Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

सामान्य प्रसव होने के उपाय

प्रेगनेंसी के पूरे नौ महीने महिला के लिए किसी जंग से कम नहीं होते है, क्योंकि इस दौरान वो बहुत से शारीरिक और मानसिक बदलाव से गुजरती है, उसके बाद डिलीवरी का समय नजदीक आने पर ज्यादातर महिलाओ की छह होती है, की वो अपने शिशु को जन्म सामान्य प्रसव से दें, क्योंकि इससे उन्हें डिलीवरी के समय तो दर्द होता है लेकिन बाद में तेजी से रिकवर होने में मदद मिलती है, और सर्जरी से बचना चाहती है, क्योंकि सामान्य प्रसन न केवल माँ के लिए बल्कि शिशु के लिए भी बेहतर होता है, लेकिन कई बार डिलीवरी में महिला या शिशु से जुडी परेशानी के आने पर आपको सिजेरियन डिलीवरी का सहारा लेना पड़ता है।

-- Advertisement --

इन्हें भी पढ़ें:- डिलीवरी के बाद होने वाली ढीली और लटकती हुई त्वचा से कैसे पाएं छुटकारा

pregnancy

कुछ महिलाएं खुद भी नार्मल डिलीवरी में होने वाले दर्द से बचने के लिए सिजेरियन डिलीवरी का सहारा लेती है, लेकिन कुछ महिलाएं ऐसी भी होती है, जो प्रेगनेंसी की शुरुआत से ही ऐसे तरीको का इस्तेमाल करती है जिससे की उनका सामान्य प्रसव हो सकें, लेकिन ये भी सच है शिशु को जन्म देना हर माँ के लिए इस दुनिया का सबसे ख़ास लम्हा होता है, तो आइये आज हम उन महिलाओ के लिए कुछ टिप्स और योगासन बताने जा रहे हैं जिससे उन्हें नार्मल डिलीवरी होने में मदद मिलती है, यदि आप भी प्रेगनेंसी के दौर से गुजर रही है तो आप भी इन टिप्स का इस्तेमाल कर सकती है।

अपने स्वास्थ्य का अच्छे से ध्यान रखें:-

यदि आप चाहते है की आपका प्रसव सामान्य हो तो इसके लिए सबसे जरुरी होता है की आप शारीरिक के साथ मानसिक रूप से भी पूरी तरह से तैयार हो, आपके शरीर में खून की कमी न हो, कमजोरी न हो, और अपने अपने मन को इस बात के लिए तैयार कर रखा हो की आप डिलीवरी के दौरान होने वाले दर्द को बर्दाश कर लेंगी, तो आपको नार्मल डिलीवरी करवाने में मदद मिलती है।

ज्यादा खड़े न रहें:-

नार्मल डिलीवरी के लिए जरुरी है की आप अधिक देर तक कही खड़े न रहे ऐसा करने से गुरुत्वीय बल के कारण शिशु नीचे की और आता है, जिसके कारण कई बार आपको डिलीवरी के समय परेशानी का अनुभव हो सकता है, साथ ही आपको भारी वजन आदि उठाने से भी बचना चाहिए।

पानी का भरपूर सेवन करें:-

normal delivery

बच्चा गर्भाशय में जिस तरल पदार्थ में रहता है, उसे एमनियोटिक फ्लूड कहते है, इसकी मात्रा को सही रखने के लिए जरुरी होता है की आप पानी का भरपूर सेवन करें, इससे गर्भ में पल रहे शिशु को भी ऊर्जा मिलती है, जिससे नार्मल डिलीवरी में मदद मिलती है ऐसे में गर्भवती महिला को दिन में आठ से दस गिलास पानी का सेवन जरूर करना चाहिए।

इन्हें भी पढ़ें:- सिजेरियन डिलीवरी के बाद ऐसे रखें अपने स्वाथ्य और खान पान का ध्यान

व्यायाम करें:-

ज्यादातर महिलाओ का ऐसा सोचना है की प्रेगनेंसी के दौरान आपको व्यायाम नहीं करना चाहिए, अब आप खुद ही सोचिये की आप प्रेग्नेंट हैं या बीमार है, प्रेगनेंसी में आपको ऐसा व्यायाम नहीं करना चाहिए जिससे आपके शिशु को नुकसान पहुंचे, हल्का फुल्का व्यायाम करने से आपके शरीर को फिट रहने में मदद मिलती है, जिससे और डिलीवरी के समय होने वाले दर्द को सहन करने के लिए अभ्यास भी होता है, इसीलिए हल्का फुल्का व्यायाम आदि करते रहना चाहिए।

अपने आहार का ध्यान रखें:-

बच्चे के विकास और महिला के स्वास्थ्य को पूरी तरह फिट रखने के लिए जरुरी होता है की आप अपने आहार का सेवन भरपूर मात्रा में करें, और सभी मिनरल्स लें, ऐसा करने से आपकी गर्भाशय की ग्रीवा को अच्छे से पोषण मिलता है, जिससे आपको फायदा होता है, साथ ही ताजे और संतुलित आहार और ताजे फलों का सेवन करें, अधिक मसालेदार भोजन, और बासी आहार से आपको दूर रहना चाहिए।

तनाव न लें:-

tanav

तनाव को प्रेगनेंसी से सौ मील तक दूर रखना चाहिए क्योंकि मानसिक तनाव के कारण आपके स्वास्थ्य पर ही नहीं बल्कि शिशु के शारीरिक और मानसिक विकास पर भी असर पड़ता है, जिसके कारण कई बार आपकी डिलीवरी में भी कॉम्प्लीकेशन्स आ सकते है, इससे बचने के लिए आपको तनाव नहीं लेना चाहिए।

अपने डॉक्टर से नियमित जांच करवाएं:-

प्रेगनेंसी के दौरान आप चाहे कितना भी अच्छा महसूस करें, लेकिन आपको अपनी सेहत के प्रति बिल्कुल भी लापरवाही नहीं करनी चाहिए, और नियमित रूपसे डॉक्टर से जांच करवानी चाहिए, ताकि यदि आपकी डिलीवरी से सम्बंधित यदि कोई समस्या है तो आप उस समस्या का समाधान कर सकें।

सामान्य प्रसव के लिए योगासन:-

पश्चिमोत्तानासन करें:-

पश्चिमोत्तानासन

पश्चिमोत्तानासन करने से आपको सामान्य पसाव करने में मदद मिलती है, क्योंकि इसे करने से इसे आपको तनाव कम होता है, और यह आपकी मांसपेशियों को लचीला बनाता है, साथ ही इससे आपके गर्भाशय के स्नायुजाल को ठीक करने में मदद मिलती है, जिससे नार्मल डिलीवरी के चांस बढ़ते है।

तितली आसन करें:-

इस आसन को यदि आप प्रेगनेंसी के तीसरे महीने से शुरू करते है, तो यह आपको नार्मल डिलीवरी करवाने में मदद करता है, क्योंकि इसे करने से न केवल आपके शरीर की मांसपेशियों को बल्कि यूटेरस की मांसपेशियों को भी लचीला बनाने में मदद करता है, साथ ही इससे प्राइवेट पार्ट के तनाव को खुलने में मदद मिलती है, जिससे आपको फायदा मिलता है।

बुद्ध कोणासन करें:-

बुद्ध कोणासन करने से भी आपको नार्मल डिलीवरी करवाने में मदद मिलती है, और यह सबसे आसन और सरल आसन होता है जो की आपकी नार्मल डिलीवरी करवाने में आपकी मदद करता है।

तो ये कुछ टिप्स है जिनकी मदद से आप सामान्य प्रसव करवा सकती है, साथ ही यदि आपकी प्रेगनेंसी में किसी तरह की परेशानी है तो आपको एक बार कुछ भी करने से पहले डॉक्टर की राय जरूर लेनी चाहिए।

इन्हें भी पढ़ें:- अगर आप डिलीवरी के बाद भी पहले जैसी दिखना चाहती है? तो ये करें

Leave a comment