Ultimate magazine theme for WordPress.

आप प्रेग्नेंट हो गए इसके क्या-क्या लक्षण होते हैं?

0

प्रेगनेंसी के लक्षण

आज कल महिला के पीरियड्स के मिस होने पर वो आसानी से प्रेगनेंसी किट का इस्तेमाल करके घर पर ही जांच कर लेती है की वो गर्भवती है या नहीं। लेकिन क्या आप जानते हैं की यदि आप गर्भवती हैं तो इसके कुछ लक्षण आपके शरीर में भी दिखाई देने लग जाते हैं, जिससे पता चल सकता है की आप गर्भवती हैं या नहीं। और पहले समय में कोई किट का इस्तेमाल नहीं करता था बल्कि घर की बुजुर्ग महिलाएं महिला के बॉडी में होने वाले लक्षण और मासिक धर्म के मिस होने पर ही बता देती थी की महिला का गर्भ ठहरा है या नहीं। और ऐसा भी नहीं है की बॉडी में कोई एक लक्षण दिखाई देता है बल्कि कई लक्षण दिखाई दे सकते हैं। साथ ही निषेचन की क्रिया के बाद बॉडी में होने वाले हार्मोनल बदलाव पर यह निर्भर करता है की महिला के बॉडी में क्या बदलाव आते है, इसीलिए हर महिला में यह अलग अलग महसूस हो सकते हैं।

गर्भावस्था के लक्षण

माहिला के अंडाणु में रखे अण्डों में से जिस अंडे के साथ पुरुष के शुक्राणु का फैलोपियन ट्यूब में मिलन होता है और निषेचन की क्रिया होने बाद, जब भ्रूण गर्भाशय से जुड़ता है। तो महिला के शरीर में बहुत से लक्षण दिखाई देते हैं। तो लीजिए अब विस्तार से जानते हैं की आप प्रेग्नेंट हो गए इसके कौन कौन से लक्षण होते हैं।

क्रेविंग

गर्भावस्था में क्रेविंग का होना भी एक आम लक्षण होता है इसके होने पर गर्भवती महिला का आकर्षण किसी एक खाने की चीज के लिए बढ़ जाता है, जैसे की कुछ महिलाओं को मीठा खाने का मन करता है तो कुछ महिलाओं का नमकीन। और हमेशा उसी चीज को खाने की इच्छा होती रहती है।

यूरिन

बार बार यूरिन जाने की इच्छा होना भी प्रेगनेंसी के शुरूआती लक्षणों में से एक होता है, क्योंकि बॉडी में होने वाले हार्मोनल बदलाव के कारण किडनी अधिक सक्रिय हो जाती है। जिसके कारण महिला को बार बार यूरिन पास करने की जरुरत पड़ती है।

बॉडी का तापमान

प्रेगनेंसी के शुरूआती दिनों में आपको बॉडी का तापमान सामान्य से अधिक महसूस हो सकता है, और ऐसा होना आम बात होती है। लेकिन यदि आपको ऐसा महसूस हो की तापमान बहुत अधिक है तो इसे अनदेखा नहीं करना चाहिए।

मूड स्विंग्स

मूड स्विंग्स भी प्रेगनेंसी के लक्षणों में से ही एक है, और महिला के मूड में बदलाव के कारण महिला कभी खुश रहती है तो कभी बहुत अधिक गुस्से में, चिड़चिड़ी भी हो सकती है।

कब्ज़

बॉडी में हो रहे हार्मोनल बदलाव के कारण पाचन क्रिया धीमी पड़ जाती है जिसके कारण महिला को कब्ज़ की समस्या से परेशान हो सकती है, साथ ही पाचन क्रिया के धीमे होने के कारण महिला का कुछ खाने का मन भी नहीं करता है।

सिर दर्द

रक्त का वॉल्यूम बढ़ जाने के कारण शुरूआती दिनों में महिला को सिर में दर्द की समस्या अधिक रहती है, ऐसे में महिला को भरपूर आराम करना चाहिए। साथ ही धीरे धीरे इस समस्या से महिला को आराम भी मिल जाता है।

ब्रेस्ट

ब्रेस्ट में भारीपन व् सूजन का महसूस होना भी प्रेगनेंसी के शुरूआती लक्षणों में से एक है। यह बहुत ही सामान्य लक्षण होता है और ब्रेस्ट में आये इस परिवर्तन का कारण बॉडी में होने वाले हार्मोनल बदलाव होते हैं। क्योंकि ब्रेस्ट के उत्तक काफी संवेदनशील होते हैं और हार्मोनल बदलाव के कारण इन पर बहुत जल्दी असर दिखाई देता है। इसके अलावा निप्पल के रंग में भी गहरा होने लग जाता है।

उल्टी

प्रेगनेंसी होने का सबसे सामान्य और अहम लक्षणों में से एक होता है महिला को उल्टी की समस्या और अधिकतर गर्भवती महिलाएं प्रेगनेंसी की शुरुआत में इस समस्या से परेशान होती है। कुछ महिलाएं प्रेगनेंसी के पहले तीन महीने इस समस्या से परेशान रहती हैं तो कुछ पूरे नौ महीने तक उल्टियां होने के कारण परेशान हो सकती है।

थकान व् कमजोरी

गर्भावस्था की शुरुआत में बॉडी में हार्मोनल बदलाव बहुत तेजी से होते है, जिसके कारण महिला शुरुआत में बहुत ही ज्यादा थकान व् कमजोरी का अनुभव कर सकती है। ऐसे में महिला को चाहिए की जितना हो सके महिला अपनी बॉडी को आराम दे ताकि इस परेशानी से राहत पाने में मदद मिल सके।

पेट में दर्द व् स्पॉटिंग

हल्का फुल्का पेट में दर्द रहना प्रेगनेंसी के दौरान आम बात होती है और शुरुआत में यह महिला को महसूस हो सकता है, साथ ही कुछ महिलएं स्पॉटिंग की समस्या से भी परेशान हो सकती है, और ऐसा होना प्रेगनेंसी के दौरान आम बात होती है। लेकिन यदि पेट में दर्द अधिक हो और साथ ही महिला को ब्लड का प्रवाह भी अधिक हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

गंध से एलर्जी

गंध से एलर्जी का होना भी प्रेगनेंसी के दौरान होने वाली एक आम समस्या है, केवल दुर्गन्ध ही नहीं बल्कि कई बार सब्जियों व् फलों की सुगंध से भी महिला को एलर्जी हो सकती है।

भूख

बॉडी में होने वाले हार्मोनल बदलाव का असर पाचन क्रिया पर भी पड़ता है ऐसे में कुछ महिलाएं तो खाने से परहेज करने लगती है लेकिन कुछ महिलाओं की खाने की इच्छा में वृद्धि होने लगती है।

तो यह हैं कुछ लक्षण जो महिला का गर्भ ठहरने के बाद बॉडी में महसूस होते हैं ऐसे में महिला को यदि प्रेगनेंसी के लक्षण बॉडी में महसूस हो या महिला प्रेगनेंसी में टेस्ट किट के माध्यम से प्रेगनेंसी टेस्ट करे तो उसके बाद महिला को बिना देरी करते हुए तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए ताकि शुरुआत से ही आपकी प्रेगनेंसी में सही केयर होने में मदद मिल सके।