10 फ़ूड जो नहीं खाएं गर्मियों में मिसकैरिज हो जाएगा

प्रेगनेंसी के दौरान खान पान का ध्यान रखना बहुत जरुरी होता है। लेकिन खान पान का ध्यान रखने के साथ मौसम के अनुसार खान पान में बदलाव भी जरूर करना चाहिए। जैसे की कुछ चीजें हैं जिनका सेवन गर्भवती महिला को गर्मियों में नहीं करना चाहिए। और कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे होते हैं जिनका सेवन सर्दी में नहीं करना चाहिए। क्योंकि प्रेग्नेंट महिला मौसम के अनुसार खान पान का ध्यान नहीं रखती है।

तो इसके कारण गर्भवती महिला को परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। साथ ही कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे होते हैं जो गर्भपात जैसी परेशानी भी खड़ी कर सकते हैं। तो आज इस आर्टिकल में हम आपको कुछ ऐसे खाद्य पदार्थों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनका सेवन गर्मियों में प्रेग्नेंट महिला को नहीं करना चाहिए। क्योंकि उन चीजों का सेवन करने से गर्भपात का खतरा होता है। जैसे की:

गुड़

प्रेग्नेंट महिला को गर्मियों में गुड़ का सेवन करने से बचना चाहिए। खासकर जिन चीजों में गुड़ को पिघलाकर इस्तेमाल किया जाता है उनका सेवन तो बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए। क्योंकि गुड़ की तासीर गर्म होती है और पिघलने के बाद यह गर्भवती महिला को ज्यादा नुकसान पहुंचा सकती है और महिला का गर्भपात होने का खतरा रहता है।

गरम मसालें

जैसे की इनके नाम में ही गरम आता है वैसे की इनकी तासीर भी गर्म होती है। इसीलिए गर्मियों में इनका सेवन करने से गर्भवती महिला के पेट में गर्मी बढ़ सकती है जिससे गर्भपात होने का खतरा रहता है।

लाल या हरी मिर्च

यदि प्रेग्नेंट महिला का मिर्च खाने का मन है तो खाने में महिला हरी मिर्च का इस्तेमाल कर सकती है। लेकिन जरुरत से ज्यादा हरी मिर्च और लाल मिर्च का सेवन तो बिल्कुल भी गर्मियों में महिला को नहीं करना चाहिए। क्योंकि गर्मी के मौसम में इसके कारण पेट सम्बंधित परेशानियां ज्यादा हो सकती है जिसकी वजह से गर्भ गिरने का डर रहता है।

लहसुन

गर्मी के मौसम में प्रेग्नेंट महिला को लहसुन का सेवन भी नहीं करना चाहिए। क्योंकि लहसुन की तासीर गर्म होती है जिससे गर्भ में शिशु को नुकसान पहुँच सकता है। और गर्भ गिरने का खतरा रहता है।

अदरक

एंटी ऑक्सीडेंट, एंटी वायरल गुणों से भरपूर अदरक का सेवन प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करने में मदद करता है। लेकिन गर्मियों के मौसम में प्रेग्नेंट महिला को अदरक का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए। क्योंकि अदरक की तासीर गर्म होती है। जिसकी वजह से गर्भ गिरने का खतरा रहता है।

चाय और कॉफ़ी

गर्मी के मौसम में प्रेग्नेंट महिला को चाय कॉफ़ी का सेवन करने की बजाय शेक आदि पीना चाहिए। क्योंकि गर्मियों में कैफीन का ज्यादा सेवन बहुत नुकसानदायक होता है। जिससे प्रेग्नेंट महिला के गर्भ गिरने का डर भी रहता है।

ड्राई फ्रूट्स

वैसे तो ड्राई फ्रूट्स शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होता है लेकिन इसकी तासीर गर्म होती है। और गर्म तासीर वाली चीजों का सेवन गर्मियों में अधिक करने से मिसकैरिज होने के खतरा रहता है।

आइस क्रीम

गर्मियों के मौसम में आइस क्रीम खाने के बाद लोग ऐसा ही सोचते हैं की उन्हें ठंडक मिलती है। जबकि आइस क्रीम खाने से बॉडी में गर्मी पैदा होती है। और गर्भवती महिला यदि आइस क्रीम का सेवन अधिक करती है। तो ऐसा करने से शरीर में गर्मी बढ़ने के कारण गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है।

जंक फ़ूड

बाहर का खाना, ज्यादा तली भुनी चीजों का सेवन भी चाहे वो घर में ही क्यों न बनी हो, उनका सेवन प्रेग्नेंट महिला को गर्मियों में नहीं करना चाहिए। क्योंकि ऐसा आहार पेट में गर्मी को बढ़ाता है और पेट में गर्मी बढ़ने के कारण गर्भ को परेशानी होने का खतरा रहता है साथ ही गर्भपात होने की आशंका भी बढ़ जाती है।

अंडा और नॉन वेज

वैसे तो प्रेग्नेंट के दौरान अंडा व् नॉन वेज का सेवन किया जा सकता है। लेकिन गर्मी के मौसम में प्रेग्नेंट महिला को इन चीजों का सेवन करने से बचना चाहिए। क्योंकि इन्हे पचाने में गर्भवती महिला को दिक्कत हो सकती है जिसकी वजह से डायरिया होने का खतरा रहता है। और डायरिया की परेशानी अधिक होने के कारण गर्भ गिरने का डर होता है।

तो यह हैं वो फ़ूड जिनका सेवन प्रेग्नेंट महिला को गर्मियों में नहीं करना चाहिए। क्योंकि इन फ़ूड का सेवन करने से प्रेग्नेंट महिला को गर्मी में शारीरिक परेशानियां अधिक होने के साथ बच्चे के गिरने का डर भी होता है। इसीलिए मौसम के बदलाव के साथ प्रेग्नेंट महिला व् बच्चे को किसी तरह की दिक्कत न हो इसके लिए महिला को अपने खान पान का अच्छे से ध्यान रखना चाहिए।