इस समय प्रेगनेंसी में बिल्कुल भी सम्बन्ध नहीं बनाएं

प्रेगनेंसी के दौरान कुछ महिलाओं की सम्बन्ध बनाने की इच्छा में वृद्धि हो जाती है। तो कुछ महिलाओं का सम्बन्ध बनाने का मन ही नहीं करता है। लेकिन यदि आपकी प्रेगनेंसी में कोई दिक्कत नहीं है तो आप अपने पार्टनर के साथ पूरी सावधानी से सम्बन्ध बना सकती है। परन्तु प्रेगनेंसी में बहुत से बदलाव आते हैं, बहुत सी परेशानियां आती है, और कुछ केस में डॉक्टर भी समबन्ध न बनाने की सलाह देते हैं। तो आज हम इस आर्टिकल में आपको प्रेगनेंसी में कब महिला को सम्बन्ध नहीं बनाना चाहिए उस बारे में बताने जा रहे हैं।

ब्लीडिंग की समस्या होने पर

कुछ महिलाओं को प्रेगनेंसी के शुरूआती दिनों में ब्लीडिंग की समस्या हो सकती है। यदि आपको यह परेशानी प्रेगनेंसी के दौरान हो रही है। तो ऐसे में आपको सम्बन्ध बनाने से बचना चाहिए।

पहले गर्भपात हुआ हो

यदि आपका पहले गर्भपात हुआ है तो भी आपको प्रेगनेंसी के दौरान सम्बन्ध बनाने से बचना चाहिए। क्योंकि गर्भपात होने के कारण गर्भाशय की ग्रीवा कमजोर हो जाती है जिससे फिर से गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है।

गर्भ में एक से ज्यादा शिशु हो

गर्भ में एक से ज्यादा शिशु के होने पर भी आपको सम्बन्ध बनाने से बचना चाहिए। क्योंकि इसके कारण सम्बन्ध बनाने में दिक्कत होने के साथ प्रेगनेंसी में होने वाली परेशानियां भी बढ़ जाती है।

गर्भ में शिशु का भार नीचे की तरफ अधिक हो

गर्भ में कुछ बच्चों का भार पेल्विक एरिया की तरफ ज्यादा होता है। और यदि आपके साथ भी ऐसा है तो आपको प्रेगनेंसी में सम्बन्ध नहीं बनाना चाहिए। क्योंकि इस केस में सम्बन्ध बनाने के कारण गर्भाशय पर चोट लगने का खतरा ज्यादा होता है जिससे बच्चे को परेशानी महसूस होती है।

ज्यादा उम्र में गर्भधारण किया हो

कुछ महिलाएं ज्यादा उम्र में गर्भधारण करती है। और अधिक उम्र में गर्भधारण करने पर प्रेगनेंसी में कम्प्लीकेशन का खतरा भी ज्यादा होता है। ऐसे में सम्बन्ध बनाने से परेशानियां बढ़ सकती है। इसीलिए अधिक उम्र में गर्भधारण करने पर भी प्रेगनेंसी में सम्बन्ध बनाने से बचना चाहिए।

गर्भधारण में बहुत परेशानी हुई हो

यदि आपको गर्भधारण करने में बहुत परेशानी हुई है। तो ऐसे केस में भी आपको प्रेगनेंसी के दौरान कोई परेशानी न हो इससे बचने के लिए प्रेगनेंसी में सम्बन्ध बनाने से बचना चाहिए।

पेट में दर्द महसूस होने पर

गर्भवती महिला को यदि पेट में दर्द जैसी समस्या अधिक रहती है या सम्बन्ध बनाने के बाद पेट में दर्द रहता है। तो ऐसे केस में भी गर्भवती महिला को सम्बन्ध बनाने से परहेज करना चाहिए।

इन्फेक्शन होने पर

गर्भवती महिला या गर्भवती महिला के पार्टनर दोनों में से किसी एक को भी प्रेगनेंसी के दौरान इन्फेक्शन होता है। तो ऐसा होने पर आपको गलती से भी सम्बन्ध नहीं बनाना चाहिए। क्योंकि इसके कारण आपके साथ बच्चे को भी दिक्कत हो सकती है।

महिला का सम्बन्ध बनाने का मन न हो

सम्बन्ध बनाने के लिए दोनों पार्टनर की रजामंदी होनी जरुरी होती है। ऐसे में यदि प्रेग्नेंट महिला की सम्बन्ध बनाने की इच्छा नहीं है तो महिला को सम्बन्ध नहीं बनाना चाहिए। क्योंकि जबरदस्ती सम्बन्ध बनाने से आपकी दिक्कत बढ़ सकती है।

जब एमनियोटिक फ्लूड का रिसाव हो

प्रेगनेंसी के नौवें महीने में यदि महिला के प्राइवेट पार्ट से एमनियोटिक फ्लूड थोड़ा थोड़ा निकलता हुआ महसूस हो। तो ऐसे में भी गर्भवती महिला को अपने पार्टनर के साथ सम्बन्ध नहीं बनाना चाहिए।

डॉक्टर के मना करने पर

यदि प्रेग्नेंट महिला को डॉक्टर ने सम्बन्ध बनाने की मनाही की है तो बिना डॉक्टर की सलाह के गलती से भी प्रेग्नेंट महिला को सम्बन्ध नहीं बनाना चाहिए।

तो यह हैं कुछ शारीरिक परेशानियां व् बदलाव जिनके होने पर पर आपको प्रेगनेंसी के दौरान अपने पार्टनर के साथ सम्बन्ध नहीं बनाना चाहिए। क्योंकि यदि आप इन परेशानियों के होने पर अपने पार्टनर के साथ सम्बन्ध बनाती हैं तो आपको दिक्कत होने के खतरा ज्यादा होता है।