प्रेगनेंसी के 1 से 9 महीने तक दूध में कब-कब क्या मिलाकर पीना चाहिए

दूध एक सम्पूर्ण आहार होता है साथ ही दूध में कैल्शियम, प्रोटीन, विटामिन्स जैसे पोषक तत्व भी भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं। इसीलिए प्रेगनेंसी के दौरान नियमित रूप से गर्भवती महिला को दो से तीन गिलास दूध पीने की सलाह दी जाती है। साथ ही दूध में पोषक तत्वों की मात्रा को बढ़ाने के लिए दूध में कुछ न कुछ मिलाकर पीने की सलाह भी दी जाती है। तो आज इस आर्टिकल में हम आपको प्रेगनेंसी के 1 से 9 महीने तक दूध में कब कब क्या मिलाकर पीना चाहिए जिससे दूध में पोषक तत्वों की मात्रा बढ़ाने में मदद मिल सके और माँ व् बच्चे दोनों स्वस्थ रहें।

प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में में दूध में इन चीजों को मिलाकर सेवन करें

गर्भावस्था की पहली तिमाही में गर्भवती महिला की बॉडी बहुत ज्यादा थकान व् कमजोरी की समस्या होती है क्योंकि इस दौरान महिला की बॉडी में लगातार हार्मोनल बदलाव होते हैं। ऐसे में प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में गर्भवती महिला चाहे तो दूध में महिलाओं के लिए मिलने वाला प्रोटीन पाउडर, horlicks, bournvita आदि मिलाकर पी सकती है।

प्रेगनेंसी की दूसरी तिमाही में गर्भवती महिला दूध में इन चीजों को मिलाकर सेवन करें

गर्भवती महिला प्रेगनेंसी की दूसरी तिमाही की शुरुआत से एक गिलास दूध में एक या दो बादाम, काजू, किशमिश आदि मिलाकर उसका सेवन कर सकती है। साथ ही दूसरी तिमाही के अंत तक आते आते महिला एक गिलास दूध में केसर के दो तीन रेशे मिलाकर उनका सेवन भी कर सकती है। ड्राई फ्रूट्स, केसर में पोषक तत्व भरपूर होने के साथ एंटी ऑक्सीडेंट्स भी भरपूर मात्रा में होते हैं जो गर्भवती महिला की इम्युनिटी को बढ़ाने में भी मदद करते हैं।

गर्भावस्था की तीसरी तिमाही में गर्भवती महिला दूध में इन चीजों को मिलाएं

प्रेगनेंसी की तीसरी तिमाही में गर्भवती महिला दूध में ड्राई फ्रूट्स, केसर आदि को मिलाकर सेवन कर सकती है। क्योंकि ड्राई फ्रूट्स में मौजूद फैटी एसिड बच्चे के विकास को बढ़ाने में मदद करते हैं। साथ ही प्रेगनेंसी के नौवें महीने में गर्भवती महिला एक गिलास दूध में एक से डेढ़ गिलास गाय का शुद्ध देसी घी मिलाकर उसका सेवन करना चाहिए। इससे गर्भवती महिला को डिलीवरी में आसानी होने के साथ, बच्चे के बेहतर विकास में मदद मिलती है।

तो यह हैं कुछ चीजें जिनका सेवन गर्भवती महिला को दूध में मिलाकर प्रेगनेंसी के दौरान करना चाहिए। ताकि दूध में पोषक तत्वों की मात्रा बढ़ाने के साथ म व् बच्चे को फिट रखने में भी मदद मिल सके।तो यदि अप भी प्रेग्नेंट हैं तो दूध को अकेला न पीएं बल्कि उसम पोषक तत्वों की मात्रा को बढाकर उसका सेवन करें।