प्रेगनेंसी में अमरुद खाने के फायदे और नुकसान

प्रेगनेंसी के दौरान महिला को फलों का सेवन करने की सलाह जरूर दी जाती है क्योंकि फलों में पोषक तत्व भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं। तो आज इस आर्टिकल में हम एक ऐसे ही फल के बारे में बात करने जा रहे हैं जिसका सेवन प्रेगनेंसी के दौरान करना बहुत फायदेमंद होता है। और वो फल है अमरुद, खाने में अमरुद बहुत ही स्वादिष्ट होता है। अमरुद में मौजूद पोषक तत्व गर्भवती महिला को फिट रखने के साथ गर्भ में पल रहे शिशु के बेहतर विकास में भी मदद करते हैं। तो आइये अब जानते हैं की अमरुद का सेवन करने से गर्भवती महिला और शिशु को कौन कौन से फायदे मिलते हैं।

विटामिन सी

अमरुद में विटामिन सी भरपूर मात्रा में मौजूद होता है और विटामिन सी एक बेहतरीन एंटी ऑक्सीडेंट होता है। जो गर्भवती महिला की इम्युनिटी बढ़ाने में मदद करता है जिससे माँ व् बच्चे दोनों को प्रेगनेंसी के दौरान संक्रमण से बचे रहने में मदद मिलती है। इसके अलावा विटामिन सी शरीर के सभी हिस्सों में ब्लड को अच्छे से अवशोषित करने में मदद करता है जिससे शरीर में खून की कमी की समस्या से भी गर्भवती महिला को बचे रहने में मदद मिलती है।

पोटैशियम

पोटैशियम और घुलनशील फाइबर से भरपूर अमरुद का सेवन करने से गर्भवती महिला के ब्लड प्रैशर को नियंत्रित रहने में मदद मिलती है। जिससे ब्लड प्रैशर हाई या लौ होने के कारण होने वाली परेशानी से महिला को बचे रहने में मदद मिलती है।

डाइट्री फाइबर

अमरुद में डाइट्री फाइबर मौजूद होता है जो गर्भवती महिला के पाचन तंत्र को दुरुस्त रखने में मदद करता है। जिससे गर्भवती महिला को कब्ज़, अपच, भूख में कमी, एसिडिटी जैसी परेशानियों से बचे रहने में मदद मिलती है।

आयरन

अमरुद आयरन का भी बेहतरीन स्त्रोत होता है जो गर्भवती महिला के शरीर में खून की कमी को पूरा करने में मदद करता है। जिससे गर्भवती महिला को एनीमिया व् खून की कमी के कारण होने वाली अन्य परेशानियों से बचे रहने में भी मदद मिलती है।

विटामिन बी 6

प्रेगनेंसी के दौरान अधिकतर महिलाएं मॉर्निंग सिकनेस यानी सुबह उठने के बाद उल्टी, सिर दर्द चक्कर, थकान जैसी समस्या से परेशान होती है। लेकिन अमरुद का सेवन करने से महिला को अपनी इस परेशानी को कम करने में मदद मिलती है। क्योंकि विटामिन बी 6 इस समस्या को कम करने में मदद करता है।

तनाव होता है दूर

अमरुद में मौजूद विटामिन्स महिला को मानसिक रूप से रिलैक्स रहने में भी मदद करते हैं। जिससे प्रेग्नेंट महिला को तनाव, घबराहट जैसी परेशानियों को दूर करने में मदद मिलती है। साथ ही महिला का दिमाग शांत और मूड बेहतर होता है।

फोलिक एसिड

अमरुद में फोलिक एसिड भी मौजूद होता है जो गर्भ में शिशु के विकास के लिए बहुत जरुरी होता है। फोलिक एसिड शिशु के दिमागी विकास को बेहतर करने के साथ शिशु को जन्मदोष से सुरक्षित रखने में भी मदद करता है।

कोलेस्ट्रॉल कण्ट्रोल

शरीर में कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना गर्भवती महिला के लिए नुकसानदायक हो सकता है। और अमरुद का सेवन करने से महिला को इस परेशानी से निजात पाने में मदद मिलती है। क्योंकि अमरुद में मौजूद डाइट्री फाइबर शरीर में बाद कोलेस्ट्रॉल को बढ़ने से रोकते हैं।

ब्लड शुगर लेवल

अमरुद का सेवन करने से गर्भवती महिला के ब्लड में शुगर के लेवल को नियंत्रित रहने में मदद मिलती है। जिससे प्रेग्नेंट महिला को जेस्टेशनल डाइबिटीज़ की समस्या से प्रेगनेंसी के दौरान बचे रहने में मदद मिलती है।

अमरुद खाने के नुकसान

यदि गर्भवती महिला सही तरीके और सही मात्रा में अमरुद का सेवन करती है तो अमरुद का सेवन करने से महिला को किसी भी तरह की परेशानी नहीं होती है। लेकिन यदि महिला गलत तरीके और जरुरत से ज्यादा अमरुद का सेवन करती है तो इसके कारण महिला को नुकसान हो सकता है। जैसे की:

  • अमरुद में फाइबर की मात्रा मौजूद होती है ऐसे में जरुरत से ज्यादा अमरुद का सेवन करने से डायरिया होने का खतरा होता है।
  • यदि महिला बिना धोये अमरुद का सेवन करती है तो अमरुद पर मौजूद बैक्टेरिया शरीर में प्रवेश कर सकता है जिससे प्रेग्नेंट महिला को इन्फेक्शन होने का खतरा होता है।
  • अमरुद को खाने से पहले एक बार काटकर जरूर देखें क्योंकि अमरुद में कीड़ा हो सकता है जो माँ व् बच्चे दोनों को नुकसान पहुंचा सकता है।
  • ज्यादा कच्चा अमरुद यदि महिला खाती तो इसके कारण महिला को पेट दर्द और दांतों से जुडी परेशानी होने का खतरा रहता है।

तो यह हैं कुछ फायदे जो अमरुद का सेवन करने से माँ व् बच्चे को मिलते हैं। तो गर्भवती महिला को भी प्रेगनेंसी के दौरान अमरुद का मौसम चल रहा है तो तो रोजाना एक अमरुद जरूर खाना चाहिए।