Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

प्रेगनेंसी में क्या-क्या नहीं खाना चाहिए?

प्रेगनेंसी के नौ महीनों का सफर महिला के लिए बहुत ही नाजुक और महत्वपूर्ण होता है ऐसे में महिला यदि किसी भी तरह की लापरवाही करती है या गलती करती है तो इसका अंजाम काफी खतरनाक हो सकता है। ऐसे में गर्भवती महिला को पूरे नौ महीने अपना अच्छे से ध्यान रखने की जरुरत होती है। और किसी एक बात का नहीं बल्कि महिला को हर छोटी छोटी बात का ध्यान रखने की जरुरत होती है की आखिर क्या महिला और शिशु के लिए सही है और क्या नहीं है।

-- Advertisement --

खासकर खान पान से जुडी हर बात का महिला को अच्छे से ध्यान रखने की जरुरत होती है क्योंकि महिला का सही और पोषक तत्वों से भरपूर खान पान माँ व् बच्चे के स्वास्थ्य के लिए सबसे अहम होता है। ऐसे में बहुत सी ऐसी चीजें होती है जो महिला प्रेगनेंसी से पहले खा लेती थी लेकिन अब प्रेगनेंसी के दौरान महिला को उनकी मनाही होती है और कुछ चीजें ऐसी होती है जो महिला पहले नहीं खाती थी लेकिन अब महिला के लिए उन्हें खाना जरुरी होता है। तो आइये अब इस आर्टिकल में हम आपको कुछ ऐसे खाद्य पदार्थों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनका सेवन गर्भवती महिला को नहीं करना चाहिए।

प्रेग्नेंट महिला क्या नहीं खाएं?

प्रेगनेंसी के दौरान यदि महिला गलत खाद्य पदार्थों का सेवन करती है तो उनकी वजह से गर्भवती महिला और शिशु दोनों के स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ सकता है। तो आइये अब जानते हैं की वो खाद्य पदार्थ कौन से हैं।

कच्चा पपीता

गर्भवती महिला को कच्चा पपीता नहीं खाना चाहिए क्योंकि इसमें मौजूद एंजाइम गर्भ में पल रहे शिशु के लिए नुकसानदायक होते हैं। और इसे खाने के कारण महिला के गर्भपात होने का खतरा अधिक होता है।

अनानास

अनानस का सेवन भी गर्भवती महिला को नहीं करना चाहिए क्योंकि शुरूआती दिनों में इसका सेवन करने से गर्भपात और प्रेगनेंसी के आखिरी महीनों में इसका सेवन करने से समय से पहले बच्चे के जन्म होने का खतरा होता है।

एलोवेरा जूस

स्वास्थ्य सम्बन्धी फायदों के लिए एलोवेरा जूस पीना बहुत फायदेमंद होता है लेकिन यदि आप प्रेग्नेंट हैं तो आपको अजा ही एलोवेरा जूस का सेवन बंद कर देना चाहिए। क्योंकि एलोवेरा जूस पीने से महिला को ब्लीडिंग होने का खतरा होता है।

कच्चा अंडा

प्रेग्नेंट महिला को कच्चे अंडे का सेवन भी नहीं करना चाहिए क्योंकि इसके सेवन से फ़ूड पोइज़इनिंग का खतरा होता है। साथ कच्चे अंडे का सेवन करने से शरीर में साल्मोनेला, जैसे बैक्टेरिया भी प्रवेश करते हैं जो माँ व् बच्चे के स्वास्थ्य को बहुत नुकसान पहुंचा सकते हैं।

सहजन

यदि आप सहजन को सब्जियों में इस्तेमाल करती है तो आपको प्रेगनेंसी में ऐसा नहीं करना चाहिए। क्योंकि सहजन का सेवन करने से भी मिसकैरिज का खतरा बढ़ जाता है।

तिल

गर्भवती महिला को तिल का सेवन भी नहीं करना चाहिए क्योंकि तिल की तासीर गर्म होती है जिसके कारण गर्भ गिरने का खतरा अधिक होता है। इसके अलावा शहद के साथ तिल मिलाकर तो बिल्कुल भी नहीं खाने चाहिए।

बैंगन

गर्भावस्था के दौरान महिला को बैंगन का सेवन करने से भी बचना चाहिए क्योंकि बैंगन का सेवन करने से शरीर में ब्लड फ्लो में रुकावट होने का खतरा होता है। जिसके कारण माँ व् बच्चे को दिक्कत हो सकती है।

कटहल

कटहल में भी कुछ ऐसे तत्व मौजूद होते हैं जो गर्भ में पल रहे शिशु के विकास के लिए सही नहीं होते हैं। ऐसे में गर्भवती महिला को कटहल का सेवन करने से भी बचना चाहिए।

कैफीन

गर्भवती महिला को कैफीन युक्त पदार्थ जैसे की चाय, कॉफ़ी, चॉकलेट आदि का सेवन करने से भी बचना चाहिए। क्योंकि कैफीन का जरुरत से जय सेवन करने से गर्भपात, शिशु के विकास में कमी जैसी समस्या पैदा हो सकती है।

नशीले पदार्थ

शराब व् अन्य नशीले पदार्थों का सेवन भी गर्भवती महिला को नहीं करना चाहिए क्योंकि यह सभी पदार्थ गर्भ में शिशु के विकास में रूकावट पैदा करते हैं। इसके अलावा इनका असर शिशु के शारीरिक के साथ मानसिक विकास पर भी पड़ सकता है।

चाइनीज़ फ़ूड

अगर आप चाइनीज़ खाना बहुत पसंद करती है तो प्रेगनेंसी के दौरान आपको चाइनीज़ फ़ूड का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए। क्योंकि चाइनीज़ फ़ूड में अजीनो मोटो, सोया सॉस आदि होती है जिसमे मर्करी की मात्रा मौजूद होती है। और मर्करी का सेवन प्रेगनेंसी के दौरान करने से गर्भ में शिशु को नुकसान पहुँचने का खतरा अधिक होता है यहां तक की इसकी वजह से गर्भ गिर भी सकता है।

जंक फ़ूड

गर्भावस्था के दौरान महिला को जंक फ़ूड, ज्यादा मसालेदार खाना, ठंडा व् बासी खाना, डिब्बाबंद आहार आदि खाने से भी बचना चाहिए। क्योंकि यह सभी आहार गर्भ में पल रहे शिशु व् महिला की सेहत के लिए सही नहीं होते है इनकी वजह से महिला की शारीरिक दिक्कतें बढ़ने के साथ गर्भ में शिशु के विकास में कमी का खतरा भी अधिक होता है।

बिना धुले फल व् सब्जियां

गर्भवती महिला को बिना धुलें फल व् सब्जियां भी नहीं खाने चाहिए क्योंकि इनके ऊपर मौजूद बैक्टेरिया शरीर में प्रवेश कर जाता है। जिसके कारण महिला को पेट में इन्फेक्शन का खतरा अधिक होता है जो माँ व् बच्चे दोनों की सेहत के लिए नुकसानदायक होता है।

बिना डॉक्टरी सलाह के दवाइयां

गर्भवती महिला को बिना डॉक्टर की सलाह के किसी भी दवाई का सेवन भी नहीं करना चाहिए। क्योंकि बिना डॉक्टरी सलाह के दवाई का सेवन करने से वह दवाई गर्भ पर नकारात्मक असर डाल सकती है। जिसका असर कई बार शिशु के मानसिक विकास को बुरी तरह प्रभावित कर सकता है।

तो यह हैं कुछ खाद्य पदार्थ जिनका सेवन गर्भवती महिला को गलती से भी नहीं करना चाहिए क्योंकि यह सभी माँ व् बच्चे की सेहत पर हानिकारक प्रभाव डालते हैं। इसके अलावा प्रेगनेंसी के दौरान महिला को पोषक तत्वों से भरपूर चीजों को अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए जिनसे माँ व् शिशु को केवल फायदा ही मिलता है।

What not to eat during pregnancy

Leave a comment