ऐसे रहें प्रेगनेंसी में खुश

गर्भावस्था के दौरान महिला को बहुत सी शारीरिक परेशानियों व् शारीरिक बदलाव का सामना करना पड़ता है। और कुछ महिलाएं तो मानसिक रूप से भी इस समय परेशान रहती है। लेकिन यदि महिला पूरी प्रेगनेंसी में इन परेशानियों से निजात पाने की कोशिश करने की बजाय हमेशा नेगेटिव बातों के बारे में ही सोचती है तो ऐसा करने से महिला की प्रेगनेंसी के दौरान परेशानियां कम नहीं होती है बल्कि बढ़ जाती है। ऐसे में महिला को प्रेगनेंसी के दौरान आने वाली परेशानियों को कम करने के लिए अपने स्वास्थ्य का अच्छे से ध्यान रखना चाहिए।

और स्वास्थ्य को सही रखने के लिए महिला को अपने खान पान का अच्छे से ध्यान रखने के साथ खुश भी रहना चाहिए। क्योंकि प्रेग्नेंट महिला जितना खुश रहती है उतना ही गर्भ में शिशु का विकास अच्छे से होता है, महिला को मानसिक रूप से फ्रेश रहने में मदद मिलती है, शारीरिक रूप से होने वाली परेशानियों को कम करने में भी मदद मिलती है। तो आइये आज इस आर्टिकल में हम आपको प्रेगनेंसी के दौरान महिला को कैसे खुश रहना चाहिए उस बारे में बताने जा रहे हैं।

अकेली न रहें

प्रेगनेंसी के दौरान ज्यादातर उन महिलाओं को परेशानी होती है जो महिलाएं अकेली रहती हैं और उनकी पहली प्रेगनेंसी होती है। पहली प्रेगनेंसी होने के कारण शरीर में हो रहे बदलाव को समझने में महिला को दिक्कत होती है और महिला तनाव में आ जाती है। ऐसे में प्रेगनेंसी के दौरान खुश रहने के लिए सबसे जरुरी है की आप अपने परिवार के साथ रहें ताकि आपको प्रेगनेंसी में होने वाले बदलाव को समझने में आसानी हो सकें।

गर्भावस्था से जुडी जानकारी लें

माँ बनना महिला के लिए इतना आसान नहीं होता है क्योंकि पूरे नौ महीने महिला बहुत से बदलाव से गुजरती है, बहुत सी परेशानियों का सामना करती है। लेकिन महिला चाहे तो इन परेशानियों को कम करती सकती है और इसके लिए जरुरी होता है की महिला गर्भावस्था से जुडी जानकारी इक्कठी करें ताकि प्रेगनेंसी को समझने में महिला को आसानी हो। और जितना महिला प्रेगनेंसी के लक्षणों को समझती है उतना ही महिला की परेशानी कम होती है और प्रेगनेंसी में महिला को खुश रहने में मदद मिलती है।

खाएं पीएं और खुश रहें

गर्भावस्था के दौरान जीभ के स्वाद में बदलाव आने की वजह से, भूख में कमी के कारण महिला की खाने की इच्छा में कमी आती है। जिस वजह से शारीरिक परेशानियां बढ़ती है और शारीरिक परेशानियों के बढ़ने के कारण महिला तनाव में आ जाती है। ऐसे में गर्भावस्था के दौरान खुश रहने के लिए महिला को अपने खान पान का अच्छे से ध्यान रखना चाहिए। यदि महिला की खाने की इच्छा कम होती है तो थोड़ा थोड़ा करके खाएं लेकिन खाएं, या फिर ऐसी चीजें बनाएं जो हेल्दी होने के साथ महिला की भूख में बढ़ोतरी करें।

वजन बढ़ने के कारण न हो परेशान

गर्भावस्था के पूरे नौ महीने लगातार महिला के वजन में बढ़ोतरी होती है और वजन बढ़ने के कारण महिलाएं ऐसा सोच सकती है। की उनकी सुंदरता में कमी आ गई है जिस वजह से महिला तनाव में आ जाती है। जबकि यदि महिला प्रेगनेंसी के दौरान खुश रहना चाहती है तो महिला को अपनी बढ़ती हुई बेली को एन्जॉय करना चाहिए और इसे लेकर बिल्कुल भी घबराना नहीं चाहिए।

योगासन व् मैडिटेशन

गर्भावस्था के दौरान खुश रहने के लिए महिला को थोड़ी देर योगासन, मैडिटेशन, व्यायाम आदि करना चाहिए। ऐसा करने से महिला को मानसिक रूप से रिलैक्स महसूस होता है जिससे महिला को खुश रहने में मदद मिलती है।

बुक्स पढ़ें

यदि प्रेग्नेंट महिला को बुक रीड करने का शौक है तो गर्भवती महिला को प्रेगनेंसी के दौरान अच्छी अच्छी किताबे पढ़नी चाहिए। क्योंकि किताबें पढ़ने से भी महिला का दिमाग रिलैक्स होता है जिससे प्रेग्नेंट महिला को खुश रहने में मदद मिलती है।

फोटोशूट करवाएं

प्रेगनेंसी के हर लम्हे को यादगार बनाने के लिए और खुश रहने के लिए प्रेग्नेंट महिला को अपना फोटोशूट करवाना चाहिए। इससे आपको अपनी प्रेगनेंसी की यादों को समेट कर रखने में मदद मिलती है।

संगीत सुनें

प्रेगनेंसी में खुश रहने के लिए दिन में थोड़ी देर महिला को मधुर संगीत सुनना चाहिए इससे महिला को रिलैक्स फील होता है और मानसिक रूप से महिला फ्रेश महसूस करती है। जिससे महिला को एक्टिव और खुश रहने में मदद मिलती है।

नेगेटिविटी से दूर रहें

गर्भावस्था के दौरान हर कोई आपको प्रेगनेंसी में क्या करें क्या नहीं करें इससे जुडी राय देगा। साथ ही कोई आपसे प्रेगनेंसी के अच्छे एक्सपीरियंस शेयर करेगा तो कोई नेगेटिव एक्सपीरियंस भी शेयर करेगा। ऐसे में आपको प्रेगनेंसी के दौरान नेगेटिव बातों को अपने ऊपर हावी नहीं होने देना है और पॉजिटिव रहना है। क्योंकि जितना प्रेग्नेंट महिला पॉजिटिव रहती है। उतना ही ज्यादा महिला को खुश रहने में मदद मिलती है।

डायरी में लिखें

यदि प्रेग्नेंट महिला को लिखने का शौक है तो गर्भवती महिला को प्रेगनेंसी के दौरान लिखना चाहिए जैसे की महिला को कैसा महसूस हो रहा है, महिला को क्या क्या अच्छा लग रहा है, अपने शिशु के बारे में लिखें, आदि। ऐसा करने से भी गर्भवती महिला को प्रेगनेंसी के दौरान खुश रहने में मदद मिलती है।

अपने शिशु से बातें करें

गर्भ में बच्चे के बेहतर विकास के लिए और प्रेगनेंसी में खुश रहने के लिए गर्भवती महिला को प्रेगनेंसी के दौरान अपने बच्चे से बात करनी चाहिए।

सम्बन्ध बनाएं

यदि आपको प्रेगनेंसी में कोई समस्या नहीं है और आपका सम्बन्ध बनाने का मन करता है तो प्रेगनेंसी के दौरान अपने पार्टनर के साथ सम्बन्ध जरूर बनाएं। क्योंकि प्रेगनेंसी में सम्बन्ध बनाने से बॉडी में जो हॉर्मोन रिलीज़ होते हैं वो आपको प्रेगनेंसी के दौरान खुश रखने में मदद करते हैं।

मसाज

गर्भावस्था के दौरान पेट को छोड़कर बॉडी की, सिर की मसाज करवाएं। ऐसा करने से गर्भवती महिला को आराम महसूस होता है जिससे प्रेग्नेंट महिला को खुश रहने में मदद मिलती है।

भरपूर आराम करें

खुश रहने के लिए गर्भवती महिला को भरपूर आराम करना चाहिए। क्योंकि आराम करने से महिला शारीरिक के साथ मानसिक रूप से भी रिलैक्स महसूस करती है। जिससे महिला को खुश रहने में मदद मिलती है।

तो यह हैं कुछ टिप्स जिनका ध्यान रखने से गर्भवती महिला को खुश रहने में मदद मिलती है। यदि आप भी माँ बनने वाले है तो आपको भी इन टिप्स का ध्यान रखना चाहिए। ताकि प्रेगनेंसी में आपको खुश रहने और अपनी प्रेगनेंसी को अच्छे से एन्जॉय करने में मदद मिल सके।

Tips to be Happy in Pregnancy