प्रेगनेंसी में गुस्सा ज्यादा क्यों आता है?

गर्भावस्था के दौरान महिला शरीर में होने वाले बदलाव के साथ मूड में बदलाव होने की समस्या से भी परेशान हो सकती है। जैसे की कुछ महिलाओं को प्रेगनेंसी के दौरान गुस्सा बहुत आता है। लेकिन ऐसा जरुरी नहीं है की ऐसा हर गर्भवती महिला के साथ हो। क्या आप भी प्रेग्नेंट हैं और आपको भी गुस्सा अधिक आता है? यदि हाँ, तो आइये आज इस आर्टिकल में हम आपको गर्भवती महिला को गुस्सा क्यों आता है, गुस्से आने के कारण महिला को क्या परेशानी होती है और बच्चे पर इसका क्या प्रभाव पड़ता है उस बारे में बताने जा हैं।

प्रेगनेंसी में गुस्सा आने के कारण

गर्भवती महिला को गुस्सा आने का कोई एक कारण नहीं होता है बल्कि ऐसे बहुत से कारण होते हैं। जिसकी वजह से गर्भवती महिला को गुस्सा आता है। जैसे की:

हार्मोनल बदलाव की वजह से

प्रेगनेंसी के दौरान बॉडी में बहुत से हार्मोनल बदलाव होते हैं। और बॉडी में इन हार्मोनल बदलाव के कारण प्रेग्नेंट महिला को मूड स्विंग्स की समस्या भी हो सकती है। और मूड स्विंग्स होने के कारण प्रेग्नेंट महिला को बहुत ज्यादा गुस्सा व् चिड़चिड़ाहट महसूस होती है। साथ ही कई बार तो प्रेग्नेंट महिला बिना किसी बात के भी गुस्सा करने लग जाती है।

प्रेगनेंसी में होने वाली परेशानियों के कारण

गर्भावस्था के दौरान शारीरिक परेशानियों के बढ़ने के कारण प्रेग्नेंट महिला को बहुत ज्यादा दिक्कत होती है। ऐसे में शारीरिक परेशानियों के बढ़ने के कारण भी गर्भवती महिला को बहुत ज्यादा गुस्सा आ सकता है।

तनाव से ग्रसित होने के कारण

बहुत सी प्रेग्नेंट महिलाएं प्रेगनेंसी के दौरान होने वाले शारीरिक व् मानसिक बदलाव के कारण तनाव में आ जाती है। और तनाव से ग्रसित होने के कारण प्रेग्नेंट महिला को कभी बहुत ज्यादा गुस्सा तो कभी बहुत ज्यादा ख़ुशी महसूस होती है।

गर्भावस्था में किसी चीज को लेकर डरने के कारण

गर्भ में बच्चे का विकास अच्छे से हो रहा है या नहीं, जन्म के समय बच्चे को कोई दिक्कत तो नहीं होगी, डिलीवरी के समय कोई परेशानी तो नहीं होगी आदि। यह सभी सवाल प्रेग्नेंट महिला के मन में चलते रहते हैं। जिसके कारण प्रेग्नेंट महिला डर जाती है। ऐसे में कई बार यह डर प्रेग्नेंट महिला के गुस्से के रूप में बाहर आता है।

घर का माहौल

यदि प्रेग्नेंट महिला के घर का माहौल सही नहीं है या महिला की अपने पार्टनर के साथ बहस होती है। तो इसके कारण भी गर्भवती महिला को गुस्सा आने की समस्या हो सकती है। ऐसे में इस परेशानी से बचने के लिए जरुरी है की आप अपने घर के माहौल को सही रखें।

क्या गुस्सा गर्भवती महिला के लिए नुकसानदायक होता है?

गर्भवती महिला को यदि गुस्सा आये और वो उसे जाहिर कर दे तो ऐसा करने से महिला हल्का महसूस करती है। लेकिन यदि महिला को गुस्सा हद से ज्यादा आये साथ ही महिला उस गुस्से को जाहिर करने की बजाय अपने मन में दबा ले। तो ऐसा करना प्रेग्नेंट महिला के लिए बहुत नुकसानदायक होता है। जिसके कारण महिला को को सिर दर्द, शरीर में दर्द, है ब्लड प्रैशर, पाचन क्रिया से जुडी समस्या का सामना महिला को करना पड़ सकता है। साथ ही प्रेगनेंसी में ज्यादा गुस्सा आना प्रेगनेंसी में कॉम्प्लीकेशन्स को भी बढ़ा देता है।

गुस्सा आने के कारण बच्चे पर कोई असर पड़ता है?

गर्भवती महिला और गर्भ में पल रहे बच्चे के बीच ऐसा सम्बन्ध होता है और वो आपस में ऐसे जुड़े होते हैं जिससे बच्चा अपनी माँ को होने वाले सभी परेशानियों का अनुभव, मन में चल रही बातों का अनुभव, माँ की आवाज़ व् हाथों के स्पर्श का अनुभव, खुशी और गुस्से को भी महसूस कर लेता है। साथ ही गर्भवती महिला के बहुत अधिक गुस्सा करने के कारण बच्चे को बहुत सी परेशानियां हो सकती हैं। जैसे की:

  • बच्चे के वजन में कमी।
  • समय से पहले बच्चे का जन्म।
  • बच्चे के मानसिक विकास में कमी।
  • शिशु को भविष्य में तनाव जैसी परेशानी का होना।

प्रेगनेंसी में गुस्से से बचने के टिप्स

  • अपने आहार का ध्यान रखें।
  • अपनी पसंद का काम करें।
  • व्यायाम, योगासन, मैडिटेशन करें।
  • अपनी पसंद के काम को करने का आनंद लें।
  • मालिश करवाएं।
  • यदि आपसे कोई बहस कर रहा है या जहां लड़ाई हो रही है उस जगह से दूरी बनाएं।
  • टीवी फ़ोन आदि में भी लड़ाई वाले कार्यक्रम न देखें।
  • अपने रूटीन का ध्यान रखें।
  • अपने मन में आ रही बातों को शेयर करें।
  • गुस्से से बचने के लिए भरपूर आराम करें।
  • मन में गलत विचारों को न लाएं।
  • यदि आपको बहुत ज्यादा गुस्सा व् चिड़चिड़ापन होता है तो इसके लिए एक बार डॉक्टर से बात करें।

ऐसे में यदि आप प्रेग्नेंट हैं तो आपको जितना हो सके प्रेगनेंसी में पॉजिटिव रहने की कोशिश करनी चाहिए। ताकि आपको व् आपके बच्चे को गुस्से के कारण होने वाले परेशानी से बचे रहने में मदद मिल सके।