Ultimate magazine theme for WordPress.

पीरियड्स में ब्लड ज्यादा आने के कारण

पीरियड्स में ज्यादा ब्लीडिंग होने के कारण, पीरियड्स के दौरान महिला को ब्लीडिंग होना बहुत ही सामान्य बात होती है, और महिलाओं के साथ ऐसा हर महीने होता है। इस दौरान महिला को तीन से पांच दिन तक ब्लीडिंग हो सकती है। पीरियड्स की शुरुआत के दो दिन ज्यादा व बाकी बचे दिनों में थोड़ी कम ब्लीडिंग हो सकती है। लेकिन यदि आपको ब्लीडिंग ज्यादा दिनों तक हो या ब्लीडिंग बहुत ज्यादा हो रही हो यानी यदि आपको हर घंटे पैड बदलने की जरुरत पड़ रही हो।

तो महिला को इसे अनदेखा नहीं करना चाहिए। पीरियड्स के दौरान यदि महिला को ब्लीडिंग ज्यादा हो तो इसका कोई एक कारण नहीं होता है। बल्कि पीरियड्स के समय ज्यादा ब्लीडिंग होने के बहुत कारण हो सकते हैं। तो आइये अब जानते हैं की पीरियड्स में ब्लीडिंग अधिक होने के क्या कारण होते हैं।

हार्मोनल असंतुलन

  • पीरियड्स के समय महिला की बॉडी में हार्मोनल बदलाव हो सकते हैं।
  • ऐसे में यदि महिला की बॉडी में एस्ट्रोजन, प्रोजेस्ट्रोन का स्तर सामान्य नहीं होता है।
  • यानी की बॉडी में हॉर्मोन्स असंतुलित होते हैं तो इसके कारण महिला को ज्यादा ब्लीडिंग हो सकती है।
  • इसके अलावा यदि किसी और कारण भी यदि बॉडी में हार्मोनल असंतुलन की समस्या होती है।
  • तो उसके कारण महिला को पीरियड्स के समय ज्यादा ब्लीडिंग की समस्या हो सकती है।

पीरियड्स में अधिक ब्लीडिंग होने का कारण है अंडाशय से जुडी समस्या

  • यदि महिला के अंडाशय से अंडे रिलीज़ नहीं होते हैं।
  • तो इसके कारण महिला की बॉडी में प्रोजेस्ट्रोन हॉर्मोन रिलीज़ नहीं होता है।
  • जिसके कारण महिला को ज्यादा ब्लीडिंग हो सकती है।

गर्भनिरोधक उपकरण

  • यदि महिला ने किसी तरह के गर्भनिरोधक उपकरण का इस्तेमाल अपनी बॉडी में किया है, जैसे की कोपर- टी।
  • तो इसके कारण महिला को पीरियड्स के दौरान अधिक ब्लीडिंग की समस्या हो सकती है।
  • साथ ही गर्भनिरोधक गोलियों का अधिक सेवन करने के कारण भी महिला को अनियमित पीरियड्स व पीरियड्स के दौरान अधिक ब्लीडिंग की समस्या हो सकती है।

प्रेगनेंसी से जुड़े कारण

  • यदि महिला का गर्भपात हुआ है, डिलीवरी के बाद का समय है, महिला को एक्टोपिक प्रेगनेंसी हुई है तो इसके कारण भी महिला को पीरियड्स में अधिक ब्लीडिंग हो सकती है।
  • ऐसे में थोड़े समय बाद महिला के पीरियड्स नोर्मल हो जाते हैं।

पीरियड्स में अधिक ब्लीडिंग होने का कारण है दवाइयां

  • यदि आप किसी बिमारी से जुडी दवाइयों का सेवन कर रही हैं।
  • तो उन दवाइयों का सेवन करने के कारण भी आपको हो सकता है की पीरियड्स के दौरान अधिक ब्लीडिंग होने की समस्या हो जाए।

शारीरिक बीमारियां

  • यदि महिला गर्भाशय से जुड़े कैंसर, अंडाशय के कैंसर, सर्वाइकल कैंसर आदि शारीरिक बिमारी से पीड़ित है।
  • तो इसके कारण भी महिलाओं को पीरियड्स के दौरान अधिक ब्लीडिंग होने की समस्या हो सकती है।

अनुवांशिक

  • कई बार इस समस्या का कारण अनुवांशिक भी हो सकता है यानी की यदि आपकी माँ या बहन को ऐसी समस्या रही हो।
  • तो हो सकता है उसी कारण आपको भी इस परेशानी का सामना करना पड़े।
  • ऐसे में एक बार डॉक्टर से राय लेना बेहतर होता है।

पीरियड्स में अधिक ब्लीडिंग होने का कारण है वजन

  • यदि किसी महिला का वजन बहुत ज्यादा होता है तो इसके कारण भी बॉडी में हार्मोनल असंतुलन की समस्या हो सकती है।
  • जिसके कारण महिला को ज्यादा पीरियड्स में ज्यादा ब्लीडिंग की समस्या हो सकती है।

पेल्विक इंफ्लेमेट्री डिसीज ( पीआईडी )

  • पीआईडी यह एक प्रकार का संक्रमण होता है जो बॉडी के एक या एक से ज्यादा अंगों में हो सकता है जैसे – यूट्रस, फेलोपियन ट्यूब्‍स आदि।
  • यदि महिला इस तरह के संक्रमण से ग्रसित होती है तो इसके कारण महिला भी महिला को पीरियड्स में अधिक ब्लीडिंग की समस्या हो सकती है।
  • पीआईडी होने का कारण महिला को सम्बन्ध बनाने से सम्‍बंधी संक्रमण के कारण हो सकता है।

तो यह हैं कुछ कारण जिनकी वजह से महिला को पीरियड्स में अधिक ब्लीडिंग हो सकती है। ऐसे में महिला को इसे अनदेखा नहीं करना चाहिए और जल्द से जल्द डॉक्टर से बात करनी चाहिए।