दांतों में ठंडा गरम लगने के क्या कारण होते है और उपाय?

0

Tips and Causes of Sensitive Teeth

दांतों में ठंडा गरम लगने के क्या कारण होते है और उपाय, सेंसिटिव दांतों का इलाज, दांतों में ठंडा गरम लगना, दांतों में ठंडा गरम लगने के उपाय, दांत में पानी लगना, दांतों में ठंडा लगना, दांतों में झनझनाहट, टीथ में ठंडा गरम लगने, संवेदनशील दांत के लक्षण, दांत संवेदनशीलता, danto me jhanjhanahat, dato ki sensitivity

दांतों को हमारे चेहरे की खुबसूरती का अभिन्न हिस्सा माना जाता है। इसीलिए तो सभी इनकी चमक और सेहत को लेकर काफी सजग रहते है। लेकिन कई बार निरंतर प्रयास करने के बाद भी दांतों में समस्याएं होने ही जाती है। और इन्ही समस्यायों में से एक है दांतों में ठंडा गरम लगना यानी सेंसिटिविटी। जी हां, कई बार दांतों की नियमित और सही देखभाल करने के बावजूद भी सेंसिटिविटी की समस्या हो जाती है। जिसके बहुत से कारण होते है।

ये बात तो हम सभी भली-भांति जानते है की हमारे द्वारा खाया या पीया जाने वाला प्रत्येक पदार्थ हमारे दांतों से होकर गुजरता है। और पुरे दिन भर में हम न जाने ऐसी कितनी ही हानिकारक चीजों का सेवन करते है जो सीधे तौर पर हमारे दांतों को नुकसान पहुंचाती है।

सेंसिटिविटी क्या होती है?दांतों में ठंडा गरम लगने के उपाय

कुछ भी ठंडा या गरम, खाने-पीने पर दांतों में एक झंझनाहट महसूस होती है जिसे सेंसिटिविटी कहा जाता है। और यह तब होती है जब दांतों पर लगा सुरक्षा कवच यानी इनेमल घिस जाती है। टूथ इनेमल को दांतों का सुरक्षा कवच इसीलिए भी कहा जाता है क्योंकि यह उन्हें हर तरह की कठोर चीजों से बचाने का काम करती है। लेकिन बहुत से लोग खट्टी और एसिडिक प्राकृति वाली चीजों का सेवन करते है, और ब्रश करते समय दांतों को तेज तेज रगड़ते है जिसके कारण यह इनेमल घिस जाती है। और परिणामस्वरूप आपको दांतों में ठंडा गरम महसूस होने लगता है।

सेंसिटिविटी होने के बाद व्यक्ति जब भी कोई ठंडी या गर्म चीज खाता है तो दांतों में बहुत तेज टीस मचती है। अगर आप इसे महसूस करना चाहते है तो मुंह खोल कर मुंह से साँस लेकर देखिये।

दांतों में ठंडा गरम लगने के क्या कारण होते है?

दांतों में होने वाली सेंसिटिविटी का मुख्य कारण दांतों में मौजूद बैक्टीरिया और प्लेग आदि होते है। ये दांतों की इनेमल को हानि को पहुंचाकर उन्हें खोखला कर देते है जिसके परिणामस्वरूप दांतों में कीड़ा लगने जैसी समस्याएं होने लगती है। परन्तु इसके अलावा भी और बहुत से कारण है जो दांतों की सेंसिटिविटी के लिए जिम्मेदार होते है। यहाँ हम आपको उन्ही के बारे में बता रहे है। इसके अलावा हम आपको दांतों में ठंडा गरम लगने के कुछ उपाय भी बतायेंगे। जिनकी मदद से सेंसिटिविटी को कम किया जा सकता है। लेकिन उससे पहले उसके कारणों को जान लें –

1. दांतों को जोर-जोर से रगड़ कर ब्रश करना।
2. खाना खाने के बाद कुल्ला नहीं करना।
3. बहुत अधिक एसिडिक प्रकृति यानी कोल्ड ड्रिंक आदि का सेवन करना।
4. शराब, इत्यादि का सेवन।
5. नियमित रूप से धुम्रपान करना।
6. खट्टी चीजों या खट्टे फलों का अधिक सेवन करना (जैसे संतरा मौसंबी नींबू आदि)।
7. माउथवाश का अधिक इस्तेमाल करना।
8. दांतों की ठीक प्रकार से साफ़ सफाई नहीं करना।
9. हार्ड टूथब्रश का इस्तेमाल करना।
10. चाय-काफ़ी का अधिक सेवन। आदि।

ये सभी कुछ ऐसी गलतियाँ है जिन्हें आप सभी सामान्य जीवन में रोजाना करते है। जिनकी वजह से आपके दांतों में सेंसिटिविटी की समस्या हो जाती है। परेशानी का कारण जानने के बाद बारी आती है उसके उपाय जानने की तो आइये अब दांतों में ठंडा गरम लगने के उपायों के बारे में जान लेते है।

दांतों में ठंडा गरम लगने के उपाय :-

1. दांतों की उचित देखभाल करें –

सेंसिटिविटी का एक कारण दांतों की ठीक तरह से देखभाल नहीं करना होता है। अगर आप भी इस समस्या से परेशान है तो अभी भी देर नहीं हुई है आपको अपने दांतों की देखभाल की ओर ध्यान देना शुरू करना होगा। इसके लिए रोजाना दांत साफ़ करें और केमिकल की बजाय नेचुरल प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करें।

2. खान पान की आदतों में करना होगा बदलाव –drinking cold drink

शायद आप नहीं जानते लेकिन आपके खान पान की आदतें भी आपके दांतों को नुकसान पहुंचा सकती है। अर्थात ऐसे पेय पदार्थ जिनमे सिट्रिक एसिड की अधिक मात्रा पाई जाती है उनके सेवन से बचना होगा। (जैसे- टमाटर, संतरा, नींबू आदि का जूस, सोडा और सोफ़ ड्रिंक) क्योंकि ये सभी दांतों की इनेमल को सीधे तौर पर नुकसान पहुंचाते है। इसके अलावा नियमित रूप से अधिक मसालेदार खाने और अधिक मीठे का सेवन करना भी दांतों को हानि पहुंचाता है। इसीलिए इस तरह के चीजों से परहेज करें। बेहतर होगा अगर आप संतुलित और सही भोजन का सेवन करें। हाई फाइबर वाले फूड्स का सेवन करें। इसके लिए आप खजूर, किशमिश, ताजे फल और हरी सब्जियों आदि खा सकते है। ये आपके दांतों के लिए सेफ है।

3. कैल्शियम का सेवन –

दांतों को स्वस्थ रखने के लिए कैल्शियम की आवश्यकता होती है। और डेरी प्रोडक्ट्स में कैल्शियम की अच्छी मात्रा पाई जाती है जो दांतों को तो मजबूत करते ही है साथ साथ हड्डियों को भी मजबूत बनाने में मदद करते है। इसके अलावा आप चाहे तो हरी पत्तेदार सब्जियों और ड्राई फ्रूट्स आदि के सेवन से भी कैल्शियम की आवश्यकता को पूरा कर सकते है।

4. पानी का भरपूर सेवन करें –

शरीर के प्रत्येक अंग को ठीक तरह से कार्य करने और स्वस्थ रखने के लिए पानी की आवश्यकता होती है। इसलिए पानी की भरपूर मात्रा का सेवन करें। इसके लिए खाना खाने के बाद पानी का सेवन जरुर करें। इससे दांतों में लगा हुआ खाना साफ़ हो जाता है और उनमे प्लाक नहीं जमता।

5. नर्म टूथब्रश का इस्तेमाल करें –

दांतों में होने वाली समस्यायों का एक कारण गलत ब्रश का इस्तेमाल करना भी होता है। इसलिए हमेशा सॉफ्ट और हलके ब्रिस्स्ल वाले टूथब्रश का इस्तेमाल करें। यह दांतों को नुकसान पहुंचाएं बिना उन्हें साफ़ करने में मदद करेगा।

6. ब्रश करने का तरीका –

बहुत से लोग दांतों को जोर-जोर से ब्रश करते है जिसकी वजह से इनेमल जल्दी खराब हो जाती है। जबकि दांतों को साफ़ करने का ये तरीका बिलकुल गलत है। दांतों को रगड़ना नहीं चाहिए। ऐसा करने से दांतों की चमक पर भी प्रभाव पड़ता है। इसके लिए सॉफ्ट टूथब्रश से हलके हाथों से अपने दांतों पर ब्रश करें।

7. दांतों की पिसने की आदत –

बहुत से लोगों ने दांतों को पीसने की आदत होती है, लेकिन क्या आप जानते है की आपकी यह आदत आपके दांतों के लिए कितना हानिकारक होती है। जी हां, ऐसा करने से दांतों की सुरक्षा परत हटने लगती है जिससे सेंसिटिविटी की समस्या होने लगती है। इसके अलावा दांत पीसना किसी ख़ास बीमारी की वजह भी होती है इसलिए इसकी डॉक्टरी जाँच अवश्य कराएँ।

8. कुल्ला अवश्य करें –

खाना खाने या किसी भी अन्य खाद्य पदार्थ का सेवन करने के बाद दांतों में कुल्ला अवश्य करें। ये आपके दांतों में मौजूद खाने के पार्टिकल्स को साफ़ करता है। जिससे दांतों में सडन की समस्या भी नहीं होती।

तो ये थे कुछ दांतों में ठंडा गरम लगने के कुछ कारण और उपाय। जिनकी मदद से आप भी इस समस्या से छुटकारा पा सकते है।

[Total: 5    Average: 3/5]