गर्भावस्था

प्रेगनेंसी के सातवें महीने में सम्बन्ध क्यों नहीं बनाना चाहिए

प्रेगनेंसी-के-सातवें-महीने-में-सम्बन्ध-क्यों-नहीं-बनाना-चाहिए

गर्भवस्था का सातवां महीना प्रेगनेंसी की तीसरी तिमाही का पहला महीना होता है। इस दौरान महिला का वजन बढ़ चूका होता है, पेट बाहर की तरफ बढ़ा हुआ होता है, महिला को थकान, पीठ में दर्द, पेट के निचले हिस्से में दर्द जैसी दिक्कतें हो सकती है। ऐसे में इन परेशानियों के होने पर हो सकता है की प्रेग्नेंट महिला के सम्बन्ध बनाने के उत्साह में कमी आ जाए। साथ ही महिला को किसी शारीरिक समस्या होने का खतरा हो जाए। तो आइये आज इस आर्टिकल में आपको सातवें महीने में सम्बन्ध क्यों नहीं बनाना चाहिए इस बारे में बताने जा रहे हैं।

बॉडी का आकार बढ़ने के कारण

  • प्रेगनेंसी के सातवें महीने में महिला का वजन बढ़ जाता है साथ ही पेट का आकार भी बढ़ जाता है।
  • ऐसे में सम्बन्ध बनाने के कारण प्रेग्नेंट महिला के पेट पर दबाव पड़ने, पेट के निचले हिस्से में दर्द जैसी परेशानी होने का खतरा होता है।
  • और पेट पर दबाव पड़ने के कारण गर्भ में शिशु को असहज महसूस हो सकता है।
  • इसीलिए हो सके तो प्रेगनेंसी के सातवें महीने में सम्बन्ध नहीं बनाना चाहिए।

प्रेगनेंसी के सातवें महीने में सम्बन्ध बनाने से हो सकती है ब्लीडिंग की समस्या

  • यदि प्रेग्नेंट महिला को ब्लीडिंग की समस्या रहती है, गर्भ में शिशु का भार नीचे की तरफ होता है।
  • और ऐसे में यदि प्रेग्नेंट महिला सम्बन्ध बनाती है तो इसके कारण ब्लीडिंग की समस्या बढ़ने के साथ गर्भ में शिशु के विकास को भी खतरा पहुँच सकता है।
  • ऐसे में इस तरह की कोई परेशानी प्रेग्नेंट महिला को न हो, इससे बचाव के लिए प्रेग्नेंसी के सातवें महीने में महिला को सम्बन्ध बनाने से बचना चाहिए।

प्रेगनेंसी के सातवें महीने में सम्बन्ध बनाने से हो सकता है समय पूर्व प्रसव का खतरा

  • यदि पहले प्रेग्नेंट महिला का प्रसव समय से पहले हुआ हो, गर्भ में एक से ज्यादा शिशु हो।
  • तो ऐसे में भी सातवें महीने में गर्भवती महिला को गलती से भी सम्बन्ध नहीं बनाना चाहिए।
  • क्योंकि इसके कारण समय पूर्व प्रसव का खतरा बढ़ जाता है जिससे न केवल गर्भवती महिला बल्कि शिशु को भी दिक्कत हो सकती है।

शारीरिक समस्या बढ़ सकती है

  • सातवें महीने में वजन बढ़ने के कारण प्रेग्नेंट महिला वैसे ही बहुत सी शारीरिक परेशानियों से जूझ सकती है।
  • ऐसे में सम्बन्ध बनाने के कारण महिला की यह परेशानियां और भी बढ़ सकती है।
  • जैसे की पेट में दर्द, पेट के निचले हिस्से में दर्द, आदि की समस्या अधिक हो सकती है।

तो यह हैं कुछ कारण जिनकी वजह से गर्भवती महिला को प्रेगनेंसी के सातवें महीने में सम्बन्ध बनाने से बचना चाहिए। लेकिन यदि आप स्वस्थ है, आपकी सम्बन्ध बनाने की इच्छा है, डॉक्टर ने भी आपको सम्बन्ध बनाने की मनाही नहीं की है। तो ऐसे में आप चाहे तो प्रेगनेंसी के दौरान पूरी सावधानी और सतर्कता के साथ सम्बन्ध बना सकती है।

0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *