Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

प्रेगनेंसी नहीं होने के क्या कारण होते हैं?

Baby conceive na hone ke karan, प्रेगनेंसी नहीं होने के क्या कारण होते हैं, गर्भधारण ना कर पाने के मुख्य कारण, प्रेग्नेंट (गर्भवती) न हो पाने के कारण, Aurat ka anda na banna, Eggs ka na banna in hindi, Pregnancy ke liye tips, गर्भवती नहीं होने के कारण, माँ नहीं बन पा रही हूँ क्या करें, माँ बनने में समस्या, प्रेग्नेंसी में प्रॉब्लम, फैलोपियन ट्यूब का बंद होना, शुक्राणु की समस्या, अंडे नहीं बनना, अनियमित माहवारी


-- Advertisement --

हर महिला चाहती है की उनके घर में नन्हा-मुन्ना बालक खेले, उनकी गोद में भी शिशु आए लेकिन बहुत बार कुछ विशेष कारणों की वजह से यह संभव नहीं हो पाता। कई बार ट्राई करने के बाद भी अगर बेबी कंसीव ना हो पाए तो समझ लें की कोई ना कोई परेशानी अवश्य हैं, लेकिन क्या? इसलिए आज हम आपको प्रेगनेंसी नहीं होने के कारणों के बारे में बता रहे हैं। क्योंकि अगर कारण समझ आ जाए तो समस्या का समाधान भी अपने आप मिल जाएगा। प्रेग्नेंट नहीं होने के कारण

दोस्तों, प्रेग्नेंसी नहीं होने के बहुत से कारण हो सकते हैं जिसमे सिर्फ महिलाएं ही नहीं बल्कि पुरुष भी जिम्मेदार होते हैं। कई बार अंडे का शुक्राणु के साथ सही तरह से निषेचन नहीं होने के कारण गर्भधारण नहीं हो पाता। जिसका सीधा कारण पति-पत्नी में सही तालमेल नहीं होना होता है, क्योंकि अगर पति पत्नी में तालमेल सही हो तो प्रेग्नेंसी आराम से हो सकती हैं।

प्रेगनेंसी नहीं होने के क्या-क्या कारण होते है?

गर्भधारण नहीं होने का सबसे बड़ा कारण पुरुषों को माना जाता है जबकि ऐसा बिलकुल नहीं है। क्योंकि गर्भधारण के लिए महिला और पुरुष दोनों का बराबर योगदान होता है। और ऐसा जरुरी नहीं की हर बार पुरुष की कमी के कारण गर्भधारण ना हो कई बार महिलाओं की कमी या किसी और वजह से भी प्रेगनेंसी नहीं हो पाती। यहाँ हम आपको प्रेगनेंसी नहीं होने के कारण के बारे में बता रहे हैं।

शुक्राणु की समस्या

पुरुषों में शुक्राणु सही नहीं होने की वजह से भी गर्भधारण नहीं हो पाता। अगर पुरुष के शुक्राणु काउंट कम है या शुक्राणु हेल्दी नहीं है तो प्रेगनेंसी में समस्या आएगी। इसके लिए आपको चिंता करने की कोई बात नहीं है अपना रहन-सहन का स्तर सुधारें, नशा कम करें, अच्छी नींद लें और योगा-व्यायाम करें। आप डॉक्टर की सलाह लेकर भी अपने शुक्राणु की समस्या को ठीक कर सकते हैं।

अंडे बनने की समस्या

गर्भधारण के लिए महिलाओं में अंडे का स्वस्थ होना बहुत जरुरी होता है लेकिन कई बार अंडे का छोटा होना, हेल्दी नहीं होना, सही समय पर ओवूलूशन का नहीं होना या हॉर्मोन्स में बदलाव होने की वजह से भी फर्टिलिटी पर असर पड़ता है। जिसके कारण प्रेग्नेंसी में समस्या आने लगती है। इसके लिए आप चेकअप कराएं और समस्या का पता लगाकर उसे ठीक करें।

फैलोपियन ट्यूब का बंद होना

फैलोपियन ट्यूब का बंद होना

अगर महिला की फॉलोपियन ट्यूब में किसी प्रकार की कोई रुकावट है तो भी स्पर्म के साथ अंडे का मिलन नहीं हो पाता और निषेचन की प्रक्रिया नहीं हो पाती है। जबकि गर्भधारण के लिए अंडे का स्पर्म के साथ मिलना बहुत जरुरी होता है। इसलिए अगर बहुत ट्राई करने के बाद भी गर्भधारण करने में समस्याएं आ रही हैं तो आप अपने डॉक्टर से मिलें वो आपको सही राय देंगी।

ओवुलेशन पीरियड का ध्यान नहीं रखना

दोस्तों, प्रेग्नेंसी के लिए बेस्ट टाइम ओवुलेशन पीरियड होता है जो पीरियड्स शुरू होने के 10 दिन बाद से लेकर 20 दिन के बीच का समय ओवुलेशन पीरियड होता है। अगर इस समय सम्बन्ध बनाये जाए तो गर्भधारण के 80 प्रतिशत चांस बढ़ जाते हैं।

यह देखें : अपना ओवुलेशन कैसे जानें? खुद कैलकुलेट करें और जानें आपका ओवुलेशन कब आएगा?

संबंध कम बनाना

बहुत से लोग ये पूछते हैं की मैंने इस तारीख को संबंध बनाया तो क्या मैं प्रेग्नेंट हो जाउंगी? बहुत सी महिलाएं ये भी पूछती हैं की मैंने ओवुलेशन में एक बार संबंध बनाया था तो क्या गर्भधारण हो जाएगा? लेकिन ऐसा नहीं होता है। गर्भधारण के लिए अंडे का स्पर्म के साथ निषेचन होना बहुत जरुरी होता है और कई बार एक बार संबंध बनाने से स्पर्म अंडे तक नहीं पहुँच पाता। इसलिए ओवुलेशन पीरियड के दौरान बार-बार संबंध बनाएं।

शरीर का कमजोर होना

अगर आपका शरीर किसी बिमारी के कारण कमजोर है तो भी गर्भधारण में समस्या आ सकती हैं। इसके अलावा अगर आप  ब्लड प्रेशर, थाइराइड, बार-बार बुखार लगना, सफ़ेद पानी की समस्या से ग्रसित हैं तो भी प्रेग्नेंसी में प्रॉब्लम हो सकती है। इसके लिए पहले डॉक्टर को दिखाएं।

अनियमित माहवारी 

माहवारी के अनियमित होने पर भी गर्भधारण में समस्या हो सकती है। कई महिलाओं को महीने में 2 बार जबकि कई महिलाओं को 2 महीने में एक बार माहवारी होने की परेशानी होती है। कई बार एक दो बून्द होना या कई बार हैवी ब्लीडिंग होने की समस्या होती है अगर आपको ये समस्या है तो पहले डॉक्टर से मिलें और माहवारी नियमित करें।

ज्यादा एबॉर्शन होना

ज्यादा सर्जिकल एबॉर्शन कराने से गर्भाशय कमजोर हो जाता है जिसके कारण अंडा प्लांट होने में दिक्क्त हो सकती है। इसके अलावा अगर एबॉर्शन सही तरीके ना हुआ हो या कुछ टिश्यू गर्भाशय के भीतर रह गए हों तो भी गर्भधारण में समस्या आ सकती हैं।

तो दोस्तों, अब आप अच्छी तरह समझ गए होंगे की गर्भधारण नहीं होने के क्या कारण होते हैं? इसके लिए केवल पुरुष ही नहीं बल्कि महिलाएं भी जिम्मेदार होती हैं। इसलिए अगर गर्भधारण नहीं हो रहा है तो पहले जाँच कराएं, उस समस्या का इलाज करें और फिर गर्भधारण के ट्राई करें। आप जल्द ही प्रेग्नेंट हो जाएंगी।

Leave a comment