प्रेगनेंसी में पीठ दर्द होने के कारण और उपाय

गर्भावस्था के दौरान बहुत सी शारीरिक परेशानियां गर्भवती महिला को हो सकती है। जिसमे से पीठ की दर्द की समस्या भी प्रेगनेंसी का आम लक्षण है। कुछ महिलाओं को यह परेशानी प्रेगनेंसी के दौरान शुरू होती है और कुछ महिलाएं इस समस्या से पहले से ही परेशान होती है। जो महिलाएं पहले से इस समस्या से परेशान होती है उन्हें प्रेगनेंसी के दौरान इस परेशानी का सामना अधिक करना पड़ता है। तो आइये आज इस आर्टिकल में हम आपको प्रेगनेंसी में पीठ का दर्द क्यों होता है? और किस प्रकार आप इस परेशानी से निजात पा सकते हैं उस बारे में बताने जा रहे हैं।

प्रेगनेंसी में पीठ में दर्द होने के कारण

हार्मोनल बदलाव: प्रेगनेंसी के दौरान लगातार बॉडी में हार्मोनल बदलाव होते हैं। और बॉडी में प्रोजेस्ट्रोन हॉर्मोन का स्तर भी बढ़ जाता है। जिसकी वजह से पीठ में दर्द होता है।

वजन: प्रेग्नेंट महिला का वजन महीने दर महीने बढ़ता जाता है। और पेट के भार को सँभालने के लिए रीढ़ की हड्डी मदद करती है जिससे रीढ़ की हड्डी पर जोर पड़ता है। और महिला को बैक पेन की समस्या हो सकती है।

पीछे की तरफ झुकाव बढ़ने के कारण: जब महिला का पेट बाहर की तरफ निकलता है तो गिरने के डर से बचने के लिए गर्भवती महिला पीछे की तरफ ज्यादा झुकती है। पीछे की तरफ ज्यादा झुकने के कारण पीठ के निचले हिस्से पर जोर ज्यादा पड़ता है जिसके कारण महिला को पीठ में दर्द होता है।

मसल्स में खिंचाव: जैसे जैसे प्रेगनेंसी आगे बढ़ती है वैसे वैसे गर्भाशय का आकार बढ़ने के साथ पेट और पीठ की मांसपशियाँ खींचती है इसके कारण महिला को पीठ में दर्द महसूस होता है।

तनाव: प्रेग्नेंट महिला के तनाव लेने के कारण भी महिला की शारीरिक परेशानियां बढ़ती है। जिसमे से पीठ दर्द की समस्या भी महिला को हो सकती है।

थकान: यदि महिला बहुत ज्यादा झुककर काम करती है, भारी वजन उठाती है, बहुत ज्यादा व्यायाम आदि करती है, आदि। तो इसके कारण महिला को थकान ज्यादा महसूस होती है जिसके कारण पीठ व् जोड़ो में दर्द की समस्या होती है।

कमजोरी: खान पान का अच्छे से ध्यान रखने के कारण , शरीर में खून की कमी होने के कारण, बॉडी में तरल पदार्थों की कमी होने की वजह से, आदि। गर्भवती महिला को कमजोरी महसूस होती है और कमजोरी के कारण प्रेग्नेंट महिला को पीठ के साथ बॉडी के अन्य हिस्सों में भी दर्द की समस्या हो जाती है।

गलत जूते चप्पल: ज्यादा हील वाले जूते चप्पल पहनने के कारण भी प्रेग्नेंट महिला को पीठ में दर्द की समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

पीठ के बल सोना: यदि प्रेग्नेंट महिला सीधे होकर सोती है तो इसके कारण शरीर का पूरा वजन पीठ पर पड़ता है। जिसकी वजह से गर्भवती महिला को पीठ में दर्द की समस्या का सामना करना पड़ता है।

प्रेगनेंसी में पीठ में होने वाले दर्द से बचने के टिप्स

गर्भावस्था के दौरान यदि महिला को पीठ में दर्द की परेशानी होती है। तो ऐसा नहीं है की आप उससे आराम नहीं पा सकती है। बल्कि प्रेगनेंसी के दौरान कुछ आसान टिप्स को ट्राई करने से गर्भवती महिल को पीठ में दर्द की परेशानी से निजात पाने में मदद मिलती है।

सैर करें

प्रेगनेंसी के दौरान सैर करने से बॉडी में ब्लड फ्लो बेहतर होने के साथ मांसपेशियों को भी मजबूत होने में मदद मिलती है। जिससे बैक पेन की समस्या से प्रेग्नेंट महिला को बचे रहने में मदद मिलती है।

स्ट्रेचिंग

बैक पेन की समस्या से बचने के लिए गर्भवती महिला को स्ट्रेचिंग करनी चाहिए। स्ट्रेचिंग करने से मसल्स को रिलैक्स रहने में मदद मिलती है जिससे आपको दर्द कम करने में मदद मिलती है।

स्विमिंग

यदि आपको स्विमिंग करना आता है तो पीठ दर्द की समस्या से बचाव के लिए स्विमिंग करना एक बेहतरीन उपाय है। क्योंकि स्विमिंग करने से पेल्विक एरिया और पीठ की मांसपेशियों को मजबूती मिलती है साथ ही स्ट्रेस भी कम होता है। और प्रेगनेंसी के दौरान स्विमिंग करना सेफ होता है।

मेटरनिटी बेल्ट का इस्तेमाल

प्रेगनेंसी के दौरान पेट के लिए इस्तेमाल की जाने वाली बेल्ट भी पीठ दर्द से आराम के लिए फायदेमंद होती है। क्योंकि बेल्ट पहनने से पेट का पूरा भार पीठ पर नहीं पड़ता है जिससे पीठ दर्द से बचाव होता है।

अपनी पोजीशन का ध्यान रखें

उठते बैठते, सोते हुए, खड़े होते समय, लेटते हुए, आदि के दौरान यदि महिला अपनी पोजीशन का अच्छे से ध्यान रखती है। तो ऐसा करने से भी प्रेग्नेंट महिला को पीठ दर्द को कम करने में मदद मिलती है।

अपने लिए सही सामान का चुनाव करें

पीठ दर्द की समस्या से बचने के लिए प्रेग्नेंट महिला को अपने द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली चीजों का भी सही चुनाव करना चाहिए। जैसे की हेले वाले जूते चप्पल नहीं पहनने चाहिए, ज्यादा टाइट कपडे नहीं पहनने चाहिए, आरामदायक गद्दे पर सोना चाहिए, आदि।

मालिश करें

बैक पेन की समस्या से निजात पाने के लिए मालिश करना भी एक बेहतरीन विकल्प होता है। लेकिन ध्यान रखें की मालिश करवाते समय करवट लेकर लेटे और पेट की मालिश न करें।

छोटी छोटी बातों का ध्यान रखें

रोजाना डेली रूटीन में की जाने वाली चीजें जैसे की सीढ़ियां चढ़ना, भारी सामान उठाना, ज्यादा देर तक खड़े रहकर काम करना, आदि गर्भवती महिला को नहीं करने चाहिए। क्योंकि ऐसे कामों को करने से पीठ में दर्द की समस्या बढ़ती है।

खान पान का ध्यान रखें

पीठ में दर्द की परेशानी से बचने के लिए प्रेग्नेंट महिला को खान पान का अच्छे से ध्यान रखना चाहिए। जैसे की आयरन युक्त आहार का सेवन करें जिससे शरीर में खून की कमी न हो, पोषक तत्वों से भरपूर डाइट लें, समय से अपने भोजन का सेवन करें, तरल पदार्थों का भरपूर सेवन करें, आदि।

भरपूर आराम

बैक पेन की समस्या से निजात के लिए प्रेग्नेंट महिला को भरपूर आराम करना चाहिए। क्योंकि जितना महिला आराम करती है उतना ही ज्यादा महिला को फिट रहने में मदद मिलती है।

तो यह हैं कुछ आसान टिप्स जिनका ध्यान रखने से पीठ में होने वाले दर्द की समस्या से बचने में मदद मिलती है। यदि आप भी प्रेगनेंसी के दौरान पीठ दर्द से परेशान हैं तो आप भी इन टिप्स का इस्तेमाल कर सकती है। लेकिन पीठ दर्द महसूस होने पर इस बात का खास ध्यान रखें की गलती से भी बिना किसी डॉक्टरी सलाह के किसी भी दवाई का सेवन न करें।