Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

प्रेगनेंसी में खीरा खाने के माँ और शिशु के लिए फायदे

0

गर्मियों के समय में शरीर को ठंडा रखने का सबसे आसान उपाय है खीरा। खीरा एक कम कैलोरी का फ्रूट है जो असमय लगने वाली भूख के लिए बेस्ट ऑप्शन होता है। खीरे को एक फ्रूट सलाद के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है। इसके गुणों को वेट कम करने के लिए खासतौर पर जाना जाता है।

खीरे को खाने के और भी कई फायदे होते है। गर्भावस्था में खीरे का सेवन माँ और शिशु दोनों के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। फिर भी गर्भावस्था में खीरे का सेवन छोटी मात्रा में ही करना चाहिए। खीरे के फायदों को डिटेल्स में जानने यह लेख जरूर पढ़े।

पानी के मात्रा

खीरे में 96 परसेंट पानी की मात्रा होती है। प्रेगनेंसी में अक्सर शरीर में पानी की कमी हो जाती है। जिसके लिए गर्भावस्था में डॉक्टर भी तरल मात्रा के अधिक सेवन की सलाह देते है। प्रेगनेंसी के दौरान खीरे के नियमित सेवन से शरीर में पानी की कमी पूरी होती है।

गर्भावस्था में खीरे के सेवन से हमारी त्वचा हाइड्रेट रहती है। गर्मियों के दिनों में इसके सेवन से बहुत फायदा मिलता है। पर ध्यान रखिये इसके सेवन के तुरंत बाद पानी का सेवन ना करें।

कम कैलोरी

खीरा एक कम कैलोरी वाला फ्रूट सलाद होता है। प्रेगनेंसी में इसके सेवन से ऑबेसिटी की प्रोब्लेम्स नहीं होती है। गर्भावस्था के दौरान कई बार बहुत एक्सेस वेट बढ़ जाता है। प्रेगनेंसी में जरुरी है के एक सहीं वेट बढ़े। इसके लिए आपको खीरे का सेवन जरूर मदद करेगा। खीरे के सेवन से आपका खराब कोलेस्ट्रॉल कण्ट्रोल रहेगा जिससे गर्भावस्था में एक सही वेट बढ़ाने में मदद मिलती है।

विटामिन्स बी

खीरे में बहुत से मल्टी विटामिन्स बी पाए जाते है। विटामिन्स बी से हमारा मूड़ अच्छा होता है। प्रेगनेंसी में इसके सेवन से स्ट्रेस भी दूर रहता है। खीरे के सेवन से तनाव भी कम हो जाता है। प्रेगनेंसी में मूड़ स्विंग्स होना बहुत ही साधारण बात है। जिसके कारण कई बार गर्भवती महिलाओं का स्ट्रेस भी बढ़ जाता है।

गर्भावस्था में खीरे खाने से हमारा मूड़ अच्छा होकर हमारा स्ट्रेस भी कम हो जाता है।

फाइबर

खीरा एक अच्छा सॉल्युबल और इनसॉल्युबल फाइबर का स्रोत है। सॉल्युबल फाइबर की मदद से शरीर का कोलेस्ट्रॉल लेवल नियंत्रण में रहता है। और साथ ही ब्लड शुगर भी सही रहता है। इनसॉल्युबल फाइबर कब्ज का इलाज भी करता है।

गर्भावस्था में कब्ज की परेशानी बहुत आम हो जाती है क्योंकि इस दौरान हमारी पाचन शक्ति बहुत धीमी पड़ जाती है। ऐसे में खीरे का सेवन हमारे लिए बहुत लाभकारी होता है।

माइक्रोन्यूट्रिएंट्स

खीरे में बहुत से न्यूट्रिएंट्स पाए जाते है जैसे की विटामिन सी, बीटा कैरोटीन, मैंगनीज, एंटीऑक्सीडेंट्स तत्व आदि। इन सभी तत्वों के मदद से हमारी बॉडी की इम्युनिटी पावर भी बढ़ती है। खीरे के सेवन से इन्फेक्शन जल्दी से हमारी बॉडी को नहीं पकड़ पाता है।

खीरे में इन तत्वों के अलावा कैल्शियम, पोटैशियम, जिंक, मैग्नीशियम, कॉपर, आयोडीन, सल्फर आदि तत्व भी पाए जाते है। यह सभी तत्व माँ और शिशु के विकास के लिए बहुत ही आवश्यक होते है। खीरे के सेवन से शिशु को जन्म के समय होने वाली परेशानियों से भी सुरक्षा मिल जाती है।

कूलिंग

खीरा एक प्राकृतिक कूलर के रूप में कार्य करता है। खीरा खाने से शरीर को ठंडक मिलती है। गर्मियों में प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए खीरे का सेवन बहुत ही फायदेमंद होता है। क्योंकि इसके सेवन से हमारी त्वचा ठंडी रहती है और साथ ही हमारी पानी की कमी भी पूरी हो जाती है।

गर्भावस्था के दौरान गर्मियों में हमे बहुत से परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इस समय में खीरे का सेवन हमे बहुत से परेशानियों से दूर रखता है। हमे ठंडक पहुंचाने के साथ साथ हमारे शरीर को जरुरी पोषक तत्व भी प्रदान करता है।

इसमें मौजूद विटामिन सी, बी भ्रूण का विकास करने में मदद भी करते है और साथ ही हमारी हड्डियों का मजबूत बनाकर मसल्स को भी स्ट्रांग बनाते है।

इन सभी फायदों के अतिरिक्त गर्भावस्था में इसके अधिक सेवन से शरीर में कुछ इन्फेक्शन, पेट में गैस, पाचन क्रिया से संबधित परेशानियाँ भी हो सकती है। इसीलिए इसका सेवन एक नियमित मात्रा में ही किया जाना चाहिए। इसके अतिरिक्त आपको कभी भी खीरे के सेवन से कुछ परेशानी हो तो तुरंत अपने डॉक्टर से सलाह ले।

Leave a comment