Take a fresh look at your lifestyle.

पेशाब में जलन होने के कारण

पेशाब में जलन होने के क्या कारण होते है, पेशाब में जलन का कारण इन्फेक्शन, पेशाब में दर्द और जलन होना, पेशाब करते समय जलन होना क्या कारण है, पेशाब करते समय दर्द और जलन होना, peshab me jalan hone ke karan, पेशाब में दर्द, पेशाब में जलन के कारण, पेशाब में जलन होने के कारण, पेशाब में दर्द और जलन होने के कारण लक्षण और उपाय

0

पेशाब में दर्द और जलन क्यों होती है?

पेशाब के दौरान यदि किसी व्यक्ति को परेशानी, दर्द और जलन होती है तो उसे डिस्यूरिया (dysuria) कहा जाता है। जो मूत्र को मूत्राशय से बाहर ले जाने वाली ट्यूब या जननांगों के आस पास के हिस्सों में होता है। वैसे तो पेशाब में जलन होना कोई बिमारी नहीं है लेकिन अगर किसी व्यक्ति को यह समस्या है तो हो सकता है यह किसी अन्य बीमारी का संकेत हो।

इसलिए कभी भी पेशाब में जलन महसूस हो तो तुरंत उसी समय डॉक्टर के पास जाकर जाँच करवा लेनी चाहिए। वैसे तो यह बीमारी किसी को भी हो सकती है, परन्तु पुरुषों की तुलना में यह महिलाओं में अधिक होती है और युवा पुरुषों की तुलना में वृद्ध पुरुषों में अधिक होती है। यहाँ हम आपको

पेशाब में जलन होने के क्या-क्या लक्षण होते है?पेशाब में जलन का कारण

पेशाब में जलन होने के निम्न लक्षण हो सकते है –

  • बुखार आना।
  • जांघ के अंदरूनी हिस्से में दर्द होना।
  • दुर्गंध वाला या कठोर गंध वाला मूत्र आना।
  • पेशाब में खून आना या धुंधला पेशाब आना।
  • रात, दिन या दोनों के दौरान सामान्य से अधिक बार पेशाब जाना।
  • पेट में दर्द होना।
  • पेल्विक क्षेत्र के आस-पास छूने पर दर्द होना।
  • कंपकंपी।
  • मतली और उलटी आना।
  • दस्त लगना।
  • पीठ या उसके आस पास के हिस्से में मध्यम या तेज दर्द होना।
  • खुजली, पीड़ा व् जलन, प्राइवेट पार्ट से स्त्राव या गंधहीन पानी जैसा कुछ निकलना।

पेशाब में दर्द व् जलन होने के क्या कारण है?sikai

  • मूत्र पथ में संक्रमण पेशाब में जलन होने का सबसे आम कारण होता है।
  • इसके अलावा मूत्राशय में संक्रमण, प्रोस्टेट ग्लैंड में संक्रमण और मूत्र पथ में सूजन आदि के कारण।
  • यौन संचारित रोग भी पेशाब में जलन होने का कारण होते है।
  • सामान्य चोट लगने के कारण भी जलन होती है।
  • असामान्य रूप से पौरुष ग्रंथि का आकार बढ़ने या मूत्र मार्ग संकुचित हो जाने के कारण पेशाब में रुकावट आने लगती है जिससे जलन होती है।
  • कई बार जननांगों की बाहरी त्वचा पर घाव होने के कारण भी पेशाब करते समय जलन और दर्द होने लगता है।
  • किसी तरह के बाहरी और केमिकल युक्त प्रोडक्ट्स का यूज करने से भी पेशाब में जलन व् दर्द होने लगता है।
  • महिलाओं में मीनोपॉज के बाद योनी में सूखापन आने लगता है जिसकी वजह से भी पेशाब में जलन होने लगती है।
  • मूत्र पथ, मूत्राशय, या योनी आदि में कैंसर होने पर भी जलन हो सकती है।
  • शुगर और अन्य दीर्घकालिक स्थिति जो प्रतिरक्षा प्रणाली को दबा देती है के कारण भी पेशाब में जलन होने लगती है।
  • साबुन, क्रीम, शैम्पू या अन्य स्किन केयर प्रोडक्ट्स का अधिक इस्तेमाल करना।
  • गुर्दे या जननांग में पथरी होने की वजह से भी पेशाब में जलन होने लगती है।
  • प्राइवेट पार्ट में दाद या किसी तरह के यीस्ट संक्रमण होने के कारण भी पेशाब में दर्द और जलन हो सकती है।
    इसके अतिरिक्त कुछ अन्य कारण भी जो ‘डिस्यूरिया’ के जोखिम को बढ़ा देते है वे कारण निम्न है –

     

  • शुगर की समस्या।
  • बढती उम्र।
  • पौरुष ग्रंथि का आकार बढना।
  • गुर्दे में पथरी।
  • गर्भावस्था।
  • घुड़सवारी या साइकिल चलाना आदि जैसी गतिविधियाँ।
  • एक्जिमा और सोरायसिस जैसी त्वचा संबंधी परेशानियां आदि।

पेशाब में जलन होने के लक्षण और कारण बता रहे है। अगर आपको अपनी समस्या में इनमे से एक भी कारण दिखाई दे तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। स्वयं उपचार करने से बेहतर होगा की आप इस स्थिति में डॉक्टरी सलाह लें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.