Ultimate magazine theme for WordPress.

डिलीवरी के बाद पेट कम करने की विधि

0

डिलीवरी के बाद पेट कम करने की विधि, प्रसव के बाद पेट कम करने के टिप्स, ऐसे करें डिलीवरी के बाद पेट कम, नॉर्मल डिलीवरी के बाद पेट कम करने के टिप्स, सिजेरियन डिलीवरी के बाद ऐसे करें पेट कम, डिलीवरी के बाद फिट रहने के टिप्स

डिलीवरी होने के बाद महिलाएं सबसे ज्यादा चिंतित इसी बात को लेकर होती है की किस तरह वो वापिस अपनी बॉडी शेप को सही कर पाएंगी। क्योंकि ज्यादातर महिलाओं को डिलीवरी के बाद पेट बाहर निकलने के कारण परेशानी होती है, और कई बार तो महिलाओं का पेट ऐसा लगता है की जिस तरह अभी भी उनकी एक और डिलीवरी होनी है। सिजेरियन डिलीवरी के बाद महिलाओं को पेट अंदर करने में ज्यादा परेशानी होती है। क्योंकि उनके शरीर को अच्छे से फिट होने के लिए समय लगता है। लेकिन परेशानी तो नार्मल डिलीवरी वाली महिलाओं के लिए भी होती है। क्योंकि शिशु के जन्म के बाद फिट होने के लिए और शिशु के विकास के लिए महिला आधी ध्यान रखना पड़ता है।

ऐसे में न तो महिला अधिक व्यायाम कर सकती है, क्योंकि इससे महिला को परेशानी हो सकती है, न ही अपने आहार को छोड़ सकती है, क्योंकि इससे शिशु के विकास और महिला के स्वस्थ दोनों पर बुरा असर पड़ता है। तो ऐसे में कई महिलाएं ऐसा भी सोचती है की डिलीवरी के बाद उनकी ख़ूबसूरती कम हो जाती है, लेकिन ऐसा नहीं होता है। क्योंकि डिलीवरी के बाद दो महीने तक रेस्ट करने के बाद आप चाहे तो हल्का फुल्का व्यायाम आदि कर सकती हैं। इसके अलावा और भी टिप्स अपना सकती है जिससे आपको डिलीवरी के बाद लटके हुए पेट को कम करने में मदद मिल सकें, लेकिन इन सब बातों में आपको शिशु के लिए किसी भी तरह की लापरवाही नहीं करनी चाहिए।

डिलीवरी के बाद पेट कम करने के टिप्स

डिलीवरी के बाद महिलाओं को एक दम से पेट कम करने के लिए कुछ भी नहीं करना चाहिए, क्योंकि ऐसा करने के कारण शिशु के विकास पर असर पड़ सकता है। यदि आप चाहते हैं की डिलीवरी के बाद पेट कम हो जाए तो आज हम इसके लिए आपको कुछ आसान टिप्स देने जा रहे है जिसके इस्तेमाल से आपको डिलीवरी के बाद बाहर लटके हुए पेट को आसानी से कम करने में मदद मिलती है।

शिशु को करवाएं स्तनपान

प्रेगनेंसी के बाद ज्यादातर महिलाओं को यही लगता है की शिशु को स्तनपान करवाने से उनकी बॉडी की शेप खराब हो जाती है जबकि यह गलत है। डिलीवरी के बाद शरीर लचीला हो जाता है और जो महिलाएं ब्रेस्टफीड करवाती हैं, उससे उनके शरीर में खिचाव उत्त्पन होता है, जिससे शरीर पर जमी चर्बी को कम करके आपको फिट करने में मदद मिलती है। स्तनपान करवाने के दौरान हो सकता है ब्रैस्ट में थोड़ा ढीलापन आये लेकिन जैसे ही शिशु फीड लेना बंद करता है ब्रैस्ट वापस से शेप में आने लगती है।

पानी है वरदान

पानी आपके शरीर में जमा कैलोरी को खत्म करके आपके पेट और कमर की चर्बी को कम करने में आपकी मदद करता है। साथ ही पानी के सेवन से आपके शरीर से विषैले पदार्थो को भी बाहर निकालने में मदद मिलती है। इसके अलावा पानी आपके शरीर में मेटाबोलिज्म को भी बेहतर करता है, जिससे आपका आहार कैलोरी में तेजी से बदलता है, और पानी का सेवन करने से कैलोरी को खत्म करने में मदद मिलती है। इसीलिए दिन में कम से कम आठ से दस गिलास पानी का सेवन करें, हो सकें तो दो से तीन गिलास गुनगुना पानी भी पीएं। पानी के साथ अन्य पेय पदार्थो का सेवन भी करें इससे भी आपको फायदा मिलता है।

भरपूर लें नींद

शिशु के जन्म के बाद हो सकता है की आपको लगातार सोने को न मिलें, लेकिन फिर भी आपको दिन में कम से कम आठ घंटे की नींद जरूर लेनी चाहिए। और इसके लिए आप दिन में सो सकती हैं, या फिर जिस समय शिशु सोता है उसी समय आप भी उसके साथ सो जाएँ। क्योंकि नींद भरपूर लेने से मेटाबोलिज्म सही रहता है, आपको फ्रैश महसूस होता है, और इससे आपके वजन को कम करने में भी मदद मिलती है।

योगासन करें

प्रेगनेंसी के बाद व्यायाम करना थोड़ा मुश्किल होता है, ऐसे में थोड़ी देर सुबह उठकर योगासन करें, जिससे आपको आराम मिलें, और आपको किसी तरह की परेशानी न हो। इससे भी आपकी बॉडी को फिट रहने में मदद मिलती है। साथ ही ऐसा करने के साथ खाना खाने के बाद तुरंत न सो जाएँ, बल्कि अपने कमरे या घर के बाहर थोड़ा वॉक करें, लेकिन आराम से इससे आपका खाना भी अच्छे से हज़म हो जाएगा, और आपका मेटाबोलिज्म भी बेहतर होगा जिससे आपको डिलीवरी के बाद पेट लटकने की समस्या से छुटकारा पाने में भी मदद मिलेगी।

आहार का रखें ध्यान

डिलीवरी के बाद महिला को शिशु को स्तनपान करवाना होता है, ऐसे में महिलाओं को ज्यादा भूख भी लगती है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं होता है की आप पूरा दिन खाते रहें। इसके लिए आप अपने आहार में भरपूर मात्रा में पोषक तत्वों को शामिल करना चाहिए, और दिन में थोड़ा थोड़ा आहार लेना चाहिए, एक दम से पेट भरकर नहीं खाना चाहिए। इसके अलावा खाना खाने से एक घंटा पहले एक गिलास पानी का सेवन जरूर करना चाहिए, फाइबर युक्त चीजों को अपने आहार में सम्मिलित करना चाहिए। और अपने आहार को छोड़ना नहीं चाहिए। यदि आप आहार सम्बंधित इन टिप्स का ध्यान रखते हैं तो ऐसा करने से आपको जरूर फायदा मिलता है।

तनाव से रखे दूरी

शिशु होने के बाद जिम्मेवारियां और भी बढ़ जाती हैं साथ ही शिशु की बेहतर केयर को लेकर महिला तनाव में आ सकती है। और तनाव का होना आपके शरीर की गतिविधियों को प्रभावित करता है, ऐसे में आपको इसे आराम से हैंडल करना चाहिए और बिना डर के इन लम्हो को एन्जॉय करना चाहिए। यदि आप तनाव को छोड़ खुश रहने की कोशिश करती हैं तो ऐसा करने से आपको डिलीवरी के बाद अपने बढ़े हुए पेट की समस्या से बहुत जल्दी निजात पाने में मदद मिलती है।

जंक फ़ूड और ज्यादा मीठे से बनाएं दूरी

डिलीवरी के बाद आपको पौष्टिक तत्वों से भरपूर आहार का सेवन करना चाहिए जिससे शिशु का विकास बेहतर होने के साथ आपको भी जल्दी फिट होने में मदद मिल सकें। ऐसे में आपको जंक फोड़ का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए, और न ही अधिक मीठा खाना चाहिए। क्योंकि यह दोनों शरीर पर जमने वाली चर्बी का सबसे बड़ा कारण होते हैं। इसीलिए जो भी खाएं घर में ताजा और पौष्टिक तत्वों से भरपूर बनाकर खाएं।

तो यह हैं कुछ खास टिप्स जिनका इस्तेमाल करने से आपको डिलीवरी के बाद लटके हुए पेट की समस्या से राहत पाने में मदद मिलती है। साथ ही आपको व्यायाम आदि करते हुए ध्यान रखना चाहिए की इससे आपको स्वास्थ्य सम्बन्धी किसी तरह की भी समस्या उत्त्पन्न न हो, जिससे आपको परेशानी न होने के साथ शिशु का भी बेहतर तरीके से विकास हो सके।