Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

डिलीवरी के बाद नई माँ ऐसे रखें अपनी डाइट का ध्यान

0

माँ बनना किसी भी महिला के जीवन का सबसे अहम और खूबसूरत पल होता है और सभी महिलाएं कभी न कभी इस पल का इंतज़ार अपनी जिंदगी में जरूर करती है। प्रेगनेंसी के दौरान महिला को अपनी डाइट का, अपने रहन सहन का अच्छे से ध्यान रखने की सलाह दी जाती है ताकि माँ व् बच्चे दोनों को स्वस्थ रहने में मदद मिल सकें। लेकिन क्या आप जानते हैं की डिलीवरी के बाद भी नई माँ को अपना अच्छे से ध्यान रखना चाहिए। क्योंकि जब महिला शिशु को जन्म देती है तो यह केवल बच्चे का नया जन्म ही नहीं होता है बल्कि इस दौरान माँ भी नया जन्म लेती है।

ऐसे में इस दौरान महिला का शरीर बहुत कमजोर हो जाता है, महिला की इम्युनिटी कमजोर हो जाती है। और महिला के शरीर में आई कमजोरी को दूर करने के लिए और जल्द से जल्द महिला के ठीक होने के लिए बहुत जरुरी होता है की महिला अपना अच्छे से ध्यान रखें। तो आइये अब इस आर्टिकल में हम आपको डिलीवरी के बाद नई माँ को अपनी डाइट का ध्यान कैसे रखना चाहिए, साथ ही अन्य किन- किन बातों का ध्यान रखना चाहिए उसके बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं।

डिलीवरी के बाद महिला की डाइट से जुड़े टिप्स

यदि आप माँ बनने वाली है या अपने अभी अभी बच्चे को जन्म दिया है तो आपके लिए बहुत जरुरी है की आप अपने खान पान का ध्यान रखें। तो आइये अब जानते हैं की डाइट से जुडी किन किन बातों का ध्यान डिलीवरी के बाद महिला को रखना चाहिए।

हरी सब्जियों का भरपूर सेवन करें

डिलीवरी के बाद महिला को हरी सब्जियों का भरपूर सेवन करना चाहिए क्योंकि इसमें आयरन, फाइबर, जैसे पोषक तत्व भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं। इससे महिला के शरीर में खून की कमी पूरी होती है, पेट साफ़ रहता है, शरीर में एनर्जी को बरकरार रहने में मदद मिलती है, आदि। जिससे महिला जल्दी रिकवर होती है।

दूध पीएं

बच्चे के जन्म के बाद महिला को दूध का अधिक सेवन करना चाहिए। क्योंकि दूध में कैल्शियम, प्रोटीन जैसे पोषक तत्व अधिक होती है। जिससे महिला की हड्डियों व् मांसपेशियों को पोषण मिलता है साथ ही महिला का दूध भी अच्छे से उतरता है। लेकिन यदि आपकी सिजेरियन डिलीवरी है या नोर्मल डिलीवरी है तो आपको प्लेन दूध पीने से बचना चाहिए। क्योंकि इससे टाँके पक सकते हैं ऐसे में आप दूध में हलकी पत्ती डालकर उबालें और उसके बाद उसका सेवन करें।

ड्राई फ्रूट्स

डिलीवरी के बाद महिला के शरीर में आई कमजोरी को दूर करने के लिए महिला को ड्राई फ्रूट्स का भी भरपूर सेवन करना चाहिए। क्योंकि ड्राई फ्रूट्स विटामिन्स मिनरल्स का बेहतरीन स्त्रोत होते हैं। जो डिलीवरी के बाद महिला के शरीर में आई कमजोरी को दूर करने में मदद करते हैं। आप चाहे तो ड्राई फ्रूट्स के लड्डू बनाकर उनका सेवन भी कर सकते हैं।

लड्डू खाएं

यह तो सभी को पता होगा की बच्चे के जन्म के बाद नई माँ को लड्डू जरूर खिलाएं जाते हैं और यह लड्डू घी, ड्राई फ्रूट्स, गोंद आदि से भरपूर होते हैं। ऐसे में यदि नई माँ लड्डू का सेवन करती हैं तो इससे महिला के शरीर को पोषण मिलता है जिससे महिला को जल्द से जल्द ठीक हो जाती है साथ ही दूध के जरिये बच्चे को भी यह सभी पोषक तत्व मिलते हैं। जिससे बच्चे का विकास भी बेहतर होता है।

गुड़

डिलीवरी के बाद महिला को खाना खाने के बाद या फिर आटे में गुड़ को पिघलाकर या फिर किसी अन्य रूप में ही गुड़ का सेवन भी जरूर करना चाहिए। क्योंकि गुड़ में सेलेनियम और जिंक जैसे पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो महिला की इम्युनिटी को मजबूत करने व् शरीर में आयरन की मात्रा को सही रखने में मदद करते हैं।

दालें

बच्चे के जन्म के बाद महिला को अपनी डाइट में दालों को भी जरूर शामिल करना चाहिए क्योंकि दालें प्रोटीन, फाइबर, विटामिन्स आदि का बेहतरीन स्त्रोत होती है। इससे गर्भवती महिला की इम्युनिटी बढ़ने के साथ ब्रेस्टमिल्क बढ़ाने में भी मदद मिलती है। यानी की माँ व् शिशु दोनों को पोषण मिलता है और इसके लिए महिला मूंग दाल, मसूर दाल, अरहर दाल आदि का सेवन कर सकती है।

अंडे और नॉन वेज

आप चाहे तो अंडे और नॉनवेज का सेवन भी कर सकती है क्योंकि अंडे और नॉन वेज दोनों में ही पोषक तत्व भरपूर मात्रा में शामिल होते हैं। जिससे महिला को एनर्जी से भरपूर रहने में मदद मिलती है।

खजूर खाएं

डिलीवरी के बाद महिला को दूध के एक गिलास में पांच छह खजूर डालकर उसे उबाल लेना चाहिए और फिर उस खजूर का सेवन करना चाहिए और दूध पी लेना चाहिए। ऐसा करने से महिला के शरीर को पोषण मिलता है जिससे महिला को जल्द से जल्द ठीक होने में भी मदद मिलती है।

फ्रूट्स खाएं

नई माँ चाहे तो फ्रूट्स का सेवन भी कर सकती है क्योंकि फ्रूट्स भी पोषक तत्वों की खान होते हैं। ऐसे में यदि महिला फ्रूट्स का सेवन करती है तो इससे महिला को सभी तरह के पोषक तत्व मिलते हैं। जिससे महिला को जल्द से जल्द ठीक होने में मदद मिलती है।

पानी पीएं

डिलीवरी के बाद महिला को शरीर में पोषक तत्वों के साथ तरल पदार्थों की मात्रा को भी सही रखना चाहिए। क्योंकि कई बार शरीर में पानी की कमी के कारण भी शारीरिक परेशानियां बढ़ जाती है। इसके अलावा महिला को तीन चार गिलास गर्म पानी पीना चाहिए इससे शरीर की सिकाई हो जाती है। साथ ही शरीर में मौजूद विषैले पदार्थ भी बाहर निकल जाते हैं और डिलीवरी के बाद यूरिन इन्फेक्शन जैसी परेशानी से बचे रहने में भी मदद मिलती है।

डिलीवरी के बाद महिला को क्या नहीं खाना चाहिए

  • महिला को ज्यादा तेलीय व् मसालेदार भोजन नहीं खाना चाहिए क्योंकि इससे महिला को पेट सम्बन्धी परेशानी होने का खतरा बढ़ जाता है।
  • नई माँ को कच्चा, अधपका, बासी भोजन नहीं खाना चाहिए।
  • यदि आपकी सिजेरियन डिलीवरी है तो आपको ज्यादा घी तेल मसाले वाला भोजन भी नहीं खाना चाहिए।
  • महिला को ऐसे आहार नहीं खाने चाहिए जिनसे महिला को गैस बनती हो।
  • डिलीवरी के बाद महिला को ऐसी डाइट लेने से बचना चाहिए जिससे महिला को एलर्जी होने की समस्या हो।

डिलीवरी के बाद महिला को इन बातों का भी ध्यान रखना चाहिए?

  • महिला को भरपूर आराम करना चाहिए क्योंकि डिलीवरी के शुरूआती दिनों में महिला जितना ज्यादा से ज्यादा आराम करती है उतना ही महिला को जल्दी फिट होने में मदद मिलती है।
  • बच्चे के जन्म के बाद महिला को हैवी ब्लीडिंग होती है और यह ब्लीडिंग ज्यादा दिनों के लिए होती है ऐसे में महिला को अपने प्राइवेट पार्ट की साफ़ सफाई का अच्छे से ध्यान रखना चाहिए। क्योंकि यदि महिला साफ सफाई का ध्यान नहीं रखती है तो इसकी वजह से महिला को इन्फेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है।
  • महिला का वजन डिलीवरी के बाद बढ़ जाता है ऐसे में महिला को इसे लेकर टेंशन नहीं लेनी चाहिए और खाने पीने में लापरवाही नहीं करनी चाहिए क्योंकि यदि इस दौरान आप डाइट करती है तो आपके शरीर में कमजोरी रह जाती है और बाद में आपको शारीरिक दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।
  • बच्चे के जन्म के बाद महिला को बच्चे की केयर को लेकर स्ट्रेस होना आम बात है लेकिन जितना ज्यादा महिला तनाव लेती है उतना ही महिला की दिक्कत बढ़ती है कम नहीं होती है। ऐसे में महिला को स्ट्रेस नहीं लेना चाहिए धीरे धीरे आपको सब कुछ करना आ जाता है।
  • उठते बैठते समय ध्यान रखना चाहिए ताकि टांको पर असर नहीं पड़े।
  • शिशु को ब्रेस्फीडिंग जरूर करवानी चाहिए क्योंकि यह माँ और बच्चे दोनों के लिए फायदेमंद होती है।
  • यदि आपकी सिजेरियन डिलीवरी है या फिर नोर्मल डिलीवरी में भी आपको टाँके आये हैं तो आपको टांकों की अच्छे से केयर करनी चाहिए ताकि उन्हें जल्दी से ठीक होने में मदद मिल सकें।
  • मालिश करवाएं इससे भी महिला के शरीर को पोषण मिलता है जिससे महिला जल्द से जल्द रिकवर करती है।

डिलीवरी के बाद डॉक्टर से कब मिलें?

  • जब आपके टाँके ठीक होने लगे तो डॉक्टर द्वारा बताए गए दिन पर आपको डॉक्टर से मिलना चाहिए।
  • यदि आपको टांकों में दर्द हो रहा है, टाँके पक रहे हैं तो आपको डॉक्टर से मिलना चाहिए।
  • पीरियड्स में फ्लो बहुत ज्यादा हो रहा है साथ ही पेट दर्द की समस्या अधिक हो रही है तो भी महिला को एक बार डॉक्टर से जरूर मिलना चाहिए।
  • कोई भी शारीरिक परेशानी जरुरत से ज्यादा हो रही है तो आपको एक बार डॉक्टर से राय लेनी चाहिए।
  • बच्चे को कोई दिक्कत हो रही है तो भी एक बार डॉक्टर से मिलना चाहिए।

तो यह हैं कुछ टिप्स जिनका ध्यान डिलीवरी के बाद महिला को जरूर रखना चाहिए। यदि महिला इन टिप्स का ध्यान रखती है तो इससे महिला को जल्द से जल्द फिट होने में मदद मिलती है। इसके अलावा डिलीवरी के बाद महिला को शिशु के साथ साथ अपनी केयर में भी लापरवाही नहीं करनी चाहिए क्योंकि यदि एक को भी दिक्कत होती है तो दूसरा भी परेशान होता है।

Diet tips for new mother after baby delivery

Leave a comment
प्रेगनेंसी में चुकंदर जूस के अद्भुत फायदे कई महिलाओं का एक ब्रेस्ट बड़ा और एक छोटा क्यों होता है