Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

बालतोड़ की समस्या के समाधान के लिए इन्हें आजमाएं

बालतोड़ का इलाज कैसे करें :-  हमारी त्वचा बहुत ही नाजुक होती है जिसके कारण थोड़ी सी परेशानी भी बहुत तकलीफदेह हो जाती है। हर किसी मनुष्य को कोई न कोई त्वचा संबंधी समस्या होती ही रहती है। त्वचा में होने वाली इन्हीं समस्याओं में से एक है बालतोड़ या फोड़ा। जिसे स्किन एब्सेस या फर्नकल भी कहते है।

-- Advertisement --

ये हमारे जांघ, हाथ या शरीर के किसी भी हिस्से में हो सकती है। ये एक गांठ होती है जो त्वचा की सतह पर उभरती है। समय के साथ-साथ इसमें दर्द तो बढ़ता ही है इसके अलावा इसमें पस भी भर जाता है। Baltod मटर जितना छोटा भी हो सकता है और गोल्फ बाल जितना बड़ा भी। सामान्य तौर पर बालतोड़ आयल ग्लैंड या स्किन में किसी बाल के टूट जाने के कारण होता है। जो धीरे धीरे दर्द के साथ बड़ा होता है और उसमे सूजन भी आती है।

शरीर के किसी भी अंग के एक बाल के टूट जाने के कारण उस जगह घाव होने लगता है जिसे सामान्य भाषा में बालतोड़ कहा जाता है। इस समस्या में सबसे पहले एक फुंसी होती है और बाद में वो जख्म का रूप ले लेती है। बालतोड़ के जख्म में पस भर जाने पर उसमे बहुत दर्द होता है।

ऐसे तो बाल तोड़ होना कोई बहुत बड़ी बीमारी नहीं है लेकिन जब ये घाव का रूप ले लेता है तो इसके दर्द को सहना बेहद मुश्किल हो जाता है। यूँ तो डॉक्टरी इलाज के द्वारा इस समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है लेकिन कई बार समय के अभाव में डॉक्टर के पास जाना संभव नहीं होता।

शायद आप नहीं जानते लेकिन बालतोड़ की समस्या के आयुर्वेदिक उपचार भी है। जिनके द्वारा आप बिना पैसे खर्च किये भी इस समस्या से निजात पा सकते है। इन उपायो की सबसे बड़ी ख़ासियत ये है की इनका निर्माण पूरी तरह घरेलु उत्पादों द्वारा किया गया है जिनके कोई दुष्प्रभाव नहीं है। तो आईये जानते है Baltod का घरेलु इलाज!

बालतोड़ (Boils) के घरेलु इलाज  

गेहूं के दाने :-

सामान्य तौर पर बालतोड़ हाथ या पैर के बाल टूट जाने के कारण होता है। जिसके कारण हां या पैर हिलाने में भी बहुत दर्द होता है। इससे निजात पाने के लिये Baltod होने की शुरुआत में ही गुहे के कुछ दानो को मुँह में ले कर चबाएं। अब उन्हें मुँह से निकालकर बालतोड़ पर लगाएं। दिन में कम से कम 3 बार इस प्रक्रिया का प्रयोग करें। ऐसा करने से बालतोड़ का जख्म नहीं बढ़ेगा और उसके दर्द में हलकी राहत मिलेगी।

पीपल के पेड़ की छाल :-

यदि आपके घर में भी किसी को बालतोड़ हो गया है तो पीपल के पेड़ की छाल को उखाड़ लेकर घर ले आये। अब उसे घिस कर उसमे थोड़ा सा पानी मिलाकर एक पेस्ट तैयार कर लें। दिन में 2 से 3 बार इस पेस्ट को प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं। ऐसा करने से बालतोड़ के जख्म में आराम मिलेगा और उससे होने वाले दर्द में भी राहत मिलेगी।

नीम :-

बालतोड़ होने पर नीम के पत्ते और काली मिर्च की समान मात्रा लेकर उसे पीस लें। थोड़ा गाढ़ा पेस्ट बना कर उसे अपने जख्म पर लगाएं। लगाने के बाद उसपर किसी कपडे की पट्टी को बांध लें। आप चाहे तो केवल नीम के पत्ते के भी प्रयोग कर सकते है। इस उपचार की मदद से आपका बालतोड़ जल्द ठीक हो जायेगा। क्योकि इसमें नीम का प्रयोग किया गया है तो संक्रमण का ख़तरा भी नहीं रहता।

मैदा :-

Baltod को पकाकर जल्द फोड़ने के लिए इस विधि का प्रयोग किया जाता है। इसके लिए एक चम्मच मैदा को घी में भूनकर उसका पेस्ट तैयार कर लें। अब इस पेस्ट के ठंडा होने का इंतजार करें। रात को सोते समय ठंडे मिश्रण को अपने बालतोड़ के जख्म पर लगाएं। इसे ढकने और बांधने के लिए किसी कपडे की पट्टी का प्रयोग करें। एक से दो दिन के भीतर Baltod का फोड़ा अपने आप पककर फूट जायेगा। ये आपके दर्द और फोड़े से होने वाली तकलीफ को भी कम करेगा।

हल्दी और सरसों का तेल :-

बालतोड़ की समस्या को ठीक करने के लिए हल्दी में सरसों के तेल को मिलाकर हल्का गर्म कर लें। सहने जितना ठंडा हो जाने के बाद उसे Baltod वाली जगह पर लगाएं। जख्म के ठीक होने तक इसका प्रयोग करते रहे इससे Baltod के जख्म में आराम मिलेगा।

Echinacea :-

ये एक प्रकार का फूल है जो आयुर्वेद में दवाइया बनाने के लिए प्रयोग में लाया जाता है। इस फूल का प्रयोग Baltod की समस्या से निजात पाने के लिए भी किया जाता है। इसके लिए कुछ Echinacea फूल और 1 कप गर्म पानी ले। अब इस कप में इस फूल कुछ मिनट्स के लिए भिगों दें। अब इस हर्बल टी का सेवन करें फ़ायदा मिलेगा।

आलू :-

Baltod होने पर आलू का भी प्रयोग किया जा सकता है। इसके लिए 1 आलू को छील कर उसका रस निकाल लें। अब रुई को उस रस में डुबोये। आलू के रस में डूबी हुई इस रूप को अपने जख्म पर लगाएं। कुछ देर तक इस रस को लगे रहने दें और बाद में साफ़ कर ले। दिन में तीन से चार बार इस उपाय का प्रयोग करें। आराम मिलेगा।

बालतोड़ के लिए अन्य उपाय :-pyaj ke fayde

  • रुई को 15 से 20 मिनट तक मैदे में भिगो लें। अब रुई को निचोड़कर Baltod वाले स्थान पर बांध लें। तीन दिन में ही बालतोड़ ठीक हो जायेगा।
  • Baltod के फोड़े को हल्का सा दबाने पर उसकी कील निकल जाती है। इसमें थोड़ा दर्द अवश्य होगा लेकिन इससे रोग ठीक होने में फायदा मिलेगा। कील निकल जाने के बाद उस पर हल्दी लगा दें ताकि संक्रमण त्वचा के अन्य हिस्सो पर न फैले।
  • पिसी हुई मेहंदी भिगोकर उसके गाढ़े लेप को सुबह और रात को लगाने से Baltod ठीक हो जाता है।
  • सेब के सिरके को cotton पद में भिगोकर निचोड़ लें। अब इसे Baltod वाली जगह पर लगाएं। 10 मिनट के बाद उसे साफ़ कर लें।
  • लहसुन की कलियों का जूस निकल कर उसे बालतोड़ वाली जगह पर लगाएं। आराम मिलेगा।
  • प्याज की स्लाइस को Baltod से प्रभावित क्षेत्र पर लगाने से भी आराम मिलता है।
  • एलोवेरा जेल को लगाने से भी मिलता है Baltod  की समस्या में फ़ायदा।

तो ये है कुछ आयुर्वेदिक उपचार जिनकी मदद से आप Baltod की समस्या से निजात पा सकते है। ये उपाय पूरी तरह सुरक्षित और फायदेमंद है। लेकिन एक बात का ध्यान रखे, यदि समस्या अति गंभीर है तो डॉक्टरी इलाज लेना जरुरी है।

बालतोड़ का इलाज कैसे करें, बालतोड़ के घरेलु इलाज, बालतोड़ के घरेलु उपचार, Baltod ठीक करने के उपाय, बालतोड़ कैसे होता है, बालतोड़ ठीक करने के घरेलु उपाय

Leave a comment