Take a fresh look at your lifestyle.

फर्टिलिटी डाइट महिलाओं और पुरुषों के लिए

0

महिला या पुरुष यदि किसी एक की भी फर्टिलिटी अच्छी नहीं होती है या फर्टिलिटी से जुडी कोई समस्या होती है तो इस कारण उनकी फैमिली प्लानिंग में समस्या आ सकती है। क्योंकि फर्टिलिटी अच्छी नहीं होने के कारण महिला कंसीव नहीं कर पाती है यानी की महिला प्रेग्नेंट नहीं हो पाती है। लेकिन ऐसा नहीं है की इस समस्या का कोई उपाय नहीं है। आज हम फर्टिलिटी बढ़ाने के ऐसे ही एक उपाय के बारे में आपसे चर्चा करने जा रहे हैं जो महिला और पुरुषों दोनों की फर्टिलिटी में सुधार कर सकते हैं।

और वो उपाय है कुछ खाद्य पदार्थ, जी हाँ कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ होते हैं जिनका सेवन करने से पुरुष के शुक्राणु की गुणवत्ता को बेहतर करने और महिला की एग क़्वालिटी को सुधारने में मदद करते हैं। और इन खाद्य पदार्थों को फर्टिलटी डाइट कहा जाता है तो आइये अब विस्तार से जानते हैं की महिलाओं और पुरुषों को फर्टिलिटी में सुधार करने के लिए क्या-क्या खाना चाहिए।

पुरुषों की फर्टिलटी बढ़ाने के लिए फ़ूड

यदि किसी पुरुष के शुक्राणु की गुणवत्ता अच्छी नहीं होती है या शुक्राणु की संख्या में कमी होती है तो इस समस्या को खत्म करने के लिए पुरुष फर्टिलिटी डाइट को अपनी डाइट में शामिल कर सकता है। तो आइये अब जानते हैं की पुरुषों के लिए फर्टिलिटी डाइट कौन सी होती है।

अनार: अनार खाने या अनार का जूस पीने से मेल फर्टिलटी को तेजी से बढ़ाने में मदद मिलती है।

अंडा: विटामिन इ और प्रोटीन से भरपूर अण्डों का सेवन करने से पुरुषों में शुक्राणु की गुणवत्ता को सुधारने और शुक्राणु की संख्या को बढ़ाने में मदद मिलती है।

टमाटर: टमाटर में मौजूद लाइकोपिन शुक्राणु की संख्या, क्वालिटी और स्ट्रक्चर को सुधारने में मदद करता है। साथ ही टमाटर को ऑलिव ऑयल में पकाकर खाने से इसका फायदा और भी बढ़ जाता है।

कद्दू के बीज: जिंक और ओमेगा 3 फैटी एसिड से भरपूर कद्दू के बीज मेल ऑर्गन्स में ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाने में मदद करते हैं। साथ ही रोजाना एक मुट्ठी कद्दू के बीज खाने से टेस्टोस्टेरोन और स्पर्म काउंट को तेजी से बढ़ाने में मदद मिलती है।

अखरोट: ओमेगा 3 फैटी एसिड से भरपूर अखरोट का सेवन करने से मेल ऑर्गन्स में ब्लड फ्लो को बढ़ाने, शुक्राणु की संख्या को बढ़ाने और शुक्राणु के आकार को बेहतर करने में मदद मिलती है।

लहसुन: एलिसिन से भरपूर लहसुन की तीन से वहार कलियाँ रोज चबाने से मेल ऑर्गन्स में ब्लड फ्लो बेहतर होता है साथ ही शुक्राणु की गुणवत्ता को संख्या को बढ़ाने में भी मदद मिलती है।

डार्क चॉकलेट: डार्क चॉकलेट में मौजूद गुण भी पुरुषों की फर्टिलिटी को बेहतर करने में मदद करते हैं।

गाजर: गाजर में मौजूद विटामिन ए भी पुरुषों की इस परेशानी को दूर करने में मदद करता है।

पालक: फोलिक एसिड से भरपूर पालक का सेवन करने से भी पुरुष के शुक्राणु की गुणवत्ता और संख्या को बढ़ाने में मदद मिलती है।

केले: ब्रोमिलेन नामक एंजाइम, विटामिन B से भरपूर केले का सेवन करने से भी पुरुष का स्टेमिना, एनर्जी और स्पर्म काउंट बढ़ाने में मदद मिलती हैं।

महिलाओं की फर्टिलिटी बढ़ाने के लिए डाइट

अनियमित पीरियड्स, तनाव के चलते महिलाओं की प्रजनन क्षमता पर भी बुरा असर पड़ता है ऐसे महिलाएं भी इस परेशानी से निजात पाने के लिए अपने खान पान में कुछ खाद्य पदार्थों को शामिल कर सकती है। जिससे महिलाओं की फर्टिलटी को बढ़ाने में मदद मिलती है।

  • हरी सब्जियों का भरपूर सेवन करने से महिलाओं की फर्टिलटी को सुधारने में मदद मिलती है।
  • दालें व् फलियां यदि महिला अपनीओ डाइट में लेती है तो इससे महिला को बहुत फायदे मिलता है।
  • ड्राई फ्रूट्स का सेवन करना भी महिलाओं के लिए फायदेमंद होता है।
  • पुरुषों के साथ महिलाओं के लिए अंडे का सेवन बहुत फायदेमंद होता है।
  • एवोकाडो का सेवन करने से महिलाओं की एग क़्वालिटी को बेहतर करने में मदद मिलती है।
  • फलों को अपनी डाइट में भरपूर मात्रा में शामिल करने से भी महिला को बहुत फायदा मिलता है।
  • महिलाओं की प्रजनन क्षमता को बेहतर करने के लिए अदरक का सेवन बहुत फायदेमंद होता है।
  • डेयरी उत्पाद का सेवन करने से भी महिलाओं की प्रजनन क्षमता को बेहतर करने में मदद मिलती है।
  • फाइबर से भरपूर डाइट का सेवन करने से भी महिला को बहुत फायदा मिलता है।
  • महिलाएं प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए दालचीनी का सेवन भी कर सकती है। दालचीनी का सेवन करने से एग क़्वालिटी को बेहतर करने में मदद मिलती है।

तो यह है वो फर्टिलिटी डाइट जो महिला और पुरुष दोनों की फर्टिलिटी में सुधार करने में मदद करती हैं। इसीलिए यदि आपको भी फर्टिलटी प्रॉब्लम के कारण कंसीव करने में दिक्कत आ रही है तो आपको भी इन खाद्य पदार्थों का सेवन जरूर करना चाहिए।

Foods to increase Fertility

Leave A Reply

Your email address will not be published.