प्रेगनेंसी में देसी घी खाने के फायदे और क्या इससे नोर्मल डिलीवरी होती है

0

पुराने समय से ही गर्भवती महिला को प्रेगनेंसी के समय और डिलीवरी के बाद देसी घी का सेवन करने की सलाह दी जाती है। क्योंकि घी में पोषक तत्व भरपूर मात्रा में शामिल होते हैं जो माँ व् बच्चे दोनों के लिए फायदेमंद होते हैं। ऐसे में यदि आप भी माँ बनने वाली है तो आप भी देसी को अपनी डाइट में शामिल कर सकती है। लेकिन देसी घी का सेवन करने से पहले कुछ बातों का ध्यान रखना जरुरी होता है।

जैसे की प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में घी का सेवन न करें, यदि आपका वजन बहुत ज्यादा है तो घी का सेवन न करें, जरुरत से ज्यादा घी का सेवन न करें। इन बातों का ध्यान रखते हुए गर्भवती महिला घी का सेवन प्रेगनेंसी के दौरान कर सकती है। तो आइये अब जानते हैं की प्रेगनेंसी में घी का सेवन करने से गर्भवती महिला व् बच्चे को कौन से फायदे मिलते हैं।

पाचन क्रिया होती है बेहतर

घी में एंटी वायरल गुण मौजूद होते हैं जो पाचन क्रिया को दुरुस्त रखने में मदद करते हैं। जिससे गर्भवती महिला को खाना हज़म करने में परेशानी नहीं होती है, कब्ज़ से राहत मिलती है, भूख को बढ़ाने में मदद मिलती है, आदि। ऐसे में रोजाना ज्यादा नहीं लेकिन रोटी पर लगाकर सब्ज़ी में एक घी का छोटा चम्मच डालकर घी को अपनी डाइट का हिस्सा गर्भवती महिला को जरूर बनाना चाहिए।

शरीर को मिलती है ऊर्जा

विटामिन्स, फैट, मिनरल्स के साथ, एंटी बैक्टेरियल, एंटी वायरल गुणों से भी घी भरपूर होता है। ऐसे में घी का सेवन करने से गर्भवती महिला की इम्युनिटी बढ़ती है जिससे बिमारियों से बचे रहने के साथ ही गर्भवती महिला को ऊर्जा से भरपूर रहने में मदद मिलती है।

READ  गर्भ में शिशु निरोग ऐसे रहेगा

मूड होता है बेहतर

घी का सेवन करने से प्रेग्नेंट महिला को तनाव से राहत मिलती है और महिला का मूड बेहतर होता है। जिससे माँ व् बच्चे दोनों को स्वस्थ रहने में मदद मिलती है।

बच्चे का विकास होता है बेहतर

प्रेगनेंसी की दूसरी व् तीसरी तिमाही में बच्चे का विकास तेजी से होता है जिसके लिए गर्भवती महिला को ज्यादा कैलोरीज़ की जरुरत होती है। और देसी घी का सेवन करने से प्रेग्नेंट महिला को स्वस्थ रहने के लिए और बच्चे के विकास के लिए जरुरी कैलोरीज़ मिलती है। जिससे बच्चे का शारीरिक और मानसिक विकास बेहतर होने में मदद मिलती है।

क्या प्रेगनेंसी के दौरान घी खाने से नोर्मल डिलीवरी होती है?

ऐसा बहुत से लोगो से आपने भी सुना होगा की प्रेगनेंसी के दौरान घी का सेवन करने से नोर्मल डिलीवरी होती है। लेकिन यह बात पूरी तरह सच नहीं है। लेकिन यह बात सच है की प्रेगनेंसी के दौरान घी का सेवन करने से प्रेग्नेंट महिला को स्वस्थ रहने में और बच्चे का विकास बेहतर होने में मदद मिलती है। और माँ व् बच्चे का स्वस्थ रहना नोर्मल डिलीवरी के चांस को बढ़ाने में मदद करता है।

लेकिन यदि आपका वजन ज्यादा है या आप बहुत ज्यादा घी का सेवन करते हैं तो इससे महिला व् बच्चे दोनों का वजन बहुत ज्यादा हो जाता है जिससे डिलीवरी के दौरान परेशानी भी होती है। ऐसे में आप यह कह सकते हैं की सिमित मात्रा में घी का सेवन करने से डिलीवरी के दौरान आने वाली कॉम्प्लीकेशन्स को कम करने में मदद मिलती है। और घी का सेवन ज्यादा करने से नुकसान भी हो सकता है।

READ  प्रेगनेंसी में नाख़ून बड़े रखने के नुकसान

तो यह हैं प्रेगनेंसी में घी का सेवन करने से जुड़े कुछ टिप्स, तो यदि आप भी माँ बनने वाली हैं और प्रेगनेंसी में घी का सेवन करने के बारे में सोच रही हैं। तो आप भी जरुरत के अनुसार घी का सेवन कर सकती है। लेकिन यह सोचकर घी का सेवन बिल्कुल न करें की घी खाने से आपकी नोर्मल डिलीवरी होगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.