प्रेगनेंसी में कब कैसे और कितना अमरुद खाना चाहिए?

0

गर्भावस्था के दौरान महिला को अपने खान पान में बहुत से बदलाव करने की सलाह दी जाती है। क्योंकि प्रेगनेंसी के दौरान जितना बेहतर महिला का खान पान होता है उतना महिला को हेल्दी रहने और गर्भ में शिशु के बेहतर शारीरिक व् मानसिक विकास में मदद मिलती है। प्रेगनेंसी के दौरान महिला को पोषक तत्वों से युक्त फलों का सेवन करने की सलाह दी जाती है। लेकिन किसी भी फल की पूरी जानकारी के बिना महिला को उसका सेवन नहीं करना चाहिए। तो आइये अब इस आर्टिकल में हम आपको प्रेगनेंसी के दौरान अमरुद के सेवन के बारे में विस्तार से बताने जा रहे हैं।

गर्भावस्था के दौरान अमरुद खाएं या नहीं?

आयरन, फोलिक एसिड, विटामिन्स, एंटी ऑक्सीडेंट्स से भरपूर अमरुद का सेवन गर्भवती महिला कर सकती है। क्योंकि अमरुद में मौजूद यह सभी पोषक तत्व गर्भवती महिला के साथ गर्भ में पल रहे शिशु के लिए भी बहुत फायदेमंद होते हैं।

प्रेगनेंसी के दौरान कब, कैसे और कितना करें अमरुद का सेवन?

गर्भवती महिला यदि अमरुद का सेवन करना चाहती है तो महिला इसका सेवन प्रेगनेंसी के दौरान किसी भी समय कर सकती है। गर्भवती महिला को अमरुद का सेवन करते समय इस बात का ध्यान रखना चाहिए की अमरुद अच्छे से धुला हुआ हो, साफ़ हो, उसमे कीड़ा नहीं हो (कीड़ा चेक करने के लिए महिला को अमरुद काटकर देखना चाहिए), अमरुद बिल्कुल भी कच्चा नहीं हो। साथ ही महिला दिन भर में एक या दो अमरुद का सेवन कर सकती है। यदि महिला इन बातों को ध्यान में रखते हुए अमरुद का सेवन करती है तो इससे महिला और बच्चे को बहुत से फायदे मिलते हैं।

READ  प्रेग्नेंट महिला को बालों में गुनगुना तेल क्यों लगाना चाहिए?

गर्भावस्था में अमरुद का सेवन करने के फायदे

प्रेगनेंसी के दौरान यदि महिला अमरुद का सेवन करती है तो इससे महिला को एक नहीं बल्कि बहुत से फायदे मिलते हैं। तो आइये अब उन फायदों के बारे में विस्तार से जानते हैं।

आयरन

गर्भावस्था के दौरान खून की कमी माँ और बच्चे दोनों के लिए हानिकारक होती है। लेकिन यदि महिला अमरुद का सेवन करती है तो इससे महिला को खून की कमी के कारण होने वाली परेशानी से बचे रहने में मदद मिलती है। क्योंकि अमरुद में आयरन भरपूर मात्रा में मौजूद होता है।

हाई ब्लड प्रैशर का खतरा होता है कम

गर्भावस्था के दौरान बहुत सी महिलाएं हाई ब्लड प्रैशर की समस्या से परेशान हो सकती है और इस समस्या के कारण माँ और बच्चे दोनों की सेहत पर बुरा प्रभाव पड़ता है। ऐसे में यदि महिला अमरुद का सेवन करती है तो इससे महिला को हाई ब्लड प्रैशर की समस्या से बचे रहने व् हाई ब्लड प्रैशर के कारण होने वाली परेशानियां जैसे की गर्भपात, समय से पहले डिलीवरी जैसी परेशानियों से बचे रहने में मदद मिलती है।

जेस्टेशनल डाइबिटीज़ का खतरा होता है कम

प्रेगनेंसी के दौरान महिला को जेस्टेशनल डाइबिटीज़ की समस्या होने का खतरा रहता है। लेकिन अमरुद का सेवन करने से प्रेग्नेंट महिला के ब्लड में शुगर लेवल कण्ट्रोल रहता है। जिससे महिला को जेस्टेशनल शुगर के खतरे से बचे रहने में मदद मिलती है।

फाइबर

अमरुद में फाइबर की अधिकता भी होती है जिससे गर्भवती महिला को पाचन क्रिया से जुडी परेशानियां जैसे की कब्ज़, अपच, गैस जैसी परेशानी से बचे रहने में मदद मिलती है।

READ  प्रेग्नेंट महिला हेल्दी कैसे रहें?

एंटीऑक्सीडेंट्स

गर्भावस्था के दौरान बॉडी में होने वाले हार्मोनल बदलाव के कारण महिला की इम्युनिटी कमजोर हो जाती है। जिसकी वजह से महिला को संक्रमण व् बिमारियों से ग्रसित होने का खतरा बढ़ जाता है। लेकिन यदि महिला अमरुद का सेवन करती है तो अमरुद में मौजूद विटामिन सी जैसे एंटीऑक्सीडेंट्स महिला की इम्युनिटी को स्ट्रांग रखने में मदद करते हैं जिससे महिला को संक्रमण व् बिमारियों से सुरक्षित रहने में मदद मिलती है।

विटामिन बी 6

गर्भावस्था के दौरान अधिकतर गर्भवती महिलाएं मॉर्निंग सिकनेस की समस्या से परेशान रहती है। लेकिन यदि महिला अमरुद का सेवन करती है तो महिला को इस परेशानी से बचे रहने में मदद मिलती है। क्योंकि अमरुद का सेवन करने से महिला को विटामिन बी 6 मिलता है जो महिला को इस परेशानी से बचे रहने में मदद करता है।

तनाव होता है दूर

प्रेगनेंसी के दौरान तनाव होना माँ और बच्चे दोनों के लिए हानिकारक होता है। लेकिन कुछ महिलाएं प्रेगनेंसी के दौरान इस परेशानी से ग्रसित हो जाती है ऐसे में इस परेशानी से निजात के लिए अमरुद का सेवन करना महिला के लिए फायदेमंद होता है। क्योंकि अमरुद मैग्नीशियम का बेहतरीन स्त्रोत होता है जो महिला को मानसिक रूप से सहमत और रिलैक्स रहने में मदद करता है।

कोलेस्ट्रॉल कण्ट्रोल

गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला यदि अमरुद का सेवन करती है तो इससे गर्भवती महिला के शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल को घटाने और गुड़ कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखने में मदद मिलती है जिससे माँ और बच्चा दोनों स्वस्थ रहने हैं। साथ ही इससे गर्भवती महिला को हदय सम्बन्धी परेशानी से बचे रहने में मदद मिलती है।

READ  प्रेगनेंसी में गिलोय खाने के नुकसान

बच्चे का विकास होता है बेहतर

अमरुद में फोलिक एसिड, आयरन, कैल्शियम, विटामिन जैसे पोषक तत्व भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं जो गर्भवती महिला को हेल्दी रखने के साथ गर्भ में शिशु के बेहतर विकास में भी मदद करते हैं।

तो यह हैं प्रेगनेंसी के दौरान अमरुद का सेवन करने से जुडी जानकारी, यदि आप भी माँ बनने वाली हैं और आपका भी अमरुद खाने का मन कर रहा है। तो ऊपर दिए गए टिप्स का ध्यान रखकर आप भी अमरुद का सेवन कर सकती है और उसके बेहतरीन फायदे उठा सकती है।

When and how to eat guava in pregnancy

Leave A Reply

Your email address will not be published.