क्या आपको पता है आपका बेबी गर्भ में क्या पसंद करता है?

जैसे ही गर्भवती महिला अपनी प्रेगनेंसी के बारे में घर के सदस्यों या अपने फ्रेंड्स और रिश्तेदारों को शेयर करती है। तो हर कोई गर्भवती महिला कुछ न कुछ टिप्स जरूर शेयर करते हैं। जो प्रेग्नेंट महिला की सेहत से जुड़े होते हैं या गर्भ में शिशु के विकास से जुड़े हुए होते हैं। साथ ही प्रेग्नेंट महिला को खुश करने के लिए घर के सदस्य या करीबी कुछ उपहार भी देते हैं। जैसे की कोई बेबी टॉय, छोटे बच्चों की फोटो आदि। जिसे देखकर प्रेग्नेंट महिला बहुत खुश होती है।

और महिला का खुश होना गर्भ में शिशु के लिए भी बहुत अच्छी बात होती है। और पूरी प्रेगनेंसी में महिला भी गर्भ में शिशु के विकास के विकास के बारे में सोचती रहती है। साथ ही जन्म के बाद शिशु के लिए बहुत से सपने संजोने लगती है। लेकिन क्या आप जानती है की प्रेग्नेंट महिला द्वारा की गई कुछ एक्टिविटीज से गर्भ में शिशु भी बहुत खुश होता है।

बेबी गर्भ में क्या पसंद करता है

गर्भ में शिशु के होने के अहसास को केवल प्रेग्नेंट महिला ही नहीं महसूस कर पाती है। बल्कि गर्भ में शिशु भी अपनी माँ के अहसास और महिला द्वारा की गई एक्टिविटीज को महसूस कर सकता है। और महिला द्वारा की गई कुछ चीजें शिशु को गर्भ में बहुत पसंद होती है। क्या आप उनके बारे में जानना चाहती हैं? यदि हाँ, तो आइये आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से उन चीजों के बारे में आपको बताने जा रहे हैं।

बेबी गर्भ में पसंद करता है स्वादिष्ट आहार

  • गर्भावस्था के दौरान बॉडी में होने वाले हार्मोनल बदलाव के कारण महिला के जीभ के स्वाद में भी फ़र्क़ आ सकता है।
  • और इस बदलाव के कारण कुछ महिलाओं का मीठा, खट्टा, तीखा आदि खाने का मन हो सकता है।
  • लेकिन यदि आप ऐसा सोच रही है की यह खाने का स्वाद सिर्फ आपके लिए है तो ऐसा नहीं है।
  • क्योंकि जिस आहार का प्रेग्नेंट महिला सेवन करती है उसका टेस्ट भ्रूण तक भी पहुँचता है।
  • और जब आप खाना खा रही होती है या अपने आहार को खत्म करती है तो आपका शिशु मूवमेंट कर सकता है।
  • क्योंकि जिस तरह आपका पेट भर जाता है उसी तरह शिशु के संतुष्ट होने पर शिशु गर्भ में मूवमेंट करने लगता है।
  • इसके अलावा जब शिशु को भूख लगती है तो भी शिशु मूवमेंट कर सकता है।
  • ऐसे में जब भी आपको भूख लगे तो कुछ न कुछ जरूर खाएं।
  • क्योंकि गर्भ में शिशु भी अलग अलग तरह के आहार को बहुत एन्जॉय करता है।

खुशनुमा मूड

  • गर्भवस्था के दौरान महिला का तनाव लेना आम बात है।
  • और इसका कारण स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या या शारीरिक बदलाव हो सकता है।
  • लेकिन प्रेग्नेंट महिला को तनाव न लेने की सलाह दी जाती है।
  • क्योंकि तनाव से शिशु के विकास पर बुरा असर पड़ सकता है।
  • जिस तरह महिला का तनाव लेना शिशु पर प्रभाव डाल सकता है।
  • तो हो सकता है की महिला के खुश होने से शिशु पर इसका अच्छा प्रभाव भी पड़े।
  • और ऐसा भी हो सकता है की जब आप हँसे तो गर्भ में आपका शिशु भी मुस्कुराए।
  • इसीलिए शिशु को हैप्पी मूड में रखने के लिए प्रेग्नेंट महिला को खुश रहना चाहिए।
  • क्योंकि गर्भ में शिशु भी इसे एन्जॉय कर सकता है।

बेबी गर्भ में क्या पसंद करता है माँ की आवाज़

  • गर्भ में शिशु की सुनने की क्षमता में वृद्धि होने के साथ शिशु बाहर की आवाज़ों को महसूस कर सकता है।
  • इसीलिए प्रेग्नेंट महिला को गर्भ में शिशु से बात करने की सलाह दी जाती है।
  • क्योंकि इससे शिशु के मानसिक विकास को बढ़ावा मिलने में भी मदद मिलती है।
  • और हो सकता है की गर्भ में माँ की आवाज़ को शिशु बहुत ज्यादा पसंद करता हो।
  • क्योंकि जन्म के बाद शिशु के लिए माँ की एक आवाज़ रोते हुए शिशु को चुप कराने के लिए काफी होती है।
  • वैसे ही गर्भ में शिशु को खुश रखने के लिए, बेहतर विकास के लिए प्रेग्नेंट महिला को गर्भ में शिशु से बातें जरूर करनी चाहिए।
  • क्योंकि यह तो सच है की शिशु माँ की आवाज़ को महसूस कर सकता है।
  • और जब माँ की आवाज़ को महसूस शिशु कर सकता है।
  • तो माँ की आवाज़ को सुनकर शिशु खुश भी होता है।
  • इसीलिए कोई कहानी या अपने शिशु के प्रति अपने मन के विचारों को को लेकर प्रेग्नेंट महिला को गर्भ में शिशु से जरूर बातें करनी चाहिए।
  • ताकि गर्भ में शिशु को खुश रखने में मदद मिल सके।

बेबी गर्भ में पसंद करता है मधुर संगीत

  • गर्भ में शिशु को मधुर संगीत सुनना भी पसंद हो सकता है।
  • इसीलिए महिला को दिन में थोड़ी देर शिशु के लिए मधुर संगीत जरूर सुनना चाहिए।
  • ज्यादा तेज आवाज़ करके और बहुत तेज चिल्लाते हुए संगीत नहीं सुनना चाहिए।
  • साथ ही शिशु को संगीत वैसे ही सुनाई दे जाता है।
  • तो पेट पर हैडफ़ोन लगाकर संगीत को शिशु को नहीं सुनाना चाहिए।

पेट की मसाज

  • जन्म के बाद शिशु के मालिश करना बहुत जरुरी होता है।
  • और शिशु इसे एन्जॉय भी करते हैं।
  • क्योंकि मालिश करने से शिशु को रिलैक्स फील होने और अच्छी नींद लेने में मदद मिलती है।
  • वैसे ही शिशु जब गर्भ में होता है तो महिला को अपने पेट ही हल्की मसाज जरूर करनी चाहिए, क्योंकि गर्भ में भी शिशु मसाज को एन्जॉय कर सकता है।
  • मसाज के लिए नारियल तेल, बादाम तेल आदि का इस्तेमाल महिला कर सकती है।
  • मसाज करते हुए एक बात का ध्यान रखें।
  • की आराम से और पेट पर दबाव न डालते हुए हल्के हाथों से मसाज करनी चाहिए।

तो यह हैं कुछ चीजें जो भ्रूण को बहुत पसंद होती है। इसीलिए प्रेगनेंसी के दौरान गर्भ में शिशु के बेहतर विकास और शिशु को खुश रखने के लिए प्रेग्नेंट महिला को इन एक्टिविटीज को जरूर करना चाहिए।