प्रेगनेंसी में मालिश करवाते समय भूलकर भी न करें यह गलतियां

0

गर्भावस्था के दौरान प्रेग्नेंट महिला को बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। ऐसे में महिला इन परेशानियों से निजात पाने के लिए कुछ न कुछ जरूर करती है। जैसे की बॉडी पेन की समस्या से राहत के लिए महिलाएं मालिश का सहारा लेती हैं। प्रेगनेंसी के दौरान यदि महिला मालिश करवाती है तो इससे महिला की मांसपशियों व् हड्डियों को दुरुस्त रहने में मदद मिलती है।

स्ट्रेस से राहत मिलती है, ऊर्जा से भरपूर रहने में मदद मिलती है, शरीर को प्रसव के लिए तैयार करने में मदद मिलती है, लेबर पेन में आसानी होती है, आदि। मालिश करवाना प्रेगनेंसी के दौरान बिल्कुल सेफ होता है। लेकिन मालिश करवाते समय कुछ छोटी छोटी बातों का ध्यान रखना जरुरी होता है। ताकि मालिश करवाने के कारण महिला को कोई दिक्कत नहीं हो।

प्रेगनेंसी के दौरान मालिश करवाते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए

यदि आप प्रेग्नेंट हैं और प्रेगनेंसी के दौरान मालिश करवाने की सोच रही है तो कुछ बातों का ध्यान रखें ताकि प्रेगनेंसी में मालिश करवाने के आपको फायदे मिलें। और आपको किसी भी तरह की परेशानी नहीं तो आइये अब जानते हैं वो कौन सी बातें हैं।

पहली तिमाही में मालिश करवाने से बचें

गर्भावस्था की पहली तिमाही में महिला को मालिश करवाने से बचना चाहिए क्योंकि इस दौरान जितनी सावधानी बरती जाये और जितना आराम किया जाये उतना अच्छा होता है। साथ ही यदि मालिश के दौरान यदि कोई गलती हो जाती है जैसे की ज्यादा जोर से मालिश करते है, पेट पर दबाव पड़ जाता है तो इसके कारण गर्भपात होने का खतरा होता है, शिशु का विकास अच्छे से नहीं होने की सम्भावना होती है, आदि।

READ  प्रसव के 10 लक्षण

उल्टा लेटकर मालिश नहीं करवाएं

प्रेगनेंसी के दौरान ध्यान रखें की महिला पेट के बल लेटकर मालिश नहीं करवाएं। क्योंकि पेट के बल मालिश करवाने से गर्भ पर बुरा असर पड़ता है क्योंकि पेट पर दबाव पड़ता है। और पेट पर दबाव पड़ने के कारण महिला के साथ शिशु को भी दिक्कत होती है।

ज्यादा तेजी से और दबाव डालकर मालिश नहीं करें

गर्भावस्था के दौरान बॉडी को रिलैक्स करने के लिए मालिश करवानी चाहिए। और महिला को आराम जब महसूस होता है जब महिला की मालिश हल्के हल्के हाथों से की जाती है। यदि महिला ज्यादा तेजी और दबाव डालकर मालिश करवाती है तो इसके कारण महिला की दिक्कत कम नहीं होती है बल्कि बढ़ जाती हैं। खासकर रीढ़ की हड्डी और पेट पर दबाव डालकर तो बिल्कुल भी मसाज नहीं करनी चाहिए।

प्रेगनेंसी के दौरान मालिश करवाने के बेहतरीन फायदे

  • गर्भावस्था के दौरान मालिश करवाने से हड्डियों और मांसपेशियों को आराम मिलता है।
  • महिला का तनाव होता है कम।
  • प्रेगनेंसी महिला को रिलैक्स महसूस होता है।
  • अनिंद्रा की समस्या होती है दूर।
  • शरीर प्रसव के लिए होता है तैयार और नोर्मल डिलीवरी होने के चांस बढ़ते हैं।
  • शरीर में ब्लड फ्लो होता है बेहतर।
  • पैरों में सूजन की समस्या से आराम मिलता है।
  • स्किन सम्बन्धी परेशानियों से निजात मिलता है।
  • ब्लड प्रैशर की समस्या से बचे रहने में मदद मिलती है।
  • शरीर में दर्द, जोड़ो में दर्द, की समस्या से बचे रहने में मदद मिलती है।

तो यह हैं प्रेगनेंसी के दौरान मालिश करवाने के फायदे। तो यदि आप भी प्रेग्नेंट हैं तो आपको भी प्रेगनेंसी के दौरान मालिश जरूर करवानी चाहिए। साथ ही ऊपर दी गई बातों का भी ध्यान रखें ताकि प्रेगनेंसी के दौरान मालिश करवाने के आपको बेहतरीन फायदे मिल सके जिससे आपको प्रेगनेंसी के दौरान स्वस्थ रहने में मदद मिले।

READ  बार बार पेशाब लगने और कम आने के क्या कारण होते हैं प्रेगनेंसी में?

Don’t do these mistakes while getting massage in pregnancy

Leave A Reply

Your email address will not be published.