Take a fresh look at your lifestyle.

सर्दियों में बार बार टॉयलेट जाना, ये कारण होते है!

0

Sardiyon me Baar-Baar Toilet

सर्दियों में क्या बार-बार टॉयलेट, ये कारण होते है, Urine problem, ठंड में बार बार सुसु आने के क्या कारण होते है, सर्दियों में बार-बार टॉयलेट आने के कारण 

सर्दियों के मौसम में ठंड लगना आम बात है लेकिन कई बार यह ठंड बहुत से लोगों के लिए परेशानी का कारण बन जाती है। जाना एक तरफ अधिक ठंड पड़ने से बच्चे बीमार होने लगते है वहीं दूसरी तरफ ठंड बढ़ने के कारण चलने वाली सर्द हवाएं त्वचा से नमी छीनकर उन्हें रुखा बनाने का काम करती है। लेकिन इसके अलावा भी कुछ है जिसके कारण बहुत से लोग सर्दियों में बहुत परेशान रहते है।

और वो है, बार-बार टॉयलेट जाना। जी हां, सभी के साथ नहीं लेकिन कुछ लोग ऐसे होते है जिनके साथ यह समस्या केवल सर्दियों में शुरू हो जाती है। बहुत से लोग इसे बीमारी समझते है जबकि कुछ इसे आम मानते है। जबकि ध्यान दिया जाए तो ये दोनों ही तथ्य गलत है। सर्दियों में मौसम में बार बार टॉयलेट आना न तो कोई बिमारी है और न ही कोई आम बात है। दरअसल यह हमारे द्वारा की जाने वाली गलतियों का नतीजा होता है जिन्हे हम अपने डेली रुटीन में करते है।

हम में से बहुत से लोग सर्दियों के दिनों में कम पानी पीते है और इसका कारण बाथरूम जाना बताते है। जो काफी हद तक सही भी है लेकिन इस समस्या के लिए पूरी तरह से इस कारण को दोषी ठहरना ठीक नही। क्योंकि इसके अलावा भी ऐसी बहुत सी गलतियां है जिन्हे हम और आप अपनी दिनचर्या में करते है और उनपर जरा भी ध्यान नहीं देते।सर्दियों में बार बार टॉयलेट जाना

लेकिन ये भी सच है, अगर किसी व्यक्ति को कोई बीमारी है तो उन्हें भी इस दौरान बार-बार टॉयलेट आएगी। ऐसे में इस समस्या का विशेष कारण जान पाना और भी मुश्किल हो जाता है। क्योंकि हर छोटी से छोटी चीज के लिए डॉक्टर के पास जाना भी ठीक नहीं।

इसीलिए आज हम आपको सर्दियों में बार बार टॉयलेट आने के कुछ विशेष कारणों के बारे में बताने जा रहे है जिनकी मदद से शायद आप भी अपनी इस समस्या के कारण को पहचान पाएं। लेकिन एक बात का ध्यान रखें की अगर आपकी समस्या का इनमे से कोई कारण नहीं है तो आप तुरंत डॉक्टर से मिलें। क्योंकि हो सकता है जिसे आप आम बात मान रहे हो वह कोई बड़ी बीमारी हो। तो आइये जानते है सर्दियों में बार-बार टॉयलेट आने के क्या होते है?

सर्दियों में बार-बार टॉयलेट आने की समस्या के कारण :-

1. जरुरत से ज़्यादा पानी पीना :drinking water

सर्दियों के समय बाहर का टेम्परेचर काफी कम होता है। जिसकी वजह से हमें ठंड लगती है। ऐसे में जब आप जरुरत से अधिक पानी पीने लगते है तो आपका शरीर उसे एडजस्ट नहीं कर पाता जिसकी वजह से बाथरूम जाना पड़ता है। वो भी एक बार नहीं बल्कि कई बार। और इसी के कारण आपको बार बार टॉयलेट जाना पड़ता है और आप यही सोचते रहते है की आज ठंड बहुत है जबकि गलती तो आपके द्वारा पीये जाने वाले अतिरिक्त पानी की होती है।

2. पुरे कपडे पहन कर सोयें :sleeping person

सभी को नहीं लेकिन बहुत से लोगों को आदत होती है की वे रात को सोते समय अपने कपडे उतार देते है। जिसके कारण बाहर का वातावरण उनके शरीर पर प्रभाव डालता है और उन्हें ठंड लगती है जिससे उन्हें बार-बार बाथरूम आती है। कई बार रात को सोते समय लोगों के शरीर पर से कपडे हट जाते है जिसके कारण उन्हें ठंड लगती है और ठंड लगते ही आपको टॉयलेट आने लगती है। इसीलिए अगर आप रात को सोते समय कपडे उतार कर सोते है तो आज से ही अपनी इस आदत को बदल दें। इसके अलावा रात को सोते समय अपने बिस्तरों का भी ध्यान रखें।

3. गर्म बिस्तर :winter blanket

ऐसे तो सभी लोग सर्दियों में गर्म बिस्तरों का इस्तेमाल करते है लेकिन कुछ लोग इस तरह के बिस्तरों का इस्तेमाल नहीं करते। अब आप सोच रहे होंगे की बिस्तरों का बाथरूम से क्या रिलेशन? शायद आप नहीं जानते, लेकिन आपकी इस समस्या का एक आपका बिस्तर भी हो सकता है। क्योंकि सर्दियों के समय जब आप ठंडे बिस्तर पर जाकर सोते है तो आपके शरीर को भी उसकी ठंडक महसूस होती है जिससे आपको ठंड लगती है और आपको बाथरूम आती है।

जबकि अगर आप गर्म बिस्तरों का इस्तेमाल करते है तो आपके शरीर को ठंड नहीं लगती और आप अच्छा महसूस करते है। साथ ही किसी अन्य कपडे के बिस्तरों का इस्तेमाल करने की बजाय सूती या फर वाले बिस्तरों का इस्तेमाल करें क्योंकि ये आपको ठंड से बचाने और गर्म रखने में मदद करेंगे।

4. हवादार जगहों पर न सोयें :

सर्दियों के दिनों में दोपहर की अपेक्षा रात्रि के समय बहुत ठंडी-ठंडी सर्द हवाएं चलती है। लेकिन कुछ लोगों को खिड़की और दरवाजें खोलकर सोने की आदत होती है। जो की ठीक नहीं है। गर्मियों के समय में तो ये चल जाता है लेकिन अगर आप सर्दियों के मौसम में दरवाजें और खिड़की आदि खोलकर सोते है तो जाहिर सी बात है रात के समय में आपको ठंड लगेगी।

और ठंड लगने के बाद तो बाथरूम आना वाजिब है। कुछ लोग तो हीटर वगैरह चलाकर सोते है उनके साथ ऐसी परेशानी नहीं होगी। अगर आप हीटर अफ़्फोर्ड नहीं कर सकते तो अपने खिड़की दरवाजें आदि को बंद करके ही सोएं। ये आपके लिए ही बेहतर होगा।

5. ठंडी चीजों का सेवन :drinking cold drink

यह बात तो हम सभी भली-भांति जानते है की सर्दियों के मौसम में किसी भी ठंडी चीज का सेवन नहीं करना चाहिए। लेकिन फिर भी बहुत से लोग इन दिनों में भी ठंडी कोल्डड्रिंक, आइस क्रीम, जूस आदि का सेवन करते है इतना ही नहीं कुछ लोग तो सर्दियों के दिनों में ठंडा पानी पीना भी बहुत पसंद करते है। जबकि वे नहीं जानते की उनके द्वारा की जाने वाली उनके लिए परेशानी का सबब बन सकती है।

जैसा की हम आपको पहले भी बता चुके है की सर्दियों के दिनों में बाहर का टेम्परेचर काफी कम होता है। जबकि हमारे शरीर का टेम्पेरेचर थोड़ा ज़्यादा। ऐसे में जब आप रात के समय किसी ठंडी वस्तु का सेवन करते है तो इसका प्रभाव सीधे आपके शरीर पर पड़ता है जिसे परिणामसवरूप आपको बार-बार टॉयलेट आती है। इसीलिए सर्दियों के दिनों में विशेषकर रात में ठंडी चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए।

6. सोने से पहले बाथरूम :peshab se khun ana

सर्दी हो या गर्मी किसी भी मौसम में रात को सोने से पहले एक बार बाथरूम अवश्य जाना चाहिए। क्योंकि रात के समय खाना खाने के बाद व्यक्ति को एक बार टॉयलेट जरूर आती है और जब आप सोने से पहले बाथरूम नहीं जाते है तो सोने के बाद बाथरूम आना तो लाजमी है। इसीलिए सोने से पहले हमेशा एक बार बाथरूम अवशि जाना चाहिए।

बड़े ही नही बच्चों को भी सोने से पहले बाथरूम जाने की आदत होनी चाहिए ताकि वे बिस्तर में पेशाब न करें। एक बात और बता दें, की बच्चों द्वारा बिस्तर में पेशाब करने का भी यही एक कारण होता है। जो बच्चे रात में सोने से पहले बाथरूम नहीं जाते है उन्हें सोते समय बाथरूम आती है और वे बिस्तर में ही सु-सु कर देते है। इसीलिए आज से ही सोने से पहले खुद और अपने बच्चों को बाथरूम जरूर कराएं फिर चाहे सर्दी हो या गर्मी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.