गर्भवती महिला को पनीर खाना चाहिए या नहीं?

गर्भवती महिला को पनीर खाना चाहिए या नहीं?

गर्भावस्था में पनीर

प्रेग्नेंसी के दौरान महिला को खान-पान को लेकर सतर्क रहने की सलाह दी जाती है, क्यूंकि गर्भ में पल रहे शिशु का विकास गर्भवती महिला के खान-पान पर ही निर्भर करता है। महिला जितना स्वस्थ भोजन करेंगी शिशु भी उतना ही हेल्दी होगा। आज हम बात कर रहे हैं पनीर की। प्रेग्नेंसी में पनीर खाना कितना फायदेमंद होता है?

गर्भावस्था के दौरान दूध से बनी चीजों का सेवन करना गर्भवती महिला के लिए बहुत फायदेमंद होता है। पनीर भी उन्ही में से एक है। पनीर में कैल्शियम, प्रोटीन, कार्बोहायड्रेट और कई तरह के विटामिन्स और मिनरल्स होते हैं। लेकिन कुछ लोगों का मानना है की प्रेग्नेंसी में पनीर खाना सही नहीं होता। जबकि ऐसा नहीं है। पनीर सिर्फ गर्भवती महिला को ही नहीं बल्कि गर्भ में पल रहे शिशु को भी बहुत से फायदे पहुंचाता है।

प्रेग्नेंसी में पनीर खाने के फायदे

तनाव कम करे

गर्भावस्था के दौरान हो रहे बदलावों के देखकर कई महिलाएं तनाव में आ जाती हैं। अपने शरीर के बारे में सोचने लगती हैं, परेशान हो जाती हैं। जो गर्भ में पल रहे शिशु पर बुरा असर डालता है। पनीर में ट्रीप्टोफैन एमिनो एसिड होता है जो तनाव कम करके माइंड को रिलैक्स करने में मदद करता है।

इम्यून सिस्टम मजबूत करे

बदलते खान-पान और हॉर्मोनल बदलावों के चलते गर्भवती महिलाओं का इम्यून सिस्टम बहुत कमजोर हो जाता है। इम्यून सिस्टम कमजोर होने के चलते महिलाओं को बीमारियां घेर लेती हैं जिसका सीधा असर गर्भ में शिशु पर होता है। पनीर में मौजूद तत्व रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद करते है। जिससे बिमारियों से लड़ने की क्षमता बढ़ जाती है।

एनर्जी दे

प्रेग्नेंसी के दौरान कई महिलाओं को थकान बहुत ज्यादा महसूस होती है। जिसके कारण वो हमेशा सोई रहती है या लेटी रहती है। जबकि प्रेग्नेंट महिला को सिर्फ सोना ठीक नहीं। ज्यादा समय तक लेटे रहने से मांसपेशियों में अकड़न आ जाती है। पनीर को एनर्जी का बेहतर स्त्रोत्र माना जाता है जो थकान दूर करके स्टैमिना बढ़ाने का काम करता है। पनीर खाने से आपके शरीर को पर्याप्त मात्रा में ऊर्जा मिलेगी और गर्भ के भीतर आपका शिशु भी एक्टिव रहेगा।

हड्डियों को मजबूत करे

जैसा की आप सभी जानती हैं, पनीर दूध से बनता है और दूध में कैल्शियम भरपूर मात्रा में होता है। प्रेग्नेंसी के दौरान गर्भवती महिला और गर्भ में पल रहे शिशु की हड्डियों की मजबूती के लिए कैल्शियम और फॉस्फोरस की आवश्यकता होती है और पनीर में ये तत्व होता है। अगर आप पनीर खाती हैं तो हड्डियां भी मजबूत होंगी और शरीर में मिनरल्स की कमी भी नहीं होगी।

बर्थ डिफेक्ट से बचाए

पनीर में ओमेगा – 3 फैटी एसिड होता है जो गर्भ में पल रहे शिशु के शारीरिक और मानसिक विकास में मदद करता है। ताकि जन्म के समय शिशु पूरी तरह स्वस्थ हो और उसकी ग्रोथ सही तरीके से हो। यह एसिड लेबर पेन को काम करें और सुरक्षित डिलीवरी कराने में मदद करता है।

इंफेक्शन से बचाए

प्रेग्नेंसी के दौरान, इम्यून सिस्टम कमजोर होने के चलते महिलाएं बहुत जल्द इंफेक्शन की चपेट में आ जाती हैं। और प्रेग्नेंसी के दौरान इंफेक्शन होना गर्भ में पल रहे शिशु के लिए ठीक नहीं होता। पनीर में एंटी इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो संक्रमण से बचाने में मदद करते हैं। पनीर खाने से दर्द, सूजन और संक्रमण की समस्याएं कम होती है।

वजन कंट्रोल करे

गर्भवती महिलाओं को भूख बहुत ज्यादा लगती है, और उन्हें बार-बार कुछ खाने का मन करता है। इन सब के कारण वजन बढ़ने की संभावना रहती है। पनीर खाने से पेट भरा-भरा रहता है जिससे बार-बार भूख नहीं लगती। और वजन नियंत्रित करने में मदद मिलती है।

पनीर खाने के इतने सारे फायदे होते हैं। इसलिए हरेक गर्भवती महिला को पनीर जरूर खाना चाहिए। बस एक बात का ध्यान रखें, पनीर बहुत पुराना या रंग में फीका नहीं होना चाहिए। हमेशा फ्रेश और शुद्ध दूध से बना हुआ पनीर ही खाएं। ये आपके लिए सेफ है।

Leave a Comment