प्रेग्नेंट होने से बचा जा सकता है।

गर्भनिरोधक टेबलेट

बाजार में आजकल बहुत सारी गर्भनिरोधक गोलियां उपलब्ध हैं, जो आसानी से आपको किसी भी मेडिकल स्टोर पर मिल जायेंगी। इसे रोजाना भी खा सकते हैं या साप्ताहिक या महीने में एक भी खा सकते हैं। अलग-अलग टेबलेट्स को खाने का तरीका अलग-अलग होता है इसलिए दवा लेने से पहले डॉक्टर से मिलें और उनके हिसाब से ही दवा का सेवन करें। संबंध बनाने के 72 घंटों के भीतर  इमरजेंसी कंट्रासेप्टिव पिल्स खाकर भी गर्भधारण से बच सकती हैं। लेकिन ध्यान रहे अधिक इस्तेमाल से आपको शारीरिक हानि हो सकती है इसलिए केवल इमरजेंसी में ही दवा का इस्तेमाल करें।

पुल-आउट

पुल-आउट को गर्भधारण से बचने के प्राकृतिक तरीकों में से एक माना जाता है जिसमे संबंध बनाते समय पुरुष डिस्चार्ज की स्थिति में पहुँचने से पूर्व ही प्राइवेट पार्ट को बाहर निकाल लेते है जिससे शरीर में प्रवेश नहीं कर पाते। इस विधि का इस्तेमाल अधिक वो कपल करते हैं जो कं-डोम का इस्तेमाल नहीं करना चाहते। परन्तु इसके प्रयोग के समय सावधानी बरतनी चाहिए, क्यूंकि इसकी जरा की मात्रा भी गर्भधारण की संभावना को बढ़ा सकती है।

गर्भनिरोधक पैच

बदलते समय के साथ-साथ गर्भधारण रोकने के तरीकों में भी बदलाव हो गए हैं। आजकल मार्किट में गर्भनिरोधक पैच भी उपलब्ध हैं को प्रेग्नेंसी को रोकने में काफी हद तक आपकी मदद कर सकते हैं। इन्हे पेट के निचले हिस्से में लगाया जाता है। दरअसल इस पैच में एस्ट्रोजन और प्रेजेस्ट्रोन हॉर्मोन होता है जो शरीर सोख लेता है। शरीर में प्रवेश करने बाद ये हॉर्मोन परिपक्व अंडे निकलने की प्रक्रिया को बाधित कर देते हैं जिससे इसके साथ निषेचन नहीं होता और प्रेग्नेंसी के चान्सेस भी कम हो जाते हैं।

पीरियड्स साइकिल 

अगर पीरियड्स साइकिल को ध्यान में रखकर सही समय पर संबंध बनाए जाए तो प्रेग्नेंसी के चांसेस बहुत कम हो जाते हैं। महीने में कुछ ऐसे दिन होते हैं जिनके बीच संबंध बनाने से गर्भवती होने से बचा जा सकता है। पीरियड्स होने के पहले के 7 दिनों को इनफर्टाइल दिन कहा जाता है। इस बीच प्रेग्नेंट होने की संभावना बहुत कम होती हैं। लेकिन सभी की प्रेग्नेंसी साइकिल अलग-अलग होती है इसलिए इस उपाय का इस्तेमाल सोच-समझकर ही करना चाहिए। इसके अलावा पीरियड्स के दौरान 1 से 7 दिन के भीतर भी संबंध बनाने से गर्भवती होने की संभावनाएं 80% तक कम हो जाती हैं।

गर्भधारण से बचने के लिए इनका ध्यान रखें 

ऊपर बताये गए तरीकों को अपनाकर आप गर्भधारण से बच सकती हैं। इसके अलावा अगर आप चाहे तो कं-डोम का प्रयोग करके भी गर्भधारण होने से रोक सकती हैं। ऊपर बताए गए तरीके काफी हद तक आपकी प्रेग्नेंसी को रोकने में मदद कर सकते है लेकिन हो सकता है कुछ स्थितियों में वे कारगर ना हो। इसलिए सोच समझकर सही उपाय का इस्तेमाल करें गर्भधारण रोकने के लिए।

Leave a comment