प्रेगनेंसी के एक से चार और पांच से नौ महीने तक ऐसे ध्यान रखें

0

प्रेगनेंसी के पूरे नौ महीने महिला के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होते है। क्योंकि इस दौरान महिला ऐसे ऐसे अनुभव लेती है जो केवल एक महिला ही महसूस कर सकती है साथ ही इस दौरान महिला शारीरिक व् मानसिक रूप से बहुत सी परेशानियों का अनुभव भी करती है। ऐसे में यदि महिला थोड़ी सी भी लापरवाही बरतती है तो इसका नकारात्मक असर केवल गर्भवती महिला पर ही नहीं बल्कि गर्भ में पल रहे शिशु पर भी पड़ता है।

ऐसे में जरुरी होता है की महिला प्रेगनेंसी के दौरान इन नौ महीनों में महसूस होने वाले अलग अलग अनुभव को एन्जॉय करने के साथ अपना अच्छे से ध्यान भी रखें ताकि महिला या बच्चे को किसी तरह की परेशानी नहीं हो। तो आइये आज इस आर्टिकल में हम आपको प्रेगनेंसी के एक से चार और पांच से नौ महीने तक महिला को अपना ध्यान कैसे रखना चाहिए इस बारे में बताने जा रहे हैं।

गर्भावस्था के एक से चार महीने तक ऐसे रखें अपना ध्यान

प्रेगनेंसी के पहले चार महीने गर्भावस्था का शुरूआती समय होता है इस दौरान गर्भ में बच्चे के अंग विकसित हो रहे होते हैं। साथ ही इस दौरान की गई थोड़ी सी गलती गर्भपात जैसी परेशानी खड़ी कर सकती है। ऐसे में जरुरी होता है की महिला अपना अच्छे से ध्यान रखें। और इसके लिए महिला को कुछ आसान टिप्स का ध्यान रखना चाहिए। जैसे की:

  • प्रेगनेंसी कन्फर्म होने के बाद से ही महिला को अपना इलाज शुरू कर देना चाहिए, सभी जांच करवानी चाहिए।
  • प्रीनेटल विटामिन्स का सेवन शुरू कर देना चाहिए।
  • अपना रूटीन सेट करें।
  • अपनी दिनचर्या को सही करें गलत लाइफस्टाइल को सही करें।
  • भारी सामान नहीं उठाना चाहिए, झुककर काम नहीं करना चाहिए, पैरों के भार बैठकर कोई काम नहीं करना चाहिए।
  • यात्रा नहीं करें, भागादौड़ी नहीं करें, सीढ़ियां चढ़ने से बचें।
  • पोषक तत्वों से भरपूर डाइट लें और यदि खाने की इच्छा नहीं होती है तो थोड़ा थोड़ा करके खाएं लेकिन भूखें नहीं रहें।
  • कैफीन, नशीले पदार्थों का सेवन नहीं करें।
  • पानी का भरपूर सेवन करें।
  • शारीरिक परेशानियां अधिक होने पर डॉक्टर से जरूर मिलें।
  • शारीरिक व् मानसिक रूप से हो रहे बदलाव के कारण तनाव में नहीं आएं।
  • भरपूर नींद लें, और सोने का समय बनाएं।
  • व्यायाम करने से बचें मैडिटेशन करें।
  • रूटीन चेकअप समय से करवाएं।

गर्भावस्था के पांच से नौवें महीने तक ऐसे रखें अपना ध्यान

प्रेगनेंसी के पांच से नौ महीने में महिला को बच्चे के विकास पर सबसे ज्यादा ध्यान देने की जरुरत होती है और इसके लिए जरुरी है की महिला अपनी सेहत पर अच्छे से ध्यान दें। क्योंकि गर्भ में पल रहा शिशु तभी स्वस्थ रहता है और बेहतर विकास करता है जब होने वाली माँ स्वस्थ होती है। तो आइये अब जानते हैं की प्रेगनेंसी के पांचवें से नौवें महीने महिला को अपना ध्यान कैसे रखना चाहिए।

  • गर्भवती महिला की पांच से नौ महीने में भूख बढ़ सकती है लेकिन महिला को इस बात का ध्यान रखना है की महिला जरुरत से ज्यादा नहीं खाए क्योंकि इसके कारण महिला का वजन ज्यादा बढ़ सकता है जिससे प्रेगनेंसी में कॉम्प्लीकेशन्स होने का खतरा रहता है।
  • प्रेग्नेंट महिला बच्चे की मूवमेंट का ध्यान रखे की शिशु सही से हलचल कर रहा है या नहीं।
  • भीड़भाड़ व् प्रदूषण वाली जगह पर गर्भवती महिला नहीं जाएँ।
  • संक्रमित व्यक्ति से दूरी रखें।
  • पेट के बल नहीं सोएं।
  • पैर लटकाकर नहीं बैठें, बहुत देर तक एक ही पोजीशन में बैठने से बचें।
  • थोड़ा बहुत व्यायाम भी जरूर करें।
  • अल्ट्रासॉउन्ड जरूर करवाएं।
  • खान पान का अच्छे से ध्यान रखें।
  • सोने में परेशानी होने पर प्रेगनेंसी पिल्लो का इस्तेमाल करें।
  • सातवें महीने के बाद शरीर को डिलीवरी के लिए तैयार करें।
  • नोर्मल डिलीवरी के चक्कर में किसी भी तरह की लापरवाही नहीं करें।
  • दूसरों की डिलीवरी की बातें सुनकर परेशान नहीं हो क्योंकि ऐसा जरुरी नहीं है की जैसा उनके साथ हुआ है वैसा आपके साथ भी हो।
  • यदि कोई भी असहज लक्षण महसूस होता है तो तुरंत डॉक्टर से मिलें।
  • प्रसव के लक्षणों की जानकारी इक्कठी करें।

ध्यान रखें:

तो यह है प्रेगनेंसी के एक से चार और पांच से नौ महीने तक महिला को अपना कैसे ध्यान रखना चाहिए इससे जुड़े कुछ टिप्स। यदि आप भी प्रेग्नेंट हैं तो आपको भी इन सभी बातों का ध्यान रखना चाहिए। ताकि आपको प्रेगनेंसी के दौरान फिट व् स्वस्थ रहने में मदद मिल सके।

Pregnancy tips