पेट में अगर बच्चा अगर मूव नहीं कर रहा है तो यह तरीके अपनाएँ

गर्भ में शिशु की हलचल गर्भवती महिला के लिए उसकी प्रेगनेंसी के सबसे अनोखा और बेहतरीन अनुभव होता है। क्योंकि बच्चे की हलचल से महिला पेट में बच्चे को और ज्यादा करीब से महसूस करती है। प्रेगनेंसी के पांचवें महीने में महिला बच्चे की हलचल को महसूस कर सकती है। लेकिन जो महिलाएं पहली बार माँ बन रही होती हैं उन्हें बच्चे की हलचल को समझने में थोड़ा समय लग सकता है। जबकि दूसरी बार माँ बन रही महिलाओं को इसका अनुभव आसानी से हो जाता है। लेकिन फ़िक्र न करें, पहली बार माँ बन रही महिलाएं भी इसे जल्दी समझ जाती है।

जैसे जैसे बच्चे का विकास गर्भ में बढ़ता है जाता है वैसे वैसे शिशु गर्भ में ज्यादा हलचल करने लगता है। साथ ही धीरे धीरे महिला को यह हलचल ज्यादा समय के लिए महसूस होती है। लेकिन शिशु एक दिन में कितनी बार हलचल करेगा इसका सही से पता लगाना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। पर आप चाहे तो गर्भावस्था के दौरान शिशु गर्भ में कितनी बार हलचल करता है इसे गिन सकते हैं। ऐसा करने से प्रेगनेंसी में आपका रोमांच बढ़ने में भी मदद मिलती है। लेकिन कई बार ऐसा होता है की गर्भ में शिशु हलचल कम करता है या बहुत देर तक शिशु की हलचल महसूस नहीं होती है।

गर्भ में शिशु की हलचल न होने पर क्या करें?

गर्भ में बच्चा जब हलचल करता है तो हो आप उसे महसूस कर सकती है। लेकिन कई बार जब आप किसी काम में लगी होती है तो हो सकता है आपको हलचल महसूस न हो। ऐसे में बच्चे की हलचल महसूस न होने पर कुछ आसान टिप्स का इस्तेमाल करके आप बच्चे की हलचल महसूस कर सकती है। आइये अब जानते हैं वो टिप्स कौन से हैं।

कुछ खाएं

यदि आपको ऐसा लग रहा है की बहुत देर हो गई है और बच्चा गर्भ में हलचल नहीं कर रहा है। तो आपको कुछ तीखा व् चटपटा खाना चाहिए। क्योंकि आपके खाने का स्वाद बच्चे तक पहुँचता है। और जब बच्चा उस स्वाद को महसूस करता है। तो हो सकता है की वो आपको अपनी हलचल के माध्यम से उस पर प्रतिक्रिया दें।

आराम से शांति से लेटें

कई बार काम करते रहने के कारण आपको बच्चे की मूवमेंट का अहसास नहीं होता है। या हो सकता है की बच्चा गर्भ में आराम कर रहा हो। ऐसे में बच्चे की हलचल महसूस करने के लिए आप आराम से शांति से लेट जाएँ। ऐसे में हो सकता है की जब आपको शांति से लेटें और बच्चा बाहर की कोई प्रतिक्रिया न महसूस करे। और ऐसा होने पर बच्चा गर्भ में मूवमेंट करना शुरू कर दें।

ठंडा पानी पीएं

बच्चे की मूवमेंट को महसूस करने के लिए आप ठंडा पानी पीएं। अब आप सोच रही होंगी की ठंडा पानी पीने से क्या होगा? जब आप ठंडा पानी पीएंगी तो इससे एमनियोटिक फ्लूड के तापमान में फ़र्क़ आएगा। और एमनियोटिक फ्लूड के तापमान में फ़र्क़ आने से बच्चा गर्भ में मूवमेंट करेगा।

शोर में जाएँ

गर्भ में बच्चे की सुनने की क्षमता का विकास भी लगातार होता रहता है। और ऐसा माना जाता है की जब बच्चा गर्भ में तेज आवाज़े सुनता है तो चौक जाता है। जिससे वो अपनी प्रतिक्रिया देता है ऐसे में यदि आप तेज आवाज़ में आने सुने या किसी चीज को पटक दें। तो ऐसा करने से हो सकता है बच्चा चौक कर मूव करें।

यदि बच्चे की मूवमेंट न हो तो?

बहुत कोशिश करने के बाद भी यदि बच्चे की गर्भ में बिल्कुल भी मूवमेंट महसूस नहीं हो रही है। तो इसे बिल्कुल भी अनदेखा नहीं करना चाहिए। और तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए। क्योंकि गर्भ में शिशु का ज्यादा समय तक मूव न करना परेशानी खड़ी कर सकता है। खासकर इसका कारण गर्भ में बच्चे को खतरा होना होता है।

तो यह है गर्भ में शिशु की मूवमेंट से जुड़े कुछ टिप्स, ऐसे में आपको भी प्रेगनेंसी के दौरान बच्चे की मूवमेंट का अच्छे से ध्यान रखना चाहिए। ताकि बच्चे की हलचल में महसूस न होने के कारण आपको या बच्चे को किसी तरह की परेशानी न हो।