प्रेगनेंसी में सांस लेने में दिक्कत और सांस फूलने के कारण और उपाय

प्रेगनेंसी के दौरान सांस फूलने की समस्या होने पर अधिकतर गर्भवती महिलाएं घबरा जाती है। जबकि प्रेगनेंसी के दौरान शरीर में महसूस होने वाले लक्षणों में से सांस फूलना भी प्रेगनेंसी का ही लक्षण होता है। और सत्तर फीसदी महिलाएं प्रेगनेंसी के दौरान इस समस्या से परेशान हो सकती है। साथ ही प्रेगनेंसी की हर तिमाही में में अलग अलग कारण की वजह से गर्भवती महिला को यह दिक्कत हो सकती है। तो आइये आज इस आर्टिकल में हम आपको प्रेगनेंसी में सांस फूलने के क्या कारण होते हैं और किस तरह गर्भवती महिला इस परेशानी से निजात पा सकती है इस बारे में जानते हैं।

गर्भावस्था में सांस फूलने के कारण

प्रेगनेंसी के दौरान सांस फूलने का कोई एक कारण नहीं होता है बल्कि ऐसे बहुत से कारण होते हैं जिसकी वजह से प्रेग्नेंट महिला को सांस फूलने या सांस लेने में दिक्कत जैसी परेशानी हो सकती है। तो आइये अब जानते हैं अब सांस लेने में होने वाली परेशानी के कारण:

हार्मोनल बदलाव: प्रेगनेंसी में महिला के शरीर में बहुत से हार्मोनल बदलाव होते हैं। और शरीर में प्रोजेस्ट्रोन, एस्ट्रोजन का स्तर बढ़ने लगता है। और इन्ही हार्मोनल बदलाव के कारण श्वसन तंत्र से जुडी समस्या हो सकती है।

खून की कमी: प्रेगनेंसी के दौरान महिला को बॉडी में अतिरिक्त रक्त की जरुरत पड़ती है। और रक्त ही बॉडी के सभी पार्ट्स तक ऑक्सीजन के फ्लो को सही तरीके से करने में मदद करता है। लेकिन यदि किसी गर्भवती महिला के शरीर में खून की कमी होती है तो ऑक्सीजन के सही तरीके से सभी पार्ट्स तक न पहुँचने के कारण महिला को सांस लेने से जुडी परेशानी होती है।

अस्थमा: गर्भवती महिला यदि अस्थमा की मरीज़ है तो महिला को प्रेगनेंसी की दौरान ऐसी परेशानी होना आम बात होती है।

वजन: प्रेगनेंसी में वजन के बढ़ने के कारण गले के टिशू में भी फैट जमा हो सकता है जिसकी वजह से प्रेग्नेंट महिला को सांस लेने में तकलीफ हो सकती है।

खर्राटे: प्रेगनेंसी के दौरान कुछ महिलाएं खर्राटे अधिक लेने लग जाती है। और खर्राटे लेने का कारण महिला के नाक के रास्ते में रूकावट पैदा हो सकती है। ऐसे में जो महिलाएं खर्राटे अधिक लेती है तो उन्हें भी सांस लेने में परेशानी व् सांस फूलने की समस्या हो सकती है।

फेफड़ों पर दबाव: गर्भाशय का आकार बढ़ने के साथ फेफड़ों पर दबाव भी अधिक बढ़ जाता है। जिसकी वजह से गर्भवती महिला को सांस फूलने की परेशानी होती है।

ज्यादा शारीरिक श्रम: यदि महिला जरुरत से ज्यादा काम करती है, अपनी बॉडी को थकाती है, व्यायाम अधिक करती है, सीढ़ियां चढ़ती है, बहुत देर तक एक ही जगह पर खड़ी रहती है, ज्यादा भागदौड़ करती है, आदि। तो इन सभी कारणों की वजह से भी गर्भवती महिला को सांस लेने में दिक्कत व् सांस फूलने जैसी परेशानी हो सकती है।

गर्भावस्था में सांस फूलने या सांस लेने से जुडी परेशानी से निजात पाने के टिप्स

यदि प्रेग्नेंट महिला को सांस फूलने से जुडी परेशानी होती है तो कुछ आसान से टिप्स का ध्यान रखने से महिला को इस परेशानी से निजात पाने में मदद मिल सकती है। तो आइये अब जानते हैं की वो टिप्स कौन से हैं।

आराम करें

यदि आपको ऐसा लगता है की किसी काम को करते हुए, ज्यादा देर खड़े रहने से या किसी और कारण आपको ज्यादा थकावट हो रही है और सांस लेने में दिक्कत हो रही है या सांस फूल रही है। तो आप थोड़ी देर आराम करें आपको इस परेशानी से निजात पाने में मदद मिलेगी। इसके अलावा प्रेग्नेंट महिला को भरपूर आराम करना भी चाहिए क्योंकि महिला जितना आराम करती है उतना ही बॉडी की सभी क्रियाएं बेहतर तरीके से काम करती है और प्रेगनेंसी में दौरान होने वाली परेशानियों को कम किया जा सकता है।

अपनी बैठने और सोने की पोजीशन का ध्यान रखें

जब भी आप बैठ रही है तो अपने कन्धों को पीछे की तरफ लगाएं और ब्रेस्ट को थोड़ा आगे की तरफ निकाल कर बैठें। ऐसा करने से आपको सांस लेने में दिक्कत नहीं होगी। इसके अलावा सोते समय करवट लेकर सोएं और बार बार अपने सोने की पोजीशन बदलते रहें। इससे आपके खर्राटे कम होंगे और आपको सांस लेने में होने वाली परेशानी से निजात पाने में मदद मिलेगी।

ब्रीथिंग व्यायाम

रोजाना थोड़ी देर ब्रीथिंग व्यायाम करें इससे आपकी सांस लेने से जुडी परेशानियों से निजात पाने में मदद मिलेगी। साथ ही आपको लम्बी व् गहरी सांस लेने में मदद मिलेगी जो की आपके लिए बहुत फायदेमंद होता है।

आयरन और विटामिन सी युक्त आहार का सेवन करें

आयरन शरीर में खून की कमी को पूरा करने व् लाल रक्त कोशिकाओं को बढ़ाने में मदद करता है। वहीँ विटामिन सी बॉडी के सभी पार्ट्स में ब्लड को अच्छे से अवशोषित करने में मदद करता है। इसीलिए प्रेग्नेंट महिला को आयरन व् विटामिन सी से भरपूर आहार का सेवन करना चाहिए। और इसके लिए आप हरी सब्जियों, अनार, सेब आदि फलों का सेवन कर सकती हैं।

हल्का भोजन करें

फैट से भरा हुआ भोजन करने के कारण, जो भोजन आपको पचाने में दिक्कत होती है उस तरह के भोजन का सेवन करने से भी आपको बचना चाहिए। क्योंकि इनके कारण भी आपको सांस लेने में दिक्कत हो सकती है।

प्रेगनेंसी में सांस फूलने से जुडी ज्यादा परेशानी होने पर डॉक्टर से कब मिलें

  • यदि आपको सांस फूलने की परेशानी अधिक हो, सांस लेने में दिक्कत ज्यादा हो रही हो, सीने में दर्द हो रहा हो, तो इस लक्षण को अनदेखा न करें और डॉक्टर से मिलें।
  • सांस लेने में इतनी परेशानी हो की आपको रात को नींद लेने में भी दिक्कत हो।
  • लम्बे समय तक सांस लेने की परेशानी होने पर क्योंकि यदि सांस लेने में होने वाली परेशानी का कारण खून की कमी या अस्थमा है तो आपको डॉक्टर की राय की जरुरत होती है।
  • सांस लेने के साथ गले में दर्द आदि की समस्या अधिक हो।

तो यह हैं प्रेगनेंसी के दौरान सांस फूलने या सांस लेने से जुडी समस्या के कारण व् उससे बचने के आसान टिप्स, ऐसे में प्रेगनेंसी के दौरान यदि आप भी इस परेशानी का सामना कर रही है तो आपको इन टिप्स का ध्यान रखना चाहिए।