प्रेग्नेंट महिला को ठंडा पानी क्यों नहीं पीना चाहिए?

प्रेगनेंसी के दौरान भरपूर मात्रा में पानी पीने से बहुत से फायदे मिलते हैं और यह फायदे महिला के साथ बच्चे को भी मिलते हैं। जैसे की भरपूर पानी पीने से महिला को ऊर्जा से भरपूर रहने में मदद मिलती है जिससे प्रेगनेंसी के दौरान होने वाली परेशानियां कम होती है। साथ ही पानी का भरपूर सेवन गर्भाशय में एमनियोटिक फ्लूड की मात्रा को सही रखने में मदद करता है। जिससे गर्भ में बच्चे के विकास को बेहतर होने में मदद मिलती है।

लेकिन पानी का सेवन करते समय महिला को बहुत सी बातों का ध्यान रखना भी जरुरी होता है जैसे की महिला को फिल्टर्ड पानी पीना चाहिए, ज्यादा ठंडा या ज्यादा गर्म पानी नहीं पीना चाहिए, आदि। आज इस आर्टिकल में हम प्रेगनेंसी के दौरान ठंडा पानी पीने से गर्भवती महिला को कौन कौन से नुकसान हो सकते हैं उस बारे में बताने जा रहे हैं। जैसे की:

पेट से जुडी परेशानियां हो जाती है

ठंडा पानी पीने से पेट के आस पास की नसें सिकुड़ जाती हैं। जिसके कारण पाचन क्रिया धीमी पड़ने लगती है। और पाचन क्रिया के धीमे होने के कारण प्रेगनेंसी के दौरान पेट से जुडी परेशानियों जैसे की पेट में दर्द, खाना हज़म होने में दिक्कत आदि का सामना महिला को करना पड़ता है।

कब्ज़

ठन्डे पानी में यदि आप हाथ डालते हैं तो आपको ऐसा लगता है की आपके हाथ जम गए हैं। वैसे ही जब प्रेग्नेंट महिला ठंडा पानी पीती है तो इससे शरीर में चीजें भी सख्त होने लगती है जैसे की यदि आप खाना खाती है तो ठन्डे पानी की वजह से खाना सख्त हो जाता है जिसके कारण वो अच्छे से हज़म नहीं हो पाता है। और इस कारण गर्भवती महिला को प्रेगनेंसी के दौरान कब्ज़ व् बवासीर जैसी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

पोषक तत्वों की हो जाती है कमी

यदि प्रेग्नेंट महिला खाने के साथ ठंडा पानी पीती है तो उसमे पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। क्योंकि ठंडा पानी भोजन में मौजूद पोषक तत्वों को खत्म कर देता है। ऐसे में गर्भवती महिला को आहार में मौजूद भरपूर पोषक तत्व मिलें इसके लिए प्रेग्नेंट महिला को ठंडा पानी प्रेगनेंसी के दौरान नहीं पीना चाहिए खासकर खाने के साथ तो बिल्कुल भी नहीं पीना चाहिए।

सर्दी खांसी की समस्या

ठंडा पानी पीने के कारण गर्भवती महिला को सर्दी, खांसी, गले में इन्फेक्शन जैसी परेशानी का सामना भी करना पड़ सकता है। साथ ही बुखार होने का खतरा भी अधिक होता है।

गर्भ में शिशु की बढ़ती है हलचल

जब महिला ठंडा पानी पीती है तो इसके कारण महिला के शरीर के अंदर के तापमान में फ़र्क़ आता है। जिसकी वजह से गर्भ में शिशु की हलचल बढ़ जाती है। साथ ही यदि महिला बहुत ज्यादा ठंडा पानी पीती है तो इस कारण जन्म के बाद बच्चे को निमोनिया होने का खतरा भी रहता है।

शरीर में दर्द

ठन्डे पानी का सेवन करने से प्रेग्नेंट महिला को जोड़ो में दर्द, पीठ में दर्द व् शरीर के अन्य हिस्सों में दर्द जैसी परेशानी का सामना भी अधिक करना पड़ सकता है।

सूजन

ठंडा पानी पीने की वजह से प्रेग्नेंट महिला को सूजन की समस्या भी प्रेगनेंसी के दौरान अधिक हो सकती है। जिसकी वजह से प्रेग्नेंट महिला को दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है।

वजन भी बढ़ता है

ठंडा पानी पीने के कारण शरीर में जमी चर्बी सख्त हो जाती है साथ ही इसकी वजह से फैट भी नहीं कम होता है। जिसके कारण वजन ज्यादा बढ़ने का खतरा होता है। और प्रेगनेंसी के दौरान महिला के वजन का जरुरत से ज्यादा बढ़ना माँ व् बच्चे दोनों को नुकसान पहुंचा सकता है।

डीहाइड्रेशन की समस्या

ठंडा पानी पीने से बहुत जल्दी प्यास बुझ जाती है। जिसकी वजह से शरीर में पानी की कमी हो जाती है और गर्भवती महिला को डीहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है जिससे माँ और बच्चे दोनों की सेहत पर बुरा असर पड़ता है।

एनर्जी हो जाती है डाउन

प्रेग्नैंक्ट महिला यदि ज्यादा ठंडा पानी पीती है तो ज्यादा ठंडा पानी पीने से मेटाबॉलिज्म धीमी हो जाती है, जिसकी वजह से गर्भवती महिला सुस्त महसूस करती है और गर्भवती महिला का एनर्जी लेवल भी डाउन हो जाता है। ऐसे में प्रेगनेंसी के दौरान ऊर्जा से भरपूर रहने के लिए प्रेग्नेंट महिला को जितना हो सके ताजा पानी का सेवन करना चाहिए।

तो यह हैं कुछ कारण जिनकी वजह से गर्भवती महिला को ठंडा पानी नहीं पीना चाहिए। ठंडा पानी पीने के अलावा ठंडी चीजें, ठंडा जूस आदि भी प्रेग्नेंट महिला को नहीं पीना चाहिए।

Why should a pregnant woman do not drink cold water?