चालीस साल की उम्र में माँ बनना हैं तो इन बातों का ध्यान रखें?

0

बचपन में बॉडी जितनी कोमल और लचीली होती है जवान होने पर उतनी ही मजबूत हो जाती है उसके बाद जैसे जैसे उम्र बढ़ती है वैसे वैसे शरीर कमजोर होने लगता है। खासकर महिलाओं के शरीर में हर उम्र के बाद बहुत से बदलाव देखने को मिलते हैं। जैसे की महिला जब जवान होने लगती है, महिला की जब शादी होती है, महिला जब कंसीव करती है, आदि।

तब महिला के शरीर में बहुत से बदलाव होते हैं और उम्र बढ़ने के साथ महिला को बहुत सी शारीरिक परेशानियों का सामना भी करना पड़ सकता है। आज इस आर्टिकल में हम चालीस की उम्र में गर्भधारण के बारे में बात करने जा रहे हैं जैसे की क्या महिला चालीस की उम्र में गर्भधारण कर सकती है या नहीं, गर्भधारण करने पर महिला को किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, आदि।

क्या चालीस की उम्र मर महिला गर्भाधारण कर सकती है?

जी हाँ, चालीस की उम्र में भी महिला गर्भाधारण कर सकती है क्योंकि जब तक महिला के पीरियड्स सही आते हैं, महिला स्वास्थ्य रूप से पूरी तरह फिट है तब तक महिला चाहे तो गर्भाधारण कर सकती है।

लेकिन यदि महिला में शारीरिक रूप से कमी है, महिला के पीरियड्स अनियमित है, उम्र ज्यादा हो रही है तो महिला को कंसीव करने में परेशानियां हो सकती है। ऐसे में महिला चालीस की उम्र में गर्भाधारण जरूर कर सकती है लेकिन इसके लिए जरुरी है की महिला कुछ बातों का खास ध्यान रखें।

चालीस साल की उम्र में माँ बनना हैं तो इन टिप्स का ध्यान रखें

आज कल शादी की सही उम्र में शादी करने की बजाय लोग पहले अपने करियर पर ध्यान देते हैं अपनी एन्जॉयमेंट पर ध्यान देते है और उसके बाद शादी का फैसला लेते हैं। फिर उम्र बढ़ने के बाद जब शादी करते हैं तो शादी के बाद थोड़े समय तक बच्चे की प्लानिंग नहीं करते या एक बच्चा होने के बाद लम्बे गैप के बाद दूसरे बच्चे की प्लानिंग करते हैं।

READ  प्रेगनेंसी में एड़ी में दर्द होने के कारण और उपाय

ऐसे में यदि महिला की उम्र चालीस के आस पास होती है और महिला कंसीव करना चाहती है तो इस समय महिला को बहुत सी बातों का ध्यान रखने की जरुरत होती है ताकि प्रेगनेंसी में आने वाली दिक्कतों से बचे रहने में मदद मिल सके। तो आइये अब उन टिप्स के बारे में जानते हैं।

सबसे पहले करवाएं अपना हेल्थ चेकअप

चालीस की उम्र में यदि आप माँ बनना चाहती है तो सबसे पहले आपको अपना पूरा हेल्थ चेकअप करवाना चाहिए। क्योंकि इस उम्र में महिला को शारीरिक परेशानियां जैसे की हाई ब्लड प्रैशर, जेस्टेशनल शुगर, गर्भपात का अधिक खतरा जैसी समस्या हो सकती है। ऐसे में महिला यदि शुरू से ही अपनी जांच करवा लेती है और अपनी हेल्थ की पूरी जानकारी को ध्यान में रखते हुए कंसीव करती है तो इससे प्रेगनेंसी में आने वाली परेशानियां कम हो जाती है। क्योंकि उनका ट्रीटमेंट शुरू से किया जाता है।

डॉक्टर द्वारा बताएं गए टिप्स को फॉलो करें

चालीस की उम्र में गर्भाधारण करने पर महिला को डॉक्टर द्वारा बताएं गए टिप्स को फॉलो करना चाहिए। दवाइयों का समय से सेवन करना चाहिए, क्योंकि जितना महिला डॉक्टर के बताएं टिप्स को फॉलो करती है उतना ही चालीस की उम्र में होने वाली प्रेगनेंसी को आसान बनाने में मदद मिलती है।

पोषक तत्वों से भरपूर डाइट लें

प्रेगनेंसी के दौरान डाइट का ध्यान रखना बहुत जरुरी होता है क्योंकि महिला जितनी अच्छी डाइट लेती है उतना ही महिला को स्वस्थ रहने और गर्भ में शिशु के बेहतर विकास में मदद मिलती है। ऐसे में चालीस की उम्र में गर्भाधारण के लिए और गर्भाधारण करने पर महिला को कैल्शियम, आयरन, विटामिन्स, फाइबर, प्रोटीन्स व् अन्य पोषक तत्वों से युक्त डाइट लेनी चाहिए।

READ  गर्भ में बेबी क्या पसंद करता है?

ऐसा कोई काम नहीं करें जिससे बॉडी पर प्रैशर महसूस हो

यदि आप चाहती है की आपको चालीस की उम्र में प्रेगनेंसी हो और प्रेगनेंसी के दौरान समस्याओं से बचे रहने में आपको मदद मिल सके। तो इसके लिए आपको ऐसा कोई काम भी काम नहीं करना चाहिए जिससे आपके शरीर पर जोर पड़े या आपको कोई शारीरिक समस्या हो। बस जितना हो सके आराम करना चाहिए।

मानसिक रूप से रिलैक्स रहें

उम्र ज्यादा होने पर माँ बनना चाहती है तो इसके लिए शारीरिक रूप से फिट होने के साथ मानसिक रूप से भी रिलैक्स होना बहुत जरुरी होता है। क्योंकि तनाव आपकी प्रेगनेंसी में मुश्किलें बढ़ा सकता है। ऐसे में जितना हो सके अपने आप को तनाव से फ्री रखें और खुश रहें।

लापरवाहियों से बचें

चालीस की उम्र में गर्भाधारण के लिए महिला को किसी भी तरह की लापरवाही नहीं करनी चाहिए। जैसे की ज्यादा भागदौड़ नहीं करनी चाहिए, नशीले पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए, कैफीन का ज्यादा सेवन नहीं करना चाहिए, उन चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए जिससे माँ बनने में रूकावट आती है, सम्बन्ध बनाते समय सुरक्षा का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए, सीढ़ियां अधिक नहीं चढ़नी चाहिए, आदि।

डॉक्टर के संपर्क में रहें

गर्भाधारण करने से पहले से लेकर पूरी प्रेगनेंसी के दौरान महिला को डॉक्टर के संपर्क में रहना चाहिए। ताकि आपको कन्सीव करने में आसानी होने के साथ प्रेगनेंसी के दौरान भी स्वस्थ रहने में मदद मिल सके।

प्रेगनेंसी कन्फर्म होने पर करें अपनी दुगुनी केयर

यदि चालीस की उम्र में महिला गर्भाधारण कर लेती है तो प्रेगनेंसी में आने वाली मुश्किलों से बचे रहने के लिए प्रेग्नेंट महिला को अपना अच्छे से ध्यान रखना चाहिए। और ऐसी कोई भी गलती नहीं करनी चाहिए जिससे प्रेगनेंसी में किसी भी तरह के कॉम्प्लीकेशन्स आएं।

READ  प्रेगनेंसी के दौरान यह 10 चीजें करें बुद्धिमान शिशु के लिए

तो यह हैं कुछ टिप्स जिनका ध्यान महिला को चालीस की उम्र में गर्भाधारण करने पर महिला को रखना चाहिए। ताकि महिला स्वस्थ रहें और महिला को आसानी से गर्भाधारण करने में मदद मिल सके और प्रेगनेंसी के दौरान महिला को दिक्क्तें कम हो।

If you want to become a mother at the age of forty, then keep these things in mind

Leave A Reply

Your email address will not be published.