What In India

Trending Now

बादाम क्यों जरुरी होता है प्रेगनेंसी में?

0

प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिलाएं किसी भी चीज का सेवन करने से पहले बहुत बार सोचती है। और सही भी है क्योंकि प्रेगनेंसी के दौरान महिला जो भी खाती है उसका असर गर्भ में पल रहे शिशु पर भी पड़ता है। ऐसे में कुछ भी खाने या पीने से पहले जरुरी होता है की महिला उस चीज की जानकारी अच्छे से ले की महिला वो चीज खा या पी सकती है या नहीं, कितनी मात्रा में खा सकती है, कब खा सकती है, आदि। आज इस आर्टिकल में हम एक ड्राई फ्रूट के सेवन के बारे में बात करने जा रहे हैं और वो ड्राई फ्रूट है बादाम, तो आइये अब जानते हैं की प्रेगनेंसी में बादाम खा सकते हैं या नहीं और यदि खा सकते हैं तो इसके क्या फायदे मिलते हैं।

गर्भवती महिला को बादाम का सेवन करना चाहिए या नहीं?

बादाम में आयरन, फोलेट, कैल्शियम, प्रोटीन, विटामिन व् अन्य पोषक तत्व भरपूर मात्रा में होते हैं। और यह सभी पोषक तत्व गर्भवती महिला और गर्भ में पल रहे शिशु दोनों के स्वास्थ्य को बेहतर रखने में मदद करते हैं साथ ही शिशु का विकास तेजी से होने में मदद करते हैं। ऐसे में माँ और बच्चे दोनों के फिट रहने के लिए महिला को बादाम का सेवन जरूर करना चाहिए।

प्रेग्नेंट महिला किस तरह करें बादाम का सेवन?

गर्भावस्था के दौरान महिला बादाम का कई तरह से सेवन कर सकती है जैसे की महिला इसे वैसे ही खा सकती है, रातभर पानी में भिगोने के बाद महिला सुबह इसका सेवन कर सकती है, किसी खाने की चीज में बादाम डालकर खा सकती है, दूध में बादाम डालकर शेक बनाकर बादाम के फायदे ले सकती है, आदि।

प्रेगनेंसी में बादाम खाना क्यों जरुरी होता है?

गर्भावस्था के समय बादाम का सेवन इसीलिए जरुरी होता है क्योंकि प्रेगनेंसी के दौरान उन चीजों का सेवन भरपूर करना चाहिए जो माँ और बच्चे दोनों के लिए हेल्दी हो और उसे खाने से उन्हें भरपूर फायदे मिलें। बादाम भी ऐसा ही एक ड्राई फ्रूट है जिसका सेवन करने से माँ और बच्चे दोनों को बेहतरीन फायदे मिलते हैं इसीलिए प्रेगनेंसी के दौरान बादाम का सेवन जरूर करना चाहिए। तो आइये अब जानते हैं प्रेगनेंसी में बादाम खाने से कौन से फायदे मिलते हैं।

आयरन

गर्भावस्था के दौरान महिला को शरीर में ज्यादा आयरन की जरुरत होती है और यदि महिला के शरीर में आयरन की कमी होती है तो इसके कारण महिला को स्वास्थ्य सम्बन्धी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है साथ ही शिशु के विकास में भी कमी आने का खतरा होता है। ऐसे में महिला को जरुरत होती है की महिला अपनी डाइट में आयरन युक्त चीजों को शामिल करें ताकि महिला और शिशु को ऐसी दिक्कत नहीं हो। और बादाम आयरन का बेहतरीन स्त्रोत होता है जो महिला के शरीर के आयरन की कमी को पूरा करने और लाल रक्त कोशिकाओं को बढ़ाने में मदद करता है। इसीलिए गर्भवती महिला को बादाम का सेवन जरूर करना चाहिए।

फाइबर

गर्भावस्था के दौरान महिला को पाचन सम्बन्धी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है ऐसे में इस समस्या से बचे रहने के लिए महिला को फाइबर युक्त चीजों का सेवन करने की सलाह दी जाती है। और बादाम आयरन का बेहतरीन स्त्रोत होता है। ऐसे में यदि महिला बादाम खाती है तो महिला को इससे फाइबर मिलता है जिससे महिला को पाचन सम्बन्धी समस्या जैसे की अपच, कब्ज़ आदि से बचे रहने में मदद मिलती है।

कैल्शियम

प्रेगनेंसी के दौरान महिला को कैल्शियम का भरपूर सेवन करना चाहिए क्योंकि कैल्शियम शिशु के बेहतर विकास के लिए एक अहम पोषक तत्व होता है। और बादाम में कैल्शियम की मात्रा मौजूद होती है ऐसे में यदि गर्भवती महिला बादाम का सेवन करती है तो इससे गर्भ में पल रहे शिशु की हड्डियों व् दांतों के बेहतर विकास में मदद मिलती है। साथ ही गर्भवती महिला की हड्डियों को भी पोषण मिलता है जिससे महिला को कमजोरी थकान जैसी परेशानी से बचे रहने में मदद मिलती है।

फोलेट

गर्भ में पल रहे शिशु के बेहतर विकास के लिए फोलेट एक जरुरी पोषक तत्व होता है और बादाम का सेवन करने से गर्भ में पल रहे शिशु तक फोलेट को पहुंचाने में मदद मिलती है। जिससे शिशु का शारीरिक और मानसिक विकास बेहतर होने के साथ शिशु को जन्म दोष से छुटकारा पाने में भी मदद मिलती है।

एनर्जी

प्रेगनेंसी के दौरान महिला को ज्यादा कैलोरीज़ की जरुरत होती है। और बादाम का सेवन करने से महिला के शरीर में कैलोरीज़ की मात्रा को सही रखने में मदद मिलती है। जिससे महिला को एक्टिव व् एनर्जी से भरपूर रहने में मदद मिलती है।

प्रेगनेंसी में बादाम खाने के नुकसान

किसी भी चीज का सेवन यदि सही मात्रा में किया जाये तो उससे आपको बहुत से फायदे मिलते हैं लेकिन किसी भी चीज का सेवन यदि जरुरत से ज्यादा किया जाये तो उसकी वजह से आपको नुकसान भी पहुँच सकता है। जैसे की:

  • बादाम में कैलोरीज़ और फैट मौजूद होता है ऐसे में जरुरत से ज्यादा बादाम का सेवन करने से महिला का वजन ज्यादा बढ़ सकता है।
  • मैगनीज़ और विटामिन इ की अधिकता होने के कारण बादाम का अधिक सेवन करने पर समय से पहले डिलीवरी होने का खतरा रहता है।
  • फाइबर की अधिकता होने के कारण बादाम का जरुरत से ज्यादा सेवन करने पर लूज़ मोशन, उल्टी जैसी समस्या हो सकती है।
  • बादाम का ज्यादा सेवन करने पर कई बार एलर्जी होने का भी खतरा होता है।

तो यह हैं प्रेगनेंसी में बादाम का सेवन करने से जुड़े टिप्स और प्रेगनेंसी में बादाम खाने के बेहतरीन फायदे, यदि आप भी प्रेग्नेंट हैं तो आपको भी दिन भर में चार पांच बादाम का सेवन जरूर करना चाहिए ताकि आपको स्वस्थ रहने और गर्भ में शिशु के बेहतर विकास में मदद मिल सके। साथ ही जरुरत से ज्यादा बादाम का सेवन नहीं करें।

Why eating almond is important during Pregnancy

Leave a comment