What In India

गर्भावस्था में हँसना क्यों जरुरी है

0

Why it is important to laugh during pregnancy :  गर्भावस्था एक ऐसा समय होता है जहां पर प्रेग्नेंट महिला के शरीर में इतने सारे बदलाव होते हैं। यह बदलाव सिर्फ शारीरिक ही नहीं होता है। बदलाव मानसिक भी होता है,  और कई बार मानसिक बदलाव इतने ज्यादा हो जाते हैं कि गर्भावस्था के दौरान महिलाएं तनाव में आ जाते हैं।  और तनाव में एक प्रेग्नेंट महिला आ जाए तो गर्भ  के लिए बहुत नुकसानदेह होता है।  शिशु के विकास में कमी आ जाते हैं, और उसका परिणाम शिशु जन्म के बाद होता है। 

 गर्भावस्था में जो महिलाएं मानसिक रूप से कमजोर हो जाते हैं जो ज्यादा चिंता करते हैं जो हंसती कम है ज्यादा रोती हैं खुश नहीं रहती हैं उनका शिशु भी आगे जाकर खुश नहीं रह पाता है। 

 क्योंकि प्रेगनेंसी के दौरान प्रेग्नेंट महिला जैसा भी व्यवहार रखती हैं उसका सीधा असर उनके गर्भ में पल रहे शिशु के मस्तिष्क के विकास पर पड़ता है।  तो क्यों ना प्रेग्नेंट महिला को उदास रहने की वजह खुश रहने चाहिए। रोने की वजह हंसने चाहिए।  तो आइए जानते हैं इस आर्टिकल्स के माध्यम से अगर प्रेग्नेंट महिला रोजाना 10 मिनट हंसे तो गर्व के लिए कितना फायदेमंद होगा और क्या-क्या फायदे होंगे और क्यों जरूरी है। 

गर्भावस्था में हंसने के फायदे

 10 मिनट रोजाना प्रेग्नेंट महिला को हंसना बहुत जरूरी होता है 10 मिनट  हंसने से तनाव दूर हो जाता है मन शांत हो जाता है बीमारियां जल्दी नहीं आती है और मन प्रसन्न रहता है। 

 शिशु के लिए फायदेमंद

 प्रेग्नेंट महिला को हंस ना इसलिए भी जरूरी है कि महिला जैसा भी व्यवहार करते हैं गर्भ में शिशु भी वैसा ही व्यवहार करता है अगर आप हंसते हैं तो आपका शिशु हंसेगा अगर आप रोएंगे तो आपका शिशु रोएगा इसलिए प्रेग्नेंट महिला को हमेशा अपना व्यवहार वैसा ही बनाना चाहिए जिससे उनका मन शांत हो वह खुश रह सके ताकि शिशु भी खुश रह सके। 

 हंसने से तनाव दूर होता है

 गर्भावस्था में अक्सर महिलाओं को इतने सारे शारीरिक बदलाव होते हैं कि बात बात पर उनको गुस्सा आ जाता है तनाव हो जाता है और वह हमेशा गुस्से में भी रहने लगते हैं चिचड़ी स्वभाव की हो जाते हैं।  ऐसे में प्रेग्नेंट महिला को हंसना बहुत जरूरी होता है क्योंकि हंसने से तनाव रिलीज होता है और तनाव मुक्त रहना बहुत जरूरी होता है हमेशा गुस्से में रहने वाली महिलाओं को बीमारियां भी जल्दी घेर लेती है और मन खिन्न रहता है किसी चीज में मन नहीं लगता ना काम में मन लगता है दिनभर उदासी छाई रहती है और इसका सीधा असर उनके संबंध पर भी पड़ता है तो क्यों ना 10 मिनट निकालकर हंस लिया जाए ताकि पूरा दिन खुशनुमा रे सके और सभी लोग आपको प्यार कर सके। 

 बीमारियां दूर रहती हैं

 जब आप हंसते हैं तो आपके शरीर में एक ऊर्जा का संचार होता है जब आप हंसते हैं तो अंग अंग खिल जाता है जब आप हंसते हैं तो आपका ब्लड प्रेशर दूर होता है जब आप हंसते हैं तो  तो मन प्रसन्न हो जाता है।  10 मिनट की हंसी आपको कई सारे बीमारियों को भी दूर रखने का काम करता है।  तो प्रेग्नेंट महिला को बीमारियों से दूर रहना बहुत जरूरी है क्योंकि गर्भावस्था के दौरान अगर किसी महिला को बीमारी हो जाए बीमार रहने लगे तो शिशु का विकास प्रभावित होता है।  तो ऐसे में खुश रहना ही बेहतर है ताकि बीमारियां दूर रह सके। 

संबंध भी अच्छे रहते हैं

 गर्भावस्था में कई महिलाओं के साथ यह समस्या आती है कि घर वालों के साथ उनका संबंध सही नहीं रह पाता महिलाओं में बदलाव इतनी ज्यादा होते हैं चाहे वह शारीरिक हो या मानसिक हो और उसका सीधा असर प्रेग्नेंट महिला के मूड पर पड़ता है कई महिलाएं इस समय  चिड़चिड़ी स्वभाव की हो जाती है।  जब वह किस से बात करती है तो हो सकता है बात करने का लहजा से ही नहीं हो।  तो इसका सीधा असर उनके रिश्ते पर पड़ता है अगर रोजाना 10 मिनट अगर आप हंसते हैं तो दिन भर आप खुश रहेंगे तनाव में नहीं रहेंगी तो दूसरों से अच्छे से पेश भी आएंगे तो संबंध भी आपके अच्छे रहेंगे। 

 तो हंसना एक तरह का टॉनिक है खासकर प्रेग्नेंट महिला के लिए यह बहुत जरूरी है क्यों उदास रहने की वजह है तनाव में रहने की बजाय खुश रहें तनाव मुक्त रहें इससे उनके शिशु का विकास भी सही तरीके से होगा और उनके रिश्ते भी अच्छे रहेंगे और मन भी प्रसन्न रहेगा तो क्यों ना आप भी 10 मिनट का समय निकालें हंसने के लिए बात करने के लिए आप खुद देखेंगे कितना फर्क पड़ेगा।  तो अब आप भी खुश रहना शुरू करें ताकि आपका शिशु भी खुश रहे आप भी खुश रहें और आपके आसपास के लोग भी खुश रह सके। 

Leave a comment