सावन (2021) का महीना कब से कब तक है? कैसे करें व्रत

शास्त्रों में सावन का महीना बहुत ही पवित्र और धार्मिक माना गया है। सावन के महीने में भोलेबाबा, माँ पार्वती की पूजा करने का बहुत अधिक महत्व होता है साथ ही इनकी पूजा करना बहुत ही फलदायक माना जाता है। ऐसा माना जाता है सावन महीने में भोलेबाबा अपने सभी भक्तों की मनोकामनाओं को पूरा करते हैं।

साथ ही सावन के महीने में आने वाले सोमवार का और भी ज्यादा महत्व होता है और ऐसा माना जाता है की जो व्यक्ति पूरा साल सोमवार के व्रत नहीं करता है लेकिन सावन के सभी सोमवार पूरी श्रद्धा और निष्ठा से करता है उस पर भोले बाबा की असीम कृपा होती है और उसे पूरे साल के सोमवार के व्रत रखने जितना ही फल मिलता है। साथ ही जो भक्त भोलेबाबा को मानते हैं उन्हें सावन के महीने का बहुत इंतज़ार भी रहता है। तो आइये साल 2021 में सावन महीना कब शुरू हो रहा है उसके बारे में जानते हैं।

2021 में सावन महिला कब से शुरू हो रहा है?

24 जुलाई 2021 को आषाढ़ माह का समापन होगा उसके बाद 25 जुलाई 2021 दिन रविवार को सावन माह की शुरुआत होगी। उसके बाद 26 जुलाई 2021 दिन सोमवार को सावन माह का प्रथम सोमवार का व्रत रखा जायेगा। फिर 22 अगस्त 2021 दिन रविवार को सावन के महीने का समापन होगा।

सावन के सोमवार का व्रत रखने की विधि

  • यदि आप व्रत रख रहे हैं तो सबसे पहले व्रत वाले दिन सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उठें।
  • उसके बाद घर की साफ़ सफाई करें और नहा धोकर साफ स्वच्छ वस्त्र धारण करके तैयार हो जाएँ।
  • फिर अपने घर के मंदिर में भोलेबाबा और माँ पार्वती के सामने दीप जलाएं और हाथ जोड़कर व्रत करने का संकल्प लें।
  • यदि आपके घर के आस पास मंदिर है तो उसके बाद आप मंदिर में जाएँ।
  • मंदिर में एक लोटे में पानी और दूध मिलाकर जल बनाएं और उसे लेकर जाएँ फिर मंदिर में पहुंचकर उस जल को भोलेबाबा, माँ पार्वती, गणेश जी, कार्तिकेय, नंदी जी पर अर्पित करें और उनका जलाभिषेक करें।
  • उसके बाद शिव परिवार पर फूल, बेल पत्र, धतूरा, भांग, गन्ना, बेर या अन्य कोई फल आदि चीजें अर्पित करें।
  • पूजा करते समय हमेशा शिव मंत्र यानी ॐ नमः शिवाय का जाप करते रहें।
  • फिर आप चाहे तो मंदिर में ही बैठकर कथा पढ़े व् आरती करें नहीं तो आप घर आने के बाद अपने घर के मंदिर में बैठकर भी ऐसा कर सकते हैं।
  • कथा व् आरती के साथ शिव चालीसा, रुद्राष्टक का पाठ करें।
  • कथा और आरती करने के बाद भोलेबाबा को भोग लगाएं उसके बाद भोग का प्रसाद सभी लोगो में वितरित करें।
  • उसके बाद शाम के समय भोजन करें और व्रत खोल लें ध्यान रखें की भोजन दिन में केवल एक बार ही लेना है।
  • ध्यान रखें की आप सोमवार का व्रत बीच में नहीं छोड़ें क्योंकि ऐसा माना जाता है की ऐसा करने से भोलेबाबा नाराज़ हो जाते हैं।

तो यह है सावन का महिला 2021 में कब है और सावन के महीने में सोमवार के व्रत रखने की विधि से जुड़े टिप्स, यदि आप भी सावन के महीने में सोमवार के व्रत रखते हैं। तो आप भी इन बातों का ध्यान रखें ताकि आपके व्रत को सम्पूर्ण होने में मदद मिल सके और भोलेबाबा की कृपा आप पर हमेशा बनी रहे।

Leave a comment