Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

बिना टेस्ट के ऐसे जानिए प्रेगनेंसी है या नहीं?

0

आज कल प्रेगनेंसी का पता लगाना बिल्कुल भी मुश्किल नहीं है क्योंकि आप घर बैठे आसानी से यह जान सकती हैं की आप माँ बनने वाली है या नहीं। और इसके लिए आपको पीरियड्स मिस होने पर बाजार से एक प्रेगनेंसी टेस्ट किट लानी है और उसमे यूरिन सैंपल डालकर आप यह जान सकती है की आप माँ बनने वाली हैं या नहीं। लेकिन क्या आप जानती है की बिना टेस्ट किये भी आपको यह अंदाजा लगा सकती है की आप माँ बनने वाली हैं या नहीं? यदि नहीं, तो आज इस आर्टिकल में हम आपको बिना टेस्ट के कैसे पता चलता है की प्रेगनेंसी है या नहीं इसके बारे में बताने जा रहे हैं।

बिना टेस्ट के कैसे पता चलती है प्रेगनेंसी?

जब महिला का गर्भधारण होता है तो महिला को शरीर में बहुत से बदलाव महसूस होते हैं। जैसे की महिला को शारीरिक परेशानियां हो सकती है, शरीर में अलग सा महसूस होता है, मूड में बदलाव आ सकता है, टेस्ट में चेंज आ सकता है, आदि। और यह बदलाव शरीर में तभी से होने शुरू हो जाते हैं जब निषेचन की प्रक्रिया होती है। यदि आपको भी पीरियड्स मिस होने से पहले ही यह बदलाव यह शरीर में महसूस होते हैं। तो यह बदलाव इस बात की और इशारा करते हैं की आपका गर्भधारण हो गया हैं। तो आइये अब उन बदलावों के बारे में विस्तार से जानते हैं जो यह जानने में मदद करते हैं की महिला का गर्भ ठहर गया है।

गर्भधारण के लक्षण

जब महिला गर्भधारण करती है तो महिला के शरीर में एक नहीं बल्कि कई अलग अलग लक्षण महसूस हो सकते हैं। और इन सभी का कारण बॉडी में हो रहे हार्मोनल बदलाव होते हैं। तो आइये अब जानते हैं की गर्भधारण के क्या क्या लक्षण होते हैं।

क्रेविंग होना

यदि आपका किसी एक चीज को खाने का बहुत मन हो रहा है तो इसे क्रेविंग कहते हैं। ऐसे में यदि महिला को भी क्रेविंग हो रही है तो यह महिला के प्रेग्नेंट होने का लक्षण होता है।

उल्टी या जी मिचलाने की समस्या होना

महिला का यदि उल्टी आने का मन हो रहा हो या उल्टी आ रही हो और जी मिचलाने की समस्या हो तो यह लक्षण भी इस बात की और इशारा करता है की महिला का गर्भ ठहर गया है।

कब्ज़

शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलाव के कारण पाचन क्रिया प्रभावित होती है। जिसके कारण महिला को कब्ज़ की समस्या हो सकती है ऐसे में यदि महिला को कब्ज़ की समस्या अधिक हो तो यह लक्षण भी प्रेगनेंसी का ही लक्षण होता है।

तापमान

यदि महिला का गर्भ ठहर गया है तो इस कारण महिला को शरीर के तापमान में भी उतार चढ़ाव महसूस हो सकता है।

यूरिन पास करने की इच्छा में बढ़ोतरी

गर्भावस्था के शुरूआती समय में किडनी का काम बढ़ जाता है ऐसे में महिला की यूरिन पास करने की इच्छा में बढ़ोतरी हो सकती है। ऐसे में यदि महिला की बार बार यूरिन पास करने की इच्छा को तो यह भी महिला के प्रेग्नेंट होने का लक्षण होता है।

सिर दर्द

यदि महिला का गर्भ ठहर गया हैं तो बॉडी में होने वाले हार्मोनल के कारण और शरीर में ब्लड फ्लो तेजी से होने के कारण महिला को सिर दर्द की समस्या भी हो सकती है।

ब्रेस्ट में पेन

यदि महिला को स्तनों में कड़ापन या थोड़ा थोड़ा दर्द महसूस हो रहा है तो ऐसा महसूस होना भी प्रेगनेंसी का ही लक्षण होता है। ब्रेस्ट में दर्द होने के साथ महिला को निप्पल के रंग में भी बदलाव नज़र आ सकता है।

मूड स्विंग्स

यदि महिला का गर्भधारण हो गया है तो बॉडी में होने वाले हार्मोनल बदलाव के कारण महिला के मूड में बदलाव महसूस हो सकता है।

स्पॉटिंग

यदि महिला को ब्लीडिंग नहीं हो लेकिन हल्के खून के धब्बे महसूस हो तो यह इस बात की और इशारा करता है की निषेचन की प्रक्रिया हो चुकी है और महिला का गर्भ ठहर गया है।

थकावट

यदि महिला शरीर को बहुत थका हुआ सा महसूस करे तो यह लक्षण भी इस बात की और इशारा करता है की महिला का गर्भ ठहर गया है।

तो यह हैं कुछ लक्षण जिन्हे देखकर यह अंदाजा लगाने में मदद मिलती है की महिला का गर्भ ठहर गया है। यदि आप भी पीरियड्स मिस होने से पहले इन लक्षणों को महसूस करते हैं तो समझ जाइए की शायद आपका गर्भ भी ठहर गया है। उसके बाद पीरियड्स मिस होने के पर आप प्रेगनेंसी टेस्ट करके इस न्यूज़ को कन्फर्म कर सकते हैं।

Pregnancy symptoms

Leave a comment