Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

यह 10 गलतियां प्रेग्नेंट महिला को नहीं करनी चाहिए?

0

गर्भावस्था के दौरान हर महिला यही चाहती है की उसके पूरे नौ महीने आराम से निकलें और महिला को कम से कम दिक्कत हो। इसके अलावा मिसकैरिज, समय से पहले डिलीवरी जैसी परेशानी से भी महिला को बचे रहने में मदद मिल सके। साथ ही महिला यह भी चाहती है की उसके गर्भ में पल रही नन्ही जान का शारीरिक व् मानसिक विकास अच्छे से हो।

तो इसके लिए जरुरी है की हर गर्भवती महिला प्रेगनेंसी के दौरान अपना अच्छे से ध्यान रखें उन सभी चीजों व् आदतों को अपने लाइफस्टाइल में शामिल करे जो माँ व् बच्चे के लिए फायदेमंद हैं। साथ ही उन सभी चीजों से दूरी रखें और महिला किसी भी तरह की गलती या लापरवाही नहीं करें जिससे माँ या बच्चे को किसी भी तरीके से नुकसान हो। तो आइये आज इस आर्टिकल में हम आपको ऐसी दस गलतियों के बारे में बताने जा रहे हैं जो गर्भवती महिला को नहीं करना चाहिए।

बिना परामर्श के दवाइयों का सेवन

प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिला के शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलाव के कारण महिला को बहुत सी शारीरिक व् मानसिक परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है जैसे की थकान, सिर दर्द, कमजोरी, बॉडी में दर्द, उल्टियां, पेट दर्द, आदि, इम्युनिटी कमजोर होने के कारण महिला को मौसम के बदलाव होने पर भी महिला की शारीरिक परेशानी बढ़ सकती है जैसे की सर्दी, खांसी, जुखाम होना, आदि।

ऐसे में इन परेशानियों से निजात पाने के लिए महिला को अपनी मर्ज़ी से किसी भी दवाई का सेवन नहीं करना चाहिए। क्योंकि प्रेगनेंसी के दौरान ज्यादा दवाइयों का सेवन या नीना डॉक्टरी परामर्श के दवाइयों का सेवन गर्भ में शिशु के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है ऐसे में आपको या बच्चे को कोई दिक्कत नहीं हो इसके लिए पहले आपको अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए और उसके बाद ही दवाई का सेवन करना चाहिए।

खाने में लापरवाही

गर्भवती महिला प्रेगनेंसी के दौरान जितना ज्यादा अच्छे से अपने खान पान का ध्यान रखती है उतना ही माँ व् बच्चे को फायदा मिलता है। ऐसे में महिला को खान पान में लापरवाही की गलती बिल्कुल नहीं करनी चाहिए। क्योंकि खान पान में लापरवाही करने से न केवल महिला की शारीरिक परेशानियां बढ़ती है बल्कि गर्भ में शिशु के विकास में दिक्कत आने का भी खतरा रहता है।

ऐसे में महिला को और शिशु को कोई दिक्कत नहीं हो इसके लिए महिला को अपने खान पाना का ध्यान रखना चाहिए और थोड़ा थोड़ा करके खाते रहना चाहिए यानी की हर दो से तीन घंटे में कुछ न कुछ पोषक तत्वों से भरपूर खाएं जिससे शरीर में पोषक तत्वों की मात्रा सही बनी रहे और माँ व् बच्चे दोनों को सेहत सम्बन्धी फायदे मिल सकें। लेकिन ध्यान रखें प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं इसकी जानकारी भी जरूर रखें।

बिना धुली फल सब्जियों का प्रयोग

प्रेगनेंसी के दौरान और वैसे भी आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए की बाहर से आने वाली फल सब्जियों को अच्छे से धोने के बाद ही उन्हें प्रयोग में लाना चाहिए। क्योंकि बाहर के प्रदूषित वातावरण के कारण उनपर हानिकारक बैक्टेरिया जम जाता है जो शरीर में पहुंचकर आपके लिए सेहत सम्बन्धी परेशानी बढ़ा सकता है जैसे की इसके कारण डायरिया, उल्टियां, पेट दर्द जैसी परेशानी हो सकती है। ऐसे में प्रेगनेंसी के दौरान महिला इस बात का खास ध्यान रखें की बिना धुले फल सब्जियां प्रयोग में नहीं लाएं ताकि माँ और बच्चे को कोई दिक्कत नहीं हो।

भारी सामान उठाना

गर्भावस्था के समय महिला को गलती से भी भारी सामान नहीं उठाना चाहिए और इस बात का ध्यान महिला को पूरे नौ महीने रखना चाहिए। क्योंकि यदि महिला भारी सामान उठाती है तो इसकी वजह से महिला को ब्लीडिंग, पेट व् पीठ में दर्द, गर्भपात, समय से पहले डिलीवरी जैसी परेशानियां हो सकती है। इसके अलावा महिला को काम करने में भी ज्यादा तेजी नहीं करनी चाहिए बल्कि आराम आराम से काम करना चाहिए।

शरीर में पानी की कमी

प्रेगनेंसी के दौरान जितना महिला के लिए पोषक तत्वों से भरपूर डाइट लेना जरुरी है उतना ही महिला को शरीर में पानी की कमी नहीं होने देनी चाहिए। क्योंकि यदि महिला के शरीर में पानी की कमी हो जाती है तो इसकी वजह से प्रेगनेंसी में कॉम्प्लीकेशन्स बढ़ सकती है। ऐसे में महिला को दिन भर में आठ से दस गिलास पानी, नारियल पानी, निम्बू पानी आदि का सेवन करना चाहिए।

पेट के बल सोना या कोई काम करना

प्रेगनेंसी के दौरान महिला को न तो पेट के बल सोना चाहिए और न ही पेट के बल कोई काम करना चाहिए। इसके अलावा न तो गर्भवती महिला को झुककर काम करना चाहिए और न ही ऐसा कोई काम करना चाहिए जिससे पेट को झटका लगे। क्योंकि पेट पर दबाव पड़ने की वजह से गर्भ में शिशु को नुकसान होने का खतरा रहता है।

स्ट्रैस लेना

गर्भावस्था के दौरान कुछ महिलाएं मानसिक रूप से परेशान हो जाती है खासकर पहली प्रेगनेंसी के दौरान अधिकतर गर्भवती महिलाओं को यह समस्या होती है। क्योंकि उन्हें समझ नहीं आता है की वो किस तरह प्रेगनेंसी को हैंडल करेंगी। और यही स्ट्रैस उनकी मुश्किलों को बढ़ा देता है जिससे प्रेगनेंसी में होने वाली दिक्कतें बढ़ जाती है। ऐसे में प्रेग्नेंट महिला को इस बात का ध्यान रखना चाहिए की महिला स्ट्रैस नहीं ले बल्कि खुश रहे ताकि माँ व् बच्चे को स्वस्थ रहने में मदद मिल सकें।

जंक फ़ूड ज्यादा खाना

गर्भावस्था के दौरान महिला का चटपटा खाना की इच्छा अधिक हो सकती है ऐसे में महिला जंक फ़ूड खाना ज्यादा पसंद करती है लेकिन महिला को ऐसा नहीं करना चाहिए। क्योंकि प्रेगनेंसी के दौरान महिला की पाचन क्रिया थोड़ा धीमे काम करती है। ऐसे में बाहर का खाना खाने के कारण महिला को पेट सम्बन्धी परेशानी अधिक हो सकती है। इसीलिए जितना हो सके महिला को ताजा, पौष्टिक और घर का बना आहार खाना चाहिए।

नशीले पदार्थों का सेवन करना

प्रेगनेंसी के समय महिला को किसी भी तरह के नशे जैसे की धूम्रपान करना, शराब पीना, तम्बाकू आदि का सेवन नहीं करना चाहिए। क्योंकि यह सभी चीजें गर्भ में शिशु के शारीरिक व् मानसिक विकास में रूकावट पैदा करने के साथ प्रेगनेंसी में कॉम्प्लीकेशन्स को भी बढ़ाती हैं। इसके अलावा महिला को जरुरत से ज्यादा कैफीन जैसे की चाय, कॉफ़ी आदि का सेवन भी नहीं करना चाहिए क्योंकि यह भी माँ व् बच्चे की सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकती है।

नींद कम लेना

प्रेगनेंसी के दौरान खाना पीना, जितना जरुरी है उतना ही महिला के लिए नींद लेना भी जरुरी है। क्योंकि भरपूर नींद न लेने की वजह से महिला की शारीरिक दिक्कतें बढ़ती है और यदि महिला को दिक्कत होती है तो उसका असर शिशु पर भी पड़ता है। ऐसे में महिला के लिए जरुरी है की महिला दिनभर में आठ से नौ घंटे की नींद जरूर ले।

तो यह हैं वो दस गलतियां जो गर्भवती महिला को नहीं करनी चाहिए। क्योंकि इन्हे करने से प्रेग्नेंट महिला व् उसके होने वाले शिशु को भारी नुकसान हो सकता है। साथ ही प्रेगनेंसी के दौरान महिला की कॉम्प्लीकेशन्स भी बढ़ सकती है। ऐसे में माँ व् बच्चे की सेहत को किसी भी तरीके के नुकसान से सुरक्षित रखने के लिए महिला को ऐसा करने से बचना चाहिए।

Pregnant women should not make these mistakes