Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

अगर आप प्रेगनेंट हैं तो आपकी ये रूटीन होनी चाहिए

0

अगर आप प्रेगनेंट हैं तो आपकी ये रूटीन होनी चाहिए:-

प्रेगनेंट होने पर आपको अपना पहले से भी ज्यादा ध्यान रखना पड़ता है, क्योंकि अब आप अकेले नहीं होते है एक नन्ही सी जान भी आप पर ही पूरी तरह से निर्भर करती है, जैसे की आप जब अकेले होते हैं तो आप कुछ भी खा लेते है, परन्तु प्रेगनेंसी में आपको खान पान पर विशेष ध्यान रखना पड़ता हैं, इसके साथ आपके सोने से लेकर आपके उठने तक आपको सही दिनचर्या बनानी पड़ती हैं, ताकि आपका होने वाला शिशु सेहतमंद और स्वस्थ हो, और साथ ही बुद्धिमान भी बने, इसीलिए आपको एक अच्छी दिनचर्या बनानी चाहिए।

महिला को प्रेगनेंसी में अपना पूरा ध्यान रखने का मतलब है, की आपको अपने सोने का पूरा ध्यान रखना हैं, अपने आप को एक्टिव रखने के लिए हल्का फुल्का व्यायाम करना है, आहार में किसी भी तरह की लापरवाही नहीं बरतनी है, इसके साथ आपको किसी भी तरह का ऐसा कोई काम नहीं करना हैं, जिससे आपको या आपके होने वाले बच्चे पर उसका किसी भी तरह का बुरा प्रभाव पड़ें, साथ ही आपको हर एक चीज के लिए डॉक्टर से राय भी लेना जरुरी हैं, आपको दिन में हर दो घंटे में अपने लिए मील लेना चाहिए।

और आज हम आपको इसी बात के लिए टिप्स देने जा रहें हैं, जिससे आपको पता चलेगा की गर्भवती महिला का क्या रूटीन होना चाहिए, परन्तु इसे केवल आपको पढना ही नहीं हैं, बल्कि इस विषय में अच्छे से विचार करने के बाद इसे अपने ऊपर लागू भी करना है, ताकि आप अपने आप को स्वस्थ रख सकें, और आपके स्वस्थ रहने का फायदा आपके गर्भ में पल रहें शिशु को भी होगा, क्योंकि वो पूरी तरह से आप पर निर्भर करता है, और ये भी सच हैं की स्वस्थ माँ के गर्भ में ही स्वस्थ बच्चा निवास करता हैं, तो आइये जानते है की प्रेगनेंट महिला का रूटीन कैसा होना चाहिए।

प्रेगनेंट महिला का रूटीन कैसा होना चाहिए उसके लिए टिप्स:-

अपने लिए एक डॉक्टर का चुनाव करें:-

जैसे ही आपको पता चले की आप माँ बनने वाली हैं, तो आपको सबसे पहले अपने लिए एक डॉक्टर का चुनाव करना चाहिए, और उसे अपनी साड़ी पुरानी  रिपोर्ट या आपको किसी भी तरह की कोई समस्या हैं, तो इस बारे में आपको खुल कर उनसे कहना चाहिए, ऐसा करने से डॉक्टर आपकी कंडीशन को अच्छे से समझ पाती हैं, और गर्भावस्था के दौरान या बाद में आपको कोई रिस्क न हो, इसके लिए अपनी राय देती है, और आपको डॉक्टर की राय के अनुसार चलना भी चाहिए, ताकि आप अच्छे से प्रेग्नेंच्य का पूरा समय निकाल सकें, और एक स्वस्थ शिशु को जन्म दे सकें।

अपना बजट भी चेक करें:-

एक अच्छी प्रेगनेंसी आपको अच्छा महसूस करवाती है, तो कई बार प्रेगनेंसी में कई अनचाही समस्या भी आ जाती है, ऐसा होगा ये सोचकर नहीं, बल्कि आपको यदि कोई परेशानी हो जाती हैं, तो इसे समझकर अपना बजट तैयार रखना चाहिए, क्योंकि शिशु या महिला के साथ सावधानी बरतने पर भी कई बार परेशानी उत्त्पन्न हो जाती हैं, तो ऐसे में आपको बाद में और परेशानियों का सामना करना पड़ें, इससे अच्छा है, की आप पहले से ही इस परेशानी के लिए तैयार रहें, आपको इसके लिए हेल्थ इन्शोरांस वाले से राय लेनी चाहिए, ताकि यदि कोई ऐसी समस्या हो तो आपके पास इसका हल भी मोजूद हो।

अपनी पहली मीटिंग डॉक्टर के साथ तय करें:-

इसके बाद आपको डॉक्टर के साथ एक मीटिंग फिक्स करनी चाहिए, और आपको अपने मासिक धर्म की डेट के बारे में पता कर एक बार अच्छी तरह से पता करना चाहिए, की आप माँ बनने वाली है, या नहीं, और जब आपको डॉक्टर भी ये बात कह दे की आप माँ बनने वाली हैं, तो उसके बाद डॉक्टर आपको इस समय में बरती जाने वाली सावधानियो के बारे में बतायेंगी, उसे अच्छे से सुने और साथ ही अपने लिए और अपने बच्चे के लिए उन्हें अपनाएं, ताकि आप गर्भ में पल रहे बच्चे की स्वस्थ रहने में मदद कर सकें, और उसके बाद डॉक्टर के कहे अनुसार नियमित रूप से चेक करवाते रहना चाहिए।

इस ख़ुशी को सबके साथ बाटें:-

इसके बाद जब आपको डॉक्टर भी बता दें की आप इस ख़ुशी को पाने वाले हैं, तो आप इस बारे में और इस ख़ुशी को अपने घर के सदस्यों और अपने करीबी रिश्तेदारों के साथ शेयर करें, और उन्हें भी खुश होने का मौक़ा दे, और साथ ही आप इस खबर को अपने दोस्तों, एम्प्लोय्येस, या दूर के रिश्तेदारों को बाद में बताएं, क्योंकि तीन महीने तक गर्भपात का खतरा बना रहता हैं, इसीलिए जब तक तीन महीने न हो जाएँ, हो सकें तो इस बात को न बताएं, और उसके बाद यदि आप चाहते हैं, तो आप अपनी ख़ुशी अपने दूर के रिश्तेदारों के साथ भी शेयर कर सकते है, और उन्हें भी अपनी ख़ुशी में शामिल कर सकते है।

विटामिन और फोलिक एसिड लेना शुरू करें:-

इसके बाद आपको विटामिन और फोलिक एसिड लेना शुरू करना चाहिए, इस बात के बारे में आपको डॉक्टर भी बता देते हैं, परन्तु इन्हें लेने में किसी भी तरह की लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए, क्योंकि गर्भ में पल रहे शिशु के साथ आपको भी इन मिनरल्स की जरुरत होती है, और साथ ही यदि आप ऐसा आहार ले जिसमे ये सभी चीजे और आपके शरीर के लिए जरुरी मिनरल्स हो, उसका सेवन करना चाहिए, ऐसा करने से आपको और आपके बच्चे दोनों को ही फायदा होता हैं, और इसके साथ शारीरिक रूप से फिट रहने में भी मदद मिलती है।

अपने डॉक्टर से इस बारे में चर्चा करें की आपके लिए क्या फायदेमंद है:-

इसके बाद आपको अपने डॉक्टर से इस बारे में पूछना चाहिए की आपके लिए क्या क्या चीजे फायदेमंद हैं, और आप क्या क्या ले रही हैं इस बारे में भी उन्हें बताना चाहिए, क्योंकि ऐसा करने से आपको क्या क्या फायदा कर सकता हैं, इस बारे में अच्छे से पता चलता है, और साथ ही आपके लिए कौन कौन सी चीजे नहीं लेनी चाहिए, जैसे की आप पपीते का सेवन नहीं करना चाहिए, अपने आहार में किन किन चीजो कोअधिक मात्रा में सम्मिलित करना चाहिए, इस बारे में अपने डॉक्टर से अच्छे से राय लेनी चाहिए, ताकि आपको प्रेगनेंसी में किसी और घटना का सामना न करना पड़ें।

डिब्बा बंद और बाहरी चीजों का सेवन न करें:-

आपको ऐसे आहार का सेवन नहीं करना चाहिए, जो डिब्बे में पैक होता हैं, या बाहरी खाना जो आपके लिए नुकसानदायी हो सकता हैं, जैसे की आज कल मार्किट में डिब्बा बंद जूस आदि आने लग गये है, परतु आपको घर में लाकर ताजे फल व् उनसे निकले जूस का सेवन करना चाहिए, यहाँ तक की आप बासी भोजन का सेवन भी नहीं करना चाहिए, और फ्रिज से निकली किसी भी वस्तु को ऐसे ही नहीं खा लेना चाहिए, ये सब चीजे आपके और गर्भ में पल रहे शिशु दोनों के लिए ही नुकसानदायक होती है, इसीलिए आपको फ्रेश, ताजे, व् पोष्टिक आहार का सेवन करना चाहिए, जिससे आपको लाभ हो, और आपके शिशु को भी फायदा हो।

नशीले पदार्थो और कैफ़ीन का सेवन न करें:-

कई महिलाये नशीले पदार्थ जैसे अल्कोहल और सिगरेट आदि का सेवन करती है, उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए, क्योंकि इन सबका सेवन गर्भवती महिला के साथ होने वाले बच्चे के लिए भी बहुत नुक्सान करता है, इसीलिए यदि आप ऐसे किसी पदाथ का सेवन करती है, और आप प्रेगनेंट हैं तो इसके सेवन से परहेज करें। इसके साथ कई महिलाएं बहुत ज्यादा चाय या कॉफ़ी का भी सेवन करती है, उन्हें भी ऐसा नहीं करना चाहिए, क्योंकि ये भी प्रेगनेंसी में आपके लिए नुक्सान करता है, और खाली पेट इसका सेवन करने से गैस आदि की परेशानी का भी आपको सामना करना पढ़ सकता है, इसीलिए जितना हो सकें इससे परहेज रखना चाहिए।

कच्चे मीट या ज्यादा मरकरी वाले समुंद्री खाद्य पदार्थो का सेवन भी नहीं करना चाहिए:-

प्रेगनेंसी में महिला को कच्चे मीट या ऐसे समुंद्री खाद्य पदार्थो का सेवन नहीं करना चाहिए, जिसमे मरकरी की मात्रा अधिक होती है, ये आपके स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक हो सकता है, इसके साथ आपको किसी भी तरह के मीट को खाने से पहले उसे अच्छे से पका कर व् ताजा मीट का सेवन करबा चाहिए, रेड मीट नहीं खाना चाहिए, और आप ऐसे पदार्थो का सेवन करें, जिसमे ओमेगा 3 फैटी एसिड मोजूद हो, और आपके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद भी हो, और आपको और आपके बच्चे को सेहतमंद रहने में भी मदद कर सकें, तो इन बातों का प्रेगनेंसी में आपको ध्यान रखना चाहिए।

अगर आप प्रेगनेंट हैं तो आपकी ये रूटीन होनी चाहिए, अगर आप प्रेगनेंट हैं तो आप करें ये रूटीन का पालन, यदि आप प्रेगनेंट है, तो करें इस रूटीन को फॉलो, प्रेगनेंसी में करें इस रूटीन का पालन, प्रेगनेंट महिला का रूटीन कैसा होना चाहिए, agar aap pregnant hai to ye aapki routine honi chahiye, pregnant women routine

 

 

 

 

 

 

 

 

Leave a comment