Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

समय से पहले क्यों होती है प्रसव पीड़ा

प्रसव पीड़ा, समय से पहले प्रसव के कारण, labor pain, delivery pain, prasav peeda ke karan

0

माँ बनना किसी भी महिला के लिए बहुत ही सुखद अहसास होता है। नौ महीने महिला के शरीर में हो रहे बदलाव के कारण महिला को बहुत सी जटिलताओं का सामना करना पड़ता है। लेकिन जैसे ही डिलीवरी के बाद शिशु महिला के हाथ में आता है, तो नौ महीने की सभी परेशानियां खुशियों में बदल जाती है। लेकिन कई महिलाओ को नौ महीने से पहले ही प्रसव पीड़ा होने लगती है, और शिशु का जन्म भी हो जाता है।

ऐसा कहा जाता है की समय से पहले यदि शिशु जन्म लेता है, तो कई बार उसे स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या का सामना करना पड़ता है। लेकिन आज कल मेडिकल में उपलब्ध सुविधाओं के कारण हर एक समस्या का हल मिल जाता है। लेकिन महिला को समय से पहले प्रसव पीड़ा क्यों होती है, इसके बहुत से कारण होते है, और यदि महिला को दर्द हो, तो उसे बिना देरी किए डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

क्योंकि यदि महिला से दर्द बर्दाश नहीं हो रहा है तो हो सकता है की शिशु बाहर आने वाला है। इसके लिए आपको एक डॉक्टर की जरुरत होती है। समय से पहले प्रसव की समस्या उन महिलाओ को होती है, जिनका बच्चे का भार नीचे की तरफ होता है, या फिर कुछ महिलाएं जो बहुत परेशानियों के कारण माँ बनती है, इसके अलावा और भी कई कारण हो सकते हैं। तो आइये अब विस्तार से जानते हैं की समय से पहले प्रसव पीड़ा होने के क्या कारन होते है।

समय से पहले प्रसव होने के कारण:-

बच्चा नीचे की तरफ होने के कारण:-

कई महिलाओ को प्रेगनेंसी में बच्चे का भार नीचे की तरफ होता है, ऐसे में महिला को अपना अच्छे से ध्यान रखना पड़ता है। लेकिन कई बार अच्छे से ध्यान रखने के बाद भी समय से पहले पेट में परेशानी का अनुभव होने लगता है। जिसके कारण आपको समय से पहले प्रसव पीड़ा हो सकती है।

गर्भाशय की झिल्ली कमजोर होने के कारण:-

जिन महिलाओ को बार बार गर्भपात की समस्या रहती है, या जो शारीरिक रूप से कमजोर होती है। कई बार पूरे नौ महीने तक वो गर्भाशय में शिशु को नहीं संभाल पाती है जिसके कारण उहे समय से पहले प्रसव पीड़ा होने लगती है।

बच्चे का वजन अधिक होने के कारण:-

यदि गर्भ में पल रहे शिशु का वजन अधिक होता है, तो बच्चा कई बार ज्यादा संकुचन करने लगता है, जिसके कारण भी महिला को पेट में दर्द होने लगती है। और बच्चे के ज्यादा संकुचन करने के कारण महिला को प्रसव पीड़ा होने लगती है।

पेडू पर दबाव पड़ने के कारण:-

यदि महिलाएं ऐसा काम ज्यादा करती है जिनसे उनके पेडू पर दबाव पड़ता है। तो इसके कारण भी महिलाओ को समय से पहले प्रसव पीड़ा हो सकती है, क्योंकि दबाव पड़ने के कारण शिशु परेशान होता है और संकुचन पैदा करता है। जिसके कारण महिला को पूर्व प्रसव पीड़ा का आभास होने लगता है।

प्रेगनेंसी में आ रही परेशानी के कारण:-

प्रेगनेंसी के दौरान महिला के शरीर में निरंतर हार्मोनल बदलाव होते रहते है। जिसके कारण कई महिलाओ को कम तो कई महिलाओ को ज्यादा परेशानी होती है। कई बार इन परेशानियों के चलते भी महिला को पूर्व प्रसव पीड़ा का अनुभव हो सकता है।

तो ये हैं कुछ कारण जिनकी वजह से कई बार महिलाओ को समय से पहले प्रसव पीड़ा होने लगती है। लेकिन यदि आपको थोड़ी बहुत परेशानी होती है तो आपको तुरंत डॉक्टर को बताना चाहिए। ताकि आपको इस समस्या से बचाया जा सकें और गर्भ में बच्चे का पूरा विकास होने में मदद मिलें।

प्रसव पीड़ा, समय से पहले प्रसव के कारण, labor pain, delivery pain, prasav peeda ke karan, प्रसव पीड़ा समय से पहले क्यों होती है, samay se pehle prasav peeda ke karan, प्रसव के लक्षण

Leave a comment