Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

वजाइनल इन्फेक्शन: जलन, खुजली, और रैशेस से ऐसे छुटकारा पाएं

0

वजाइनल इन्फेक्शन एक ऐसी समस्या है जिससे ज्यादातर महिलाएं परेशान हो जाती है, इसे खमीर संक्रमण भी कहा जाता है, जो की फंगस की तरह होता है, लेकिन योनि की अच्छे से साफ़ सफाई न रखने के कारण, ज्यादा खुशबूदार चीजों का इस्तेमाल करने के कारण पुराना या अत्यधिक टाइट अंडरवियर पहनने के कारण, कई बार आपके प्राइवेट पार्ट में इस फंगस की वृद्धि होने लगती है, जिसके कारण आपको खुजली, जलन, व् रैशेस की समस्या हो जाती है, और कई बार पेशाब में जलन आदि भी होने लगती है, कई बार इसका कारण आपका यौन रोगों से पीड़ित होना भी हो सकता है, यह किसी प्रकार की बिमारी नहीं है, संक्रमण है जो उन महिलाओ में अधिक होता है जो यौन क्रिया में सक्रिय होती है, इसके अलावा इस परेशानी के होने के और भी कारण हो सकते है, तो आइये जानते है की वो कारण और वजाइनल इन्फेक्शन से बचने के उपाय कौन कौन से है।

इन्हें भी पढ़ें:- प्राइवेट पार्ट की साफ़ सफाई रखने के तरीके जो आपके लिए बहुत जरुरी है

private part

वजाइनल इन्फेक्शन के कारण:-

  • अधिक मात्रा में एंटीबायोटिक्स का सेवन करने के कारण भी प्राइवेट पार्ट में जीवाणुओं की वृद्धि होने लगती है, जिसके कारण आपको ये समस्या हो सकती है।
  • शुगर के रोगी इस समस्या के कारण अधिक परेशान रहते है।
  • प्रेगनेंसी के दौरान एस्ट्रोजन के स्तर में कमी और हार्मोनल बदलाव के कारण आपको प्राइवेट पार्ट से जुडी इस परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।
  • जो महिलायें प्राइवेट पार्ट की साफ़ सफाई का ध्यान नहीं रखती है उन्हें भी ये परेशानी हो सकती है।
  • एड्स या अन्य किसी यौन रोग के कारण भी आपको योनि में संक्रमण हो सकता है।
  • अधिक टाइट अंडरवियर पहनने और ज्यादा खुशबूदार प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करने से भी प्राइवेट पार्ट में ph स्तर बिगड़ जाता है जिसके कारण आपको ये परेशानी हो सकती है।

दही का इस्तेमाल करें:-

दही में अच्छे बैक्टेरिया होते है जो आपके प्राइवेट पार्ट में बैड बैक्टेरिया को बढ़ने से रोकते है, और योनि का ph बैलेंस बनाएं रखने में मदद करते है, जिससे आपको जलन खुजली, व् रैशेस जैसी समस्या से बचने में मदद मिलती है, इसके इस्तेमाल के लिए रूही का एक बड़ा सा टुकड़ा लें, और उसे अच्छे से दही में भिगो दें, उसके बाद इसे अपने प्राइवेट पार्ट के ऊपर रखें, जहां आपको जलन, खुजली व् रैशेस की समस्या है, और कम से कम दो घंटे इसे ऐसे रहने दे, और उसके बाद गुनगुने पानी की मदद से अपने प्राइवेट पार्ट को साफ़ करें, दिन में दो बार इस उपाय को करें, और इसमें नमक या चीनी कुछ भी न मिलाएं।

नारियल तेल का प्रयोग करें वजाइनल इन्फेक्शन के लिए:-

coconut-oil

नारियल तेल में मौजूद कवक विरोधी गुण आपके प्राइवेट पार्ट में संक्रमण फैलाने वाले बैक्टेरिया को खत्म करने में मदद करते है, इसके लिए आप दिन में दो से तीन बार अपने हाथों से नारियल तेल को अच्छे से वहां लगाएं जहां आपको खुजली, जलन, व् रैशेस हो गए है, और जब तक आपको फ़र्क़ न दिखाई दें, तब तक इसका इस्तेमाल करें, इससे आपको फायदा मिलेगा, साथ ही आप अपने आहार में भी कम से कम एक चम्मच नारियल तेल का सेवन जरूर करें इससे भी आपको फायदा मिलता है।

इन्हें भी पढ़ें:- इन घरेलु उपाय से प्राइवेट पार्ट की दुर्गन्ध दूर होगी!

सेब का सिरका है असरदार उपाय:-

सेब का सिरका भी आपको इस समस्या से बचाने में मदद करता है, जिससे प्राइवेट पार्ट के ph बैलेंस को बनाएं रखने में मदद मिलती है, साथ ही इसमें मौजूद एसिड युक्त एंटीवायरल, एंटी फंगल, और एंटी बेक्टेरियल गुण भी उपयुक्त मात्रा में होते हैं, आप इसका कई तरह से इस्तेमाल कर सकते है, जैसे की दो कप गरम पानी लें, और उसमे तीन बड़े चम्मच सेब के सिरके के मिलाएं, उसके बाद अपनी योनि को धोने के लिए दिन में कई बार इसका इस्तेमाल करें, या आप सब के सिरके और पानी को बराबर मात्रा में मिलाएं, और उसके बाद रुई के टुकड़े को उसमे भिगोकर पंद्रह मिनट के लिए दिन में दो बार अपने प्राइवेट पार्ट पर रखें, और उसके बाद गुनगुने पानी का इस्तेमाल करके अपने प्राइवेट पार्ट को धो दें, या आप एक कप गरम पानी में दो बड़े चम्मच सेब के सिरके के मिलाएं, उसके बाद दिन मे दो बार उसका सेवन करें, इससे भी आपको फायदा मिलेगा।

बोरिक एसिड का इस्तेमाल करें:-

बोरिक एसिड में मौजूद एंटीसेप्टिक और एंटीफंगल गुण आपके प्राइवेट पार्ट से जुडी परेशानी को खत्म करने में आपकी मदद करते है, इसके इस्तेमाल के लिए आप दो कप गरम पानी में एक चम्मच बोरिक एसिड को मिलाएं, और उसके बाद पतला घोल तैयार करके उसे अपने प्राइवेट पार्ट पर लगाएं और दो से तीन मिनट के बाद साफ़ पानी से धो लें, दिन में एक बार इस उपाय को कुछ दिनों तक करने से फायदा मिलता है, इसके अतिरिक्त यदि आप प्रेग्नेंट हैं तो इस उपाय अधिक समय तक न करें, और यदि इसे करने से आपकी स्किन पर जलन अनुभव हो तो भी इसे नहीं करना चाहिए।

एलोवेरा का इस्तेमाल करें:-

alovera

एलोवेरा का इस्तेमाल आपने अपनी स्किन और बालों के लिए तो बहुत बार किया होगा, लेकिन इसमें मौजूद विटामिन, अमीनो एसिड, और एंजाइम आपके प्राइवेट पार्ट में बैड बैक्टेरिया को बढ़ने से रोकते है, साथ ही इसमें होने वाले एंटी इर्रिटेटिंग गुण, एंटी फंगल, और एंटी इंफ्लेमटरी गुण आपको योनि की जलन खुजली आदि से भी राहत दिलाने में मदद करते है, इसके प्रयोग के लिए आप एलोवेरा जैल को प्रभावित एरिया पर लगाएं, या आप दो बड़े चम्मच एलोवेरा जैल के संतरे के रस में या सादे पानी में मिलाकर लगाएं आपको फायदा मिलेगा।

डॉक्टर से राय लें:-

ज्यादातर महिलायें इस बात को लेकर शर्माती है और इस बारे में किसी डॉक्टर से खुल कर राय नहीं लेती है जो की गलत है यदि आप इन उपाय का इस्तेमाल करने के बाद भी कोई सुधार नहीं दिखता है तो आपको डॉक्टर को जरूर दिखाना चाहिए साथ ही यदि आपको ठीक होने के बाद बार बार दुबारा से वजाइनल इन्फेक्शन होता है तो इस बारे में भी एक बार आपको डॉक्टर से राय जरूर लेनी चाहिए।

वजाइनल इन्फेक्शन से बचने के अन्य उपाय:-

  • नीम की पत्तियों को पानी में उबाल कर उस पानी को ठंडा करके दिन में तीन से चार बार अपने प्राइवेट पार्ट को साफ़ करें।
  • यूरिन पास करने के बाद भी अपने प्राइवेट पार्ट को पानी से जरूर साफ़ करें।
  • नारियल के तेल में कपूर मिलकार प्राइवेट पार्ट पर लगाएं।
  • कॉटन की अंडरवियर पहने, और साथ ही बिना धोये हुए अंडरवियर को कभी न पहने।
  • मीठे का सेवन कम करें क्योंकि उसके कारण भी आपको इस परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।
  • तेज गंध वाला परफ्यूम, लोशन या साबुन का इस्‍तमाल न करें, इसके कारण एलर्जी के साथ आपको जलन आदि की समस्या भी हो सकती है।
  • पीरियड्स के दौरान साफ़ सफाई का दुगुना ध्यान रखें क्योंकि इस समय साफ़ सफाई न रखे जाएँ तो तेजी से संक्रमण के फैलने का खतरा रहता है।

तो ये हैं कुछ उपाय जिनका इस्तेमाल करके आप वजाइनल इन्फेक्शन से राहत पा सकते है, और साथ ही आपको ये समस्या न हो तो आपको प्राइवेट पार्ट की साफ़ सफाई का ध्यान रखना चाहिए ताकि उसका ph बैलेंस सही रहें और आपको इस परेशानी का सामना न करना पड़े।

इन्हें भी पढ़ें:- प्राइवेट पार्ट के आस पास खुजली व रैशेस हो जाते हैं? ये हैं घरेलू उपाय

Leave a comment