गर्भाधारण होते ही इन चीजों को खाना बंद कर दें

यदि आप बेबी प्लान कर रही है या आपके पीरियड्स मिस हो गए हैं और आपको ऐसा लग रहा है की हो सकता है की आपका गर्भ ठहर गया है। और आप चाहती है की आपका मिसकैरिज या प्रेगनेंसी में कोई दिक्कत न हो तो इसके लिए आपको पीरियड्स मिस होने के बाद से ही अपना दुगुना ध्यान रखना शुरू कर देना चाहिए। और प्रेगनेंसी कन्फर्म होने के बाद तो ऐसा कोई काम नहीं करना चाहिए जिससे आपको या बच्चे दोनों की सेहत को किसी भी तरह का नुकसान हो। तो आइये आज इस आर्टिकल में हम आपको कुछ ऐसे खाद्य पदार्थों के बारे में बताने जा रहे हैं। जिनका सेवन गर्भाधारण होते ही महिला को बंद कर देना चाहिए।

कच्चे अंडे

यदि आप कच्चे अंडे का सेवन करती है तो प्रेगनेंसी कन्फर्म होने के बाद आपको इनका सेवन बंद कर देना चाहिए। क्योंकि कच्चे अंडे में मौजूद बैक्टेरिया माँ व् बच्चे दोनों के लिए नुकसानदायक होता है साथ ही कच्चे मास का सेवन भी नहीं करना चाहिए।

सी फ़ूड

गर्भाधारण के तुरंत बाद से ही गर्भवती महिला को सी फ़ूड खाना बंद कर देना चाहिए। क्योंकि इसमें मर्करी की मात्रा अधिक होती है जो बच्चे के लिए नुकसानदायक होती है।

अंकुरित चीजें

बहुत सी महिलाएं नाश्ते के दौरान अंकुरित चीजों का सेवन करना पसंद करती है। लेकिन यदि आपने गर्भाधारण कर लिया है तो आपको तुरंत ही इन चीजों का सेवन बंद कर देना चाहिए। क्योंकि इसमें मौजूद बैक्टेरिया माँ व् बच्चे के लिए नुकसानदायक होता है।

गर्म तासीर वाली चीजें

कुछ ऐसी चीजें होती है जिनकी तासीर बहुत गर्म होती है जैसे की बाजरा, खजूर, लाल मिर्च, अदरक, तिल, दालचीनी, शहद, ड्राई फ्रूट्स, केसर, आदि, इन चीजों का सेवन भी प्रेगनेंसी कन्फर्म होते ही महिला को बंद कर देना चाहिए। क्योंकि गर्म तासीर वाली चीजों का सेवन करने से प्रेगनेंसी की शुरुआत में गर्भपात होने का खतरा रहता है।

कच्चा दूध

कच्चा दूध व् कच्चे दूध से बनी चीजों का सेवन भी गर्भवती महिला को प्रेगनेंसी के कन्फर्म होने के बाद से ही बंद कर देना चाहिए। क्योंकि कच्चे दूध में लिस्टेरिया, साल्मोनेला नामक बैक्टेरिया होता है जो बच्चे की सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है।

बिना धुले फल व् सब्जियां

प्रेगनेंसी कन्फर्म होने के बाद से ही हर एक खाने पीने की चीज में महिला को सावधानी बरतनी चाहिए। ऐसे में प्रेग्नेंट महिला को बिना धुले हुए फल व् सब्जियों का सेवन भी नहीं करना चाहिए क्योंकि इस पर कीटाणु हो सकते है जो गर्भ में पहुंचकर बच्चे को नुकसान पहुंचाते हैं। साथ ही बहुत देर कटे पड़े फल सलाद आदि का सेवन भी महिला को नहीं करना चाहिए।

बाहर का खाना

जंक फ़ूड, स्ट्रीट फ़ूड, बाहर से मिलने वाला खाना आदि का सेवन भी गर्भवती महिला को प्रेगनेंसी कन्फर्म होने के तुरंत बाद बंद कर देना चाहिए। क्योंकि इसके कारण बच्चे को नुकसान पहुँच सकता है।

कैफीन

यदि आप चाय, कॉफ़ी, ग्रीन टी, ब्लैक टी आदि पीने की आदत है तो आपको अपनी इस आदत में भी बदलाव करने चाहिए। क्योंकि इन सभी चीजों में कैफीन की अधिकता होती है जिसके कारण गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है।

डिब्ब्बाबंद आहार या जूस

डिब्बाबंद आहार या जूस का सेवन भी महिला को करने से बचना चाहिए, क्योंकि इन सभी चीजों को लम्बे समय तक सही रखने के लिए केमिकल का प्रयोग किया जाता है जो गर्भ में शिशु को नुकसान पहुंचाता है।

ज्यादा मीठा

प्रेगनेंसी की शुरुआत में महिलाओं की मीठा खाने की क्रेविंग हो सकती है लेकिन यदि ऐसा है तो महिला को अपनी इस इच्छा को कण्ट्रोल करना चाहिए। क्योंकि अधिक मीठे का सेवन करने से ब्लड में शुगर का लेवल बढ़ सकता है जिससे माँ व् बच्चे दोनों को नुकसान पहुँचता है। ज्यादा मीठे के साथ ज्यादा नमक का सेवन भी महिला को नहीं करना चाहिए।

दवाइयां

डॉक्टर की बिना सलाह के आपको किसी भी दवाई का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि यह दवाइयां शिशु के लिए खतरा साबित हो सकती है।

बासी, ज्यादा तेल मसालें वाला खाना न खाएं

प्रेगनेंसी कन्फर्म होने के बाद से ही महिला को अपने खाने में तरीके में भी थोड़ा बदलाव करना चाहिए। जैसे की बासी खाना, फ्रिज से निकला ठंडा खाना, ज्यादा तेल मसाले वाला खाना भी महिला को नहीं खाना चाहिए।

नशीले पदार्थ

गर्भाधारण होने के बाद ही महिला को धूम्रपान, शराब आदि नशीली चीजों का सेवन बिल्कुल बंद कर देना चाहिए। क्योंकि यह सभी चीजें शिशु के शारीरिक ही नहीं बल्कि मानसिक विकास को भी रोक सकती है।

तो यह हैं कुछ चीजें जिनका सेवन गर्भाधारण के तुरंत बाद महिला को बंद कर देना चाहिए क्योंकि इसके कारण गर्भपात व् बच्चे के विकास से जुडी अन्य परेशानियां होने का खतरा रहता है।